Wednesday,06 July 2022   02:57 pm

कोरोनावायरस 1,523 की मौत; 67,535 के करीब संक्रमित, एक दिन में रिकॉर्ड 242 लोगों की मौत

15-Feb-2020

चीन में कोरोनावायरस के कहर से अब तक 1,523 लोगों की मौत हो गई। वहीं सिर्फ शुक्रवार को ही इस बीमारी से चीन में 143 लोगों की मौत हुई। इससे करीब कुल 67,535 लोग संक्रमित पाए गए हैं। स्थानीय स्वास्थ्य आयोग के अनुसार बुधवार को हुबेई प्रांत में कोरोना वायरस के 14,840 नए मामले सामने आए हैं। रकारी समाचार एजेंसी ‘शिन्हुआ’ के अनुसार प्रांत में इससे रिकॉर्ड 242 लोगों की जान चली गई। प्रांत में इसके 48,206 मामलों की पुष्टि होने से इसके तेजी से फैलने को लेकर चिंता बढ़ गई है। इसको लेकर WHO ने कहा- सभी वैज्ञानिकों को एक साथ आकर इससे लड़ने की कोशिशें जारी रखनी होंगी। उधर मिस्र में भी घातक कोरोना वायरस से संक्रमित पहले मामले की पुष्टि हुई है। इस वायरस का डर इस कदर फैला है कि लोग कहीं भी टहलने जा रहे हैं तो अपने साथ-साथ अपने पालतू जानवरों तक को मास्क पहना रहे हैं। वहीं मास्क पहने कुत्ते और बिल्लियों के फोटो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है। बता दें कि कोरोना वायरस के पुष्ट मामलों की संख्या 64894 पहुंच गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूचओ) के अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञों की एक टीम आपात स्वास्थ्य स्थितियों से निपटने के लिए प्रभारी ब्रूस एलवर्ड के नेतृत्व में सोमवार रात यहां पहुंची थी। टीम ने कोरोना वायरस के प्रकोप से निपटने को लेकर चीनी स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ मिलकर काम शुरू कर दिया है।

इस दुर्लभ जानवर से फैला है Corona Virus, चीनी शोध में वैज्ञानिकों का हुआ खुलासा

14-Feb-2020

चीन से फैले कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में दस्तक दे दी है। इस वायरस ने चीन को तो लगभग तोड़कर रख दिया है। लोगों की जान के साथ-साथ इससे आर्थिक नुकसान भी हो रहा है। चीनी सरकार इस पर रोक के लिए तमाम प्रयास कर रही है मगर अब तक कोई कामयाबी नहीं मिल पाई है। फिलहाल वायरस से प्रभावित लोगों के इलाज के लिए सरकार ने दो नए अस्पताल बनवा दिए हैं, वहां मरीजों की लाइन लग गई है। ऐसा नहीं है कि कोरोना वायरस से मरीज सिर्फ मर ही रहे हैं, लोग ठीक होकर अपने घरों को भी जा रहे हैं। अब तक दो हजार से अधिक लोग ठीक होकर अपने घरों को जा चुके हैं। जानते हैं कि कोरोना वायरस के फैलने और उसके पीछे कौन-कौन से कारण जिम्मेदार बताए जा रहे हैं।

अब इस कयास को दरकिनार करते हुए चीन के एक शोध में खुलासा हुआ है कि इंसानों में कोरोना वायरस पैंगोलिन (Pengolin) से पहुंचा है यह पहली बार है जब इस दुर्लभ जानवर से इंसानों में कोरोना वायरस फैलने का दावा किया जा रहा है चीन के साउथ चाइना एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों का दावा है कि इंसान में पाए गए कोरोना वायरस का डीएनए पैंगोलिन में पाए जाने वाले डीएनए से 99% मैच कर रहा है वैज्ञानिकों का दावा है कि इंसानों में कोरोना वायरस इस जानवर से आया है इससे पहले कुछ वैज्ञानिकों के दावा किया था कि कोरोना वायरस चमकादड से इंसानों में प्रवेश हुआ होगा हालांकि अभी तक यह शोध प्रकाशित नहीं हुआ है।

चीनी शहर वुहान में दिसंबर में कोरोना वायरस का प्रकोप उभरा था। माना जा रहा था कि सीफूड और जंगली जानवरों के बाजार में बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं। यहीं पर संक्रमित होने वाले कई लोग काम करते थे। हालांकि, पैंगोलिन बाजार में बेची जाने वाली चीजों में सूचीबद्ध नहीं था, लेकिन इसकी अवैध बिक्री की जाती रही है। पिछले महीने, बीजिंग में वैज्ञानिकों ने दावा किया कि सांप कोरोना वायरस का स्रोत थे, लेकिन उस सिद्धांत को अन्य शोधकर्ताओं ने खारिज कर दिया। उधर, विश्वविद्यालय के अध्यक्ष लियू याहॉन्ग ने बताया कि कोरोना वायरस को नियंत्रित करने के प्रयासों में मदद के लिए शोध के परिणाम जल्द ही प्रकाशित किए जाएंगे।

चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 1,488 हुई

14-Feb-2020

चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 1,483 पर पहुंच गई। इससे संक्रमित 51,986 कुल मामलें सामने आए। वहीं इस वायरस ने एक दिन में हुबेई प्रांत के 4823 लोगों को संक्रमित किया। जबकि 116 लोगों की मौत हुई। वहीं चीन में सरकार ये मान चुकी है कि वुहान में कुल कितने लोग कोरोनावायरस से संक्रमित हैं? इस बात की जानकारी सरकार के पास नहीं है।

रिपोर्ट के मुताबिक प्रांत में कुल पुष्ट मामलों की संख्या 51,986 पर पहुंच गई और इसके साथ ही देश में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 64,627 हो गए। राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने अब तक कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों की संख्या नहीं बताई है। बृहस्पतिवार को आयोग ने घोषणा की कि चीन के हुबेई प्रांत में घातक कोरोना वायरस से एक ही दिन में रिकॉर्ड 242 लोगों की मौत हो गई। चीन में कोरोना वायरस पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इंटरनेशनल हेल्थ इमरजेंसी की घोषणा कर दी है। वहीं अब जापान के योकोहामा तट पर खड़े डायमंड प्रिंसेज क्रूज में 2 भारतीय भी इस वायरस की चपेट में आ गए हैं। क्रूज पर 3711 लोग सवार हैं जिनमें 2666 गेस्ट और 1045 चालक दल के सदस्य हैं। इसमें 132 चालक दल के सदस्य और 6 यात्री भारतीय नागरिक हैं। भारत के क्रू मेंबर्स ने प्रधानमंत्री मोदी से खुद को बचाने की गुहार लगाई है। कोरोना वायरस से जुड़ी खबरें और अपडेट्स पढ़ने के लिए www.Fesn.in पेज को रीफ्रेश करते रहें।

Bill Gates ने खरीदी 4,600 करोड़ की Luxurious Superyat, एक बार फ्यूल भरने पर 6 हजार किमी चलेगा

11-Feb-2020

माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक और दुनिया के दूसरे सबसे दौलतमंद शख्स और बिल गेट्स ने एक बेहद ही शानदार सुपरयॉट खरीदा है। यह सुपरयॉट केवल तरल हाइड्रोजन से चलता है। इस सुपरयॉट से कार्बन नहीं सिर्फ पानी का ही उत्सर्जन होता है। 370 फीट लंबी इस सुपरयॉट की कीमत  645 मिलियन डॉलर (करीब 4,600 करोड़ रुपये) बताई जा रही है।

बीते साल ही इस सुपरयॉट की योजना मोनेको यॉट शो में जारी किया गया था। यह अब तक के सबसे महंगे सुपरयॉट में से एक है। हालांकि, गेट्स के सपनों की यह सुपरयॉट 2024 तक बनकर तैयार हो पाएगी। बताया जा रहा है कि यह यॉट एक बार ईंधन भरने के बाद तकरीबन 6500 किमी तक का सफर बिना रुके कर पाएगी।

खासियत

अधिकतम स्पीड- 17 नॉट (31 किमी प्रति घंटा)

क्रूज स्पीड- 10-12 नॉट

रेंज-  3750 नॉटिकल माइल्स

ईंधन - लिक्विफाइड हाइड्रोजन

मेहमान - 14 लोग

क्रू और क्षमता- 31 लोग। 14 डबल क्रू केबिन, 2 ऑफिसर केबिन , एक केप्टन का केबिन। 4 गेस्ट स्टेट रूम, 2 वीआईपी स्टेट रूम, एक ऑनर पवेलियन।

64 वर्षीय बिल गेट्स द्वारा खरीदे गए इस सुपरयॉट में 5 डेक हैं, जिसमें 14 मेहमानों और 31 क्रू मेंबर सफर कर सकते हैं। लग्जरी सुविधाओं से लैस इस यॉट में एक जिम, योग स्टूडियो, ब्युटी रूम, मसाज पार्लर और कैस्केडिंग स्वीमिंग पूल भी होगा। हालांकि, इस सुपरयॉट में सबसे खास चीज 28 टन के दो सील्ड टैंक हैं। इन दोनों टैंक का तापमान करीब -253 डिग्री सेल्सियस है। इनमें तरल हाइड्रोजन है, ?जिनसे पूरे सुपरयॉट को ताकत मिलती है।

