Wednesday,28 September 2022   06:41 am
छत्तीसगढ़ में बेटियां सुरक्षित नहीं, कानून व्यवस्था है बदहाल : पूजा विधानी

छत्तीसगढ़ में बेटियां सुरक्षित नहीं, कानून व्यवस्था है बदहाल : पूजा विधानी

05-Jul-2022

रायपुर। महिला मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य पूजा विधानी ने प्रदेश में बेटियों के साथ बढ़ते अपराध के मामलों में चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि जिस तरह से प्रदेश में अनाचार व दुष्कर्म के मामले बढ़ रहे हैं यह बेहद ही चिंता का विषय है। मस्तूरी क्षेत्र के एक युवती के साथ अनाचार का मामला सामने आया है वह बेहद ही दुखद व पीड़ादायक है। इस मामले के आरोपियों को पुलिस पकड़ने में भी नाकाम है। भिलाई के तहसीलदार पर रेप का आरोप है। बिलासपुर के एक रेंजर सहित कुछ लोगों के सामूहिक अनाचार का मामला दर्ज हुआ हैं। वहीं जशपुर की एक युवती के अनाचार की घटना घटित हुआ है। भिलाई की एक 4 वर्षीय बच्ची के साथ दुराचार हुआ है। 

जांजगीर के पोड़ीभाटा के एक महिला की संदिग्ध हालत में लाश मिली है जिसके साथ दुष्कर्म की आशंका है। इसी तरह से चारामा में दुष्कर्म के एक मामले में आरोपी द्वारा पीड़िता को धमकाने का मामला सामने आया है। उन्होंने कहा कि यह चिंता का विषय है कि 1 जनवरी 2019 से 15 फरवरी 2022 तक प्रदेश में 5153 अनाचार के मामले दर्ज हुए है जो बेहद ही दुखद आंकड़ा है। औसतन इन 1110 दिनों में लगभग हर दिन 5 महिलाओं के साथ अनाचार की घटनाएं हुई है जो बताता है कि हर पाचवें घंटे में एक महिला अनाचार की शिकार हुई है जो बेहद ही दुखद व चिंताजनक है।

महिला मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य पूजा विधानी ने कहा कि प्रदेश में लगातार नशा की वजह से महिला अपराध के मामले बढ़ते जा रहे हैं। जिसके कारण प्रदेश की महिलाओं में भय का वातावरण व्याप्त है। उन्होंने कहा कि नेशनल क्राइम इन इंडिया के रिपोर्ट के मुताबिक बलात्कार के मामले में प्रदेश 6वें क्रम में है तो वहीं सामूहिक दुराचार के मामले में 12वें स्थान पर है। ये सब आंकड़े बताते है कि प्रदेश में महिला अपराध के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे है इस पर अंकुश लगाने की दिशा में कोई कदम नहीं उठाया जा रहा है। प्रदेश की कांग्रेस सरकार को तत्काल महिला सुरक्षा को लेकर ठोस कदम उठाना चाहिए। महिला सुरक्षा के नाम पर प्रदेश की कांग्रेस सरकार केवल राजनीति कर रही है।


leave a comment