Friday,03 December 2021   09:26 pm
जनवरी से रेस्टोरेंट में मेन्यू में डिश के साथ देनी होगी कैलोरी की भी जानकारी, FSSAI सख्त

जनवरी से रेस्टोरेंट में मेन्यू में डिश के साथ देनी होगी कैलोरी की भी जानकारी, FSSAI सख्त

28-Oct-2021

बढ़ते वजन को कंट्रोल करने के लिए लोग डाइटिंग और वर्कआउट का सहारा लेते हैं। इसके लिए नाना प्रकार की डायटिंग ट्रेंडिग में हैं। हालांकि, वजन कंट्रोल या कम करने के लिए डायटिंग के साथ-साथ कैलोरी काउंट भी जरूरी है। वहीं, कैलोरी गेन के समानुपात में कैलोरी बर्न कर बढ़ते वजन को आसानी से कंट्रोल किया जा सकता है। सही भोजन, बेहतर जीवन (ईट राइट इंडिया) के सरकारी अभियान के तहत एक महत्वपूर्ण बदलाव होने जा रहा है। आगामी जनवरी से रेस्तरां में खाने के दौरान दिए जाने वाले मेन्यू कार्ड में सिर्फ व्यंजनों की जानकारी नहीं होगी, बल्कि उसके साथ यह भी लिखा होगा कि किस व्यंजन में कितनी कैलोरी हैं। ताकि ग्राहक पूरी तरह से कैलोरी उपभोग से वाकिफ रहे। जनवरी 2022 से रेस्टोरेंट में मेन्यू में डिश से मिलने वाली कैलोरी की भी जानकारी देनी होगी।  भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (FSSAI) इसकी तैयारी कर रहा है। जल्द ही शाकाहारी उत्पादों के लिए वेगन लोगो (शुद्ध शाकाहारी होने का चिह्न) भी जारी किया जाएगा। यही नहीं, मेन्यू लेबलिंग करते समय पोषक तत्व (Nutrients) की मात्रा भी लिखनी होगी। फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया काफी समय से लेबलिंग रेगुलेशन (Labeling regulation) को ठीक करने का प्रयास कर रहा था। इसे अब नोटिफाई कर दिया गया है।

एफएसएसएआइ के सीईओ अरुण सिंघल ने बताया कि ईट राइट इंडिया अभियान के तहत ग्राहकों को पौष्टिक भोजन की सभी जानकारियां दी जाएंगी। जनवरी से जब उपभोक्ता किसी रेस्तरां में जाएंगे तो उन्हें दिए जाने वाले खाने की मात्रा के साथ यह भी जानकारी दी जाएगी कि किस खाने में कितनी कैलोरी हैं। रेस्तरां में दिए जाने वाले मेन्यू कार्ड में यह जानकारी उपलब्ध होगी।

सिंघल ने बताया कि घरेलू बाजार के लिए भी एक जोखिम प्रबंधन प्रणाली विकसित की जा रही है जिसके तहत घरेलू बाजार में बिकने वाले खाद्य पदार्थो के उत्पादकों का प्रोफाइल, खाद्य पदार्थों से जुड़ी सभी जानकारियां और उनसे जुड़ी मानक रिपोर्ट रखी जाएगी। इससे खाद्य सुरक्षा निरीक्षक के अनावश्यक निरीक्षण खत्म हो जाएंगे। उन्होंने बताया कि एफएसएसएआइ जल्द ही हमेशा के लिए लाइसेंस (परपीच्युअल लाइसेंस) की धारणा लेकर आ रहा है जिसके लागू होने के बाद लाइसेंस का नवीनीकरण कराने की जरूरत नहीं रहेगी। एफएसएसएआइ खाद्य जांच के लिए त्वरित किट पर फोकस कर रहा है।


leave a comment