Friday,28 January 2022   10:54 am
प्रदूषण पर SC की केंद्र और राज्यों को चेतावनी, 24 घंटे में कदम उठाइए, नहीं तो हम आदेश जारी करेंगे

प्रदूषण पर SC की केंद्र और राज्यों को चेतावनी, 24 घंटे में कदम उठाइए, नहीं तो हम आदेश जारी करेंगे

02-Dec-2021

नई दिल्ली (इंडिया)।  राजधानी दिल्ली में लगातार बिगड़ती वायु की गुणवत्ता पर सुप्रीम कोर्ट ने सख्त रवैया अपनाया। गुरुवार को शीर्ष अदालत ने केंद्र और दिल्ली सरकार को 24 घंटों के अंदर कार्रवाई की चेतावनी दी है। कोर्ट ने स्कूल खोले जाने पर दिल्ली सरकार को फटकार लगाई है। साथ ही अदालत ने सरकार से CNG बसों को लेकर भी सवाल किया। इससे पहले हुई सुनवाई में शीर्ष अदालत ने नियमों के अनुपालन के लिए टास्क फोर्स गठित करने की बात कही थी। अदालत दिल्ली के 17 वर्षीय छात्र आदित्य दुबे की तरफ से दिल्ली में बढ़ते वायु प्रदूषण को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई कर रही है।

CJI ने कड़ा रुख अपनाते हुए कहा कि हमें लग रहा है कुछ नहीं हो रहा है, प्रदूषण बढ़ रहा है, बस वक्त बर्बाद हो रहा है। जुर्माना लगाकर पैसा कमाना समस्या का समाधान नहीं है। मैं आप सबसे एक लेह मैन की तरह पूछना चाहता हूं वकील इतना बहस कर रहे हैं, हम आदेश पर आदेश जारी कर रहे हैं, तो फिर प्रदूषण बढ़ क्यों रहा है? उधर दिल्ली सरकार का कहना है कि वह प्रदूषण स्तर की जांच के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है। नवंबर में 1500 से अधिक पुराने प्रदूषणकारी वाहनों को जब्त किया गया था।

CJI ने पूछा, "हम जानना चाहते हैं कि कितने औद्योगिक स्थलों पर कार्रवाई की गई है? जब इस मुद्दे पर सुनवाई शुरू हुई तो AQAi निश्चित था, यदि आप जितने प्रयास बता रहे हैं उतने प्रयास किए गए हैं तो प्रदूषण क्यों बढ़ रहा है? यही साधारण प्रश्न है जो आम आदमी पूछेगा। वकीलों के इतने तर्क और इतने सारे सरकारी दावे, लेकिन प्रदूषण क्यों बढ़ रहा है?" जस्टिस चंद्रचूड़ ने क​हा, "आपने आयोग का गठन किया, आज आयोग बताए कि प्रदूषण का मुख्य स्रोत कौन सा है? आपके पास विज्ञान और डेटा है।" इसके जवाब में तुषार मेहता ने कहा कि औद्योगिक प्रदूषण और वाहनों से होने वाला प्रदूषण प्रमुख कारण है। इससे निपटने के लिए उद्योग बंद किए गए हैं। उधर ​सिंघवी का कहना है, "मुझे नहीं लगता कि प्रदूषण के कारणों पर कोई सहमति है। हमें इस मुद्दे पर किसी IIT से रिपोर्ट लेनी चाहिए।"

24 घंटे में फैसला लें सरकारें

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकारों को चेतावनी देते हुए कहा कि हम 24 घंटे दे रहे हैं। सरकारें प्रदूषण पर तुरंत कदम उठाएं। नहीं तो हम आदेश जारी करेंगे। कोर्ट ने कहा कि हम इंडस्ट्रियल प्रदूषण और ट्रांसपोर्ट प्रदूषण को लेकर चिंतित है। अब इस मामले में शुक्रवार को फिर सुनवाई होगी।

दरअसल, दिल्ली सरकार की ओर से कुछ युवाओं ने सड़क के किनारे खड़े होकर रेड लाइट पर 'कार का इंजन बंद' करने का संदेश दिया था। इन पोस्टर्स पर अरविंद केजरीवाल की भी फोटो थी। सुनवाई के दौरान जस्टिस सूर्यकांत ने युवाओं के प्रदर्शन को लेकर भी सरकार की फटकार लगाई।


leave a comment