Thursday,28 October 2021   10:56 pm
Ganesh Chaturthi 2021: भगवान गणेश से सीखें ये 3 बातें, जीवन में पाएंगे कामयाबी

Ganesh Chaturthi 2021: भगवान गणेश से सीखें ये 3 बातें, जीवन में पाएंगे कामयाबी

13-Sep-2021

जीवन में सफल होने के लिए विनम्रता, धैर्य और तत्परता जैसे गुण जरूर होने चाहिए। भगवान गणेश हमें जिंदगी के हर पहलू पर नई सीख देते हैं। गणेश चतुर्थी पर आज हम ऐसे ही कुछ गुणों की बात करेंगे। प्रथम पूज्य गणपति (Ganpati) हर एक के जीवन (Life) में उतार-चढ़ाव में मार्गदर्शक होते हैं। पार्वती मां (Parwati Mata) और भगवान शिव (Lord Shiva) के बेटे गणेश (Son Ganesha) को विघ्नहर्ता (Vighnaharta) यानी कि परेशानियों को दूर करने वाला कहा जाता है। आइए गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi) के मौके पर आपको बताते हैं भगवान गणेश (Lord Ganesha) की Life से जुड़ी वो 3 बातें जो आपको Life में बनाएंगी सफल (Successful)।

रिश्तों को सम्मान देना है जरूरी : यह वह संस्था है, जिसका हिस्सा हम जन्म से पहले ही बन जाते हैं। गर्भ में आते ही हम मां-बाप, भाई-बहन जैसे रिश्तों में बंध जाते हैं। जबकि कुछ रिश्ते हम अपनी इच्छा से चुनते हैं, जैसे जीवनसाथी, दोस्त। भगवान गणेश हमें रिश्तों का सम्मान करना सिखाते हैं। फिर चाहें वह माता-पिता हों या अपने नन्हें मूषक दोस्त का। वे प्रथम पूजनीय होने के बाद भी अपने रिश्तों को सम्मान देना नहीं छोड़ता।  आपकी पोजीशन चाहें कितनी भी बड़ी हो, आप कितने भी संपन्न हो या आपकी कंपनी आपको चाहें जितना भी पैकेज दे रही हो, उसका गुमान रिश्तों के बीच नहीं आना चाहिए। भगवान गणेश आपको रिश्तों के प्रति विनम्र होना सिखाते हैं। 

 क्षमा ही परम गुण है :- जब आप तीस की उम्र तक पहुंचती हैं, तब तक आप और भी मेच्योर हो चुकी होती हैं। अब आपको सिर्फ गलती होने पर माफी मांगना ही नहीं आना चाहिए, बल्कि अपने से छोटों और अपने साथ के लोगों को माफ करना भी आना चाहिए। जैसे भगवान गणेश ने चंद्रमा को किया। 
बुलिंग आज का मामला नहीं है, बहुत समय से लोग इसे झेलते आ रहे हैं। मोटापे, स्टाइल या किसी भी वजह से लोग एक-दूसरे को बुली करते हैं। निश्चित रूप से यह अशोभनीय और बुरी बात है। मगर इसे पकड़ कर नहीं बैठना। इस तरह आपकी मेंटल हेल्थ प्रभावित हो सकती है और रिश्तों पर तो इसका असर आता ही है। इसलिए अपने दोस्तों, सहकर्मियों और जूनियर्स को भी एक निश्चित सीमा में माफ किया जा सकता है। पर एक चेतावनी के साथ। 

कर्तव्यों का पूरी निष्ठा से पालन करें  : कभी-कभी हमारे लॉजिक हमें अपने सीनियर्स को फॉलो करने से रोकते हैं। पर जब आप कॉरपोरेट के स्ट्रक्चर को समझेंगी तो समझ आएगा कि हाई पोजीशन पर पहुंचने की यात्रा आसान नहीं होती। वे लगभग उन्हीं अनुभवों से गुजरकर वहां तक पहुंचे हैं, जिनका सामना अभी आप कर रहीं हैं। हम अपवादों की बात नहीं कर रहे। सफलता की यात्रा अनुभव और सबक दोनों देती है। तो जब आपके सीनियर्स आपको कोई असाइनमेंट दें, तो उसके प्रति पूर तरह ईमानदार रहें और उसे प्राथमिकता पर पूरा करें। यह न केवल आपको तनावमुक्त रखेगा, बल्कि आपके आसपास का माहौल भी शांतिपूर्ण रहेगा। भगवान गणेश और माता पार्वती की कथा से आप समझ सकते हैं कि जब आप अपने बड़ों की आज्ञा का पालन करते हैं, तो वे भी आपके हक में लड़ने को तैयार रहते हैं। 

अपने स्वाभिमान की रक्षा करें :- लेडीज, यह आपको हमेशा याद रखना चाहिए। चाहें घर हो या कॉरपोरेट। अपने स्वाभिमान की रक्षा करना हमेशा जरूरी है। किसी भी ऐसी चीज के लिए हां न कहें, जिसे पूरा करना आपके लिए मुश्किल हो। ये किसी टॉक्सिक रिलेशन में बंधना या गलत नौकरी के लिए हां कहना, कुछ भी हो सकता है। 
कोरोनावायरस महामारी के कारण बहुत से लोगों को नौकरियों से हाथ धोना पड़ा। आप अकेली नहीं हैं, ऐसा बहुतों के साथ हुआ। इसलिए किसी भी तरह की शेमिंग को खुद पर हावी न होने दें। आज नहीं तो कल, आपको आपकी प्रतिभा के अनुसार पोजीशन और पैकेज जरूर मिलेगा। इसलिए निराश न हों और अपने सम्मान को बचाए रखें। 


leave a comment