डोनाल्ड ट्रंप की बड़ी जीत, महाभियोग के आरोपों से सीनेट ने किया बरी

07-Feb-2020

डोनाल्ड ट्रंप के सहयोगियों रिपब्लिकन के बहुमत वाले सीनेट ने शक्ति के दुरुपयोग के आरोप को 52-48 के अंतर से खारिज किया। दूसरे आरोप कांग्रेस (संसद) की कार्रवाई बाधित करने के आरोप से 53-47 वोट के अंतर से खारिज किया गया। डोनाल्ड ट्रंप महाभियोग का आरोप लगने के बावजूद दोबारा राष्ट्रपति चुनाव लड़ने वाले पहले व्यक्ति हैं।

महाभियोग क्या है?

अमरीकी संविधान के अनुसार राष्ट्रपति को देशद्रोह, रिश्वत तथा दूसरे कुछ संगीन अपराधों में महाभियोग का सामना करना पड़ता है। अमरीका में महाभियोग की प्रक्रिया हाउस ऑफ रिप्रेजेटेटिव्स से शुरू होती है। इसे पास करने के लिए साधारण बहुमत की जरूरत पड़ती है। सीनेट में महाभियोग चलाने हेतु एक सुनवाई होती है लेकिन यहां महाभियोग को मंजूरी देने हेतु दो तिहाई बहुमत की जरूरत पड़ती है। अमरीकी इतिहास में अभी तक किसी भी राष्ट्रपति को महाभियोग के जरिए हटाया नहीं जा सका है।

डोनाल्ड ट्रंप महाभियोग का आरोप लगने के बावजूद दोबारा राष्ट्रपति चुनाव लड़ने वाले पहले व्यक्ति हैं। ट्रंप ने बुधवार को कांग्रेस के दोनों सदनों को संबोधित करते हुए कहा कि देश एक बार फिर बेहद सम्मानित तरीके से आगे बढ़ रहा है। ट्रम्प ने अपने करीब एक घंटे के संबोधन में कहा, ‘हम उस रफ्तार से आगे बढ़ रहे हैं, जिसकी कुछ समय पहले तक कल्पना करना मुश्किल था और अब हम पीछे नहीं मुड़ने वाले।'

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि उनके नेतृत्व में नौकरियां बढ़ रही है, आय बढ़ रही है, गरीबी कम हुई है और हमारा देश बेहद सम्मानित तरीके से आगे बढ़ रहा है। राष्ट्रपति ने कहा कि खराब अर्थव्यवस्था के साल अब लद गए हैं। झूठे वादों, बेरोजगारी और अमेरिकियों की सम्पत्ति, ताकत और प्रतिष्ठा में कमी आने की बहानेबाजी के दिन भी अब बीत गए।

डोनाल्ड ट्रंप की बड़ी जीत, महाभियोग के आरोपों से सीनेट ने किया बरी

07-Feb-2020

डोनाल्ड ट्रंप के सहयोगियों रिपब्लिकन के बहुमत वाले सीनेट ने शक्ति के दुरुपयोग के आरोप को 52-48 के अंतर से खारिज किया। दूसरे आरोप कांग्रेस (संसद) की कार्रवाई बाधित करने के आरोप से 53-47 वोट के अंतर से खारिज किया गया। डोनाल्ड ट्रंप महाभियोग का आरोप लगने के बावजूद दोबारा राष्ट्रपति चुनाव लड़ने वाले पहले व्यक्ति हैं।

महाभियोग क्या है?

अमरीकी संविधान के अनुसार राष्ट्रपति को देशद्रोह, रिश्वत तथा दूसरे कुछ संगीन अपराधों में महाभियोग का सामना करना पड़ता है। अमरीका में महाभियोग की प्रक्रिया हाउस ऑफ रिप्रेजेटेटिव्स से शुरू होती है। इसे पास करने के लिए साधारण बहुमत की जरूरत पड़ती है। सीनेट में महाभियोग चलाने हेतु एक सुनवाई होती है लेकिन यहां महाभियोग को मंजूरी देने हेतु दो तिहाई बहुमत की जरूरत पड़ती है। अमरीकी इतिहास में अभी तक किसी भी राष्ट्रपति को महाभियोग के जरिए हटाया नहीं जा सका है।

