Friday,06 August 2021   03:34 am
नव संवत्सर 2078: आज से शुरू हो रहे नवसंवत्सर 2078 का प्रभाव और भविष्यवाणी

नव संवत्सर 2078: आज से शुरू हो रहे नवसंवत्सर 2078 का प्रभाव और भविष्यवाणी

13-Apr-2021

इस बार 13 अप्रैल 2021 से नव संवत्सर 2078 की शुरूआत हो रही है। यह हिंदुओं का नववर्ष है। इसकी शुरूआत हिंदू धर्म के पंचाग के अनुसार चैत्र प्रतिपदा के पहले दिन से होती है। वहीं इसी दिन से चैत्र नवरात्रि 2021 का भी शुभारंभ होगा।

जानकारों के अनुसार हिंदू वर्ष 2077 प्रमादी नाम से जाना गया, ऐसे में इसके बाद इस बार 13 अप्रैल मंगलवार को आनंद संवत्सर का आरंभ होना चाहिए था, लेकिन 2077 का प्रमादी संवत्सर अपूर्ण रहने से यानि केवल फाल्गुन मास तक रहा।

हिंदू ग्रंथों के अनुसार, पुराणों में कुल 60 संवत्सरों का जिक्र है. इसके मुताबिक़ नवसंवत्सर यानी नवसंवत्सर 2078 का नाम आनंद होना चाहिए था. लेकिन ग्रहों के कुछ ऐसे योग बन रहे हैं जिसकी वजह से इस हिन्दू नववर्ष का नाम 'राक्षस' है. हिंदू नव वर्ष यानी कि नव संवत्सर की शुरुआत राजा विक्रमादित्य ने की थी, इसलिए इसे विक्रम संवत कहा जाता है. यह अंग्रेजी कैलेंडर से 57 साल आगे है. अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह वर्ष 2021 तो वहीं हिंदू पंचांग के अनुसार, यह नया साल यानी कि नवसंवत्सर 2078 है.

जबकि इसके बाद पड़ने वाला 'आनन्द' नाम का विलुप्त संवत्सर पूर्ण वत्सरी अमावस्या तक रहेगा। ऐसे में आगामी संवत्सर संवत 2078 जो राक्षस ( Rakshas Samvatsar ) नाम का होगा, वह चैत्र शुक्ल पक्ष प्रतिपदा तिथि से प्रारंभ होगा। यह संवत्सर 31 गते चैत्र तद अनुसार 13 अप्रैल 2021 मंगलवार से प्रारंभ होगा।

 इसके अलावा संवत्सर 2078 ( NavSamvatsar ) में बहुत ज्यादा गर्मी पड़ने व कम बरसात होने के संकेत हैं। वहीं इस साल की मंगल की केबिनेट में बृहस्पति यानि गुरु के पास वित्त विभाग रहेगा। व्यापार, व्यावसाय में प्रगति व आर्थिक वृद्धि होने से लोगों की जीवन शैली में सुधार होगा।


leave a comment