डोनाल्ड ट्रंप महाभियोग का आरोप लगने के बावजूद दोबारा राष्ट्रपति चुनाव लड़ने वाले पहले व्यक्ति हैं। ट्रंप ने बुधवार को कांग्रेस के दोनों सदनों को संबोधित करते हुए कहा कि देश एक बार फिर बेहद सम्मानित तरीके से आगे बढ़ रहा है। ट्रम्प ने अपने करीब एक घंटे के संबोधन में कहा, ‘हम उस रफ्तार से आगे बढ़ रहे हैं, जिसकी कुछ समय पहले तक कल्पना करना मुश्किल था और अब हम पीछे नहीं मुड़ने वाले।'

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि उनके नेतृत्व में नौकरियां बढ़ रही है, आय बढ़ रही है, गरीबी कम हुई है और हमारा देश बेहद सम्मानित तरीके से आगे बढ़ रहा है। राष्ट्रपति ने कहा कि खराब अर्थव्यवस्था के साल अब लद गए हैं। झूठे वादों, बेरोजगारी और अमेरिकियों की सम्पत्ति, ताकत और प्रतिष्ठा में कमी आने की बहानेबाजी के दिन भी अब बीत गए।

चीन ने बनाया अपना 'नकली सूरज', होगा असली सूरज से 13 गुना ज्यादा गर्म

07-Feb-2020

इस दुनिया में अगर हम दिन और रात का फर्क कर पाते हैं तो उसकी सिर्फ एक वजह है सूर्य (सूरज) जो इंसानों को ही नहीं बल्कि पेड़ पौधों को भी जीवित रहने के लिए ऊर्जा देता है, लेकिन क्या आपको पता है चीन के वैज्ञानिकों ने एक कृत्रिम सूर्य का निर्माण कर लिया है।  यह सूर्य भी असली सूरज की तरह ही प्रकाशमान होगा। ये एक ऐसा परमाणु फ्यूजन (nuclear fusion) है, जो असली सूरज से 13 गुना ज्यादा ऊर्जा देगा। कई सालों से चली आ रही ये रिसर्च (research) हाल ही में पूरी हुई है। माना जा रहा है, कि इसी साल यानी 2020 में चीन इस कृत्रिम सूरज का इस्तेमाल शुरू कर देगा। 

कृत्रिम सूरज को HL-2M नाम दिया गया है, जिसे चाइना नेशनल न्यूक्लियर कॉर्पोरेशन (China National Nuclear Corporation) और साउथवेस्टर्न इंस्टीट्यूट ऑफ फिजिक्स (Southwestern Institute of Physics) के वैज्ञानिकों ने मिलकर बनाया है। बता दें कि कृत्रिम सूरज बनाने की ये कोशिश काफी सालों से चली आ रही थी, ताकि प्रतिकूल मौसम में भी सोलर एनर्जी बनाई जा सके और उसका इस्तेमाल हो सके।

कृत्रिम सूरज को HL-2M नाम दिया गया है, जिसे चाइना नेशनल न्यूक्लियर कॉर्पोरेशन (China National Nuclear Corporation) और साउथवेस्टर्न इंस्टीट्यूट ऑफ फिजिक्स (Southwestern Institute of Physics) के वैज्ञानिकों ने मिलकर बनाया है। कृत्रिम सूरज बनाने की ये कोशिश काफी सालों से चली आ रही थी, ताकि प्रतिकूल मौसम में भी सोलर एनर्जी बनाई जा सके और उसका इस्तेमाल हो सके। इसके इतने गर्म होने का कारण परमाणु संलयन (फ्यूजन) है क्योंकि रिएक्टर परमाणु संलयन प्रतिक्रियाओं को संचालित करता है। बता दें कि परमाणु फ्यूजन संचित परमाणु ऊर्जा को फ्यूज करने के लिए बाध्य करते हैं और इस प्रक्रिया में एक टन गर्मी उत्पन्न होती है।

अगर ये प्रयोग लागू किया जा सके तो जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता कम होगी। ये भी माना जा रहा है कि इस सूरज में उत्पन्न की गई नाभिकीय ऊर्जा को विशेष तकनीक से पर्यावरण के लिये सुरक्षित ग्रीन ऊर्जा में बदला जा सकेगा। जिससे धरती पर ऊर्जा का बढ़ता संकट तरीकों से दूर किया जा सकेगा।

50 साल की 'दादी मां' ने जीता मिसेज ग्रैंडमा ब्यूटी कॉन्टेस्ट

03-Feb-2020

उम्र के साथ इंसान की खूबसूरती का ढलना नैचुरल है, लेकिन धरती पर एक महिला ऐसी भी है जिसकी उम्र ढलने का नाम ही नहीं ले रही है। यूरोप की 50 वर्षीय येकातरीना येजिना की खूबसूरती के आगे आज भी जवां मॉडल्स फीकी नजर आती हैं। उनकी उम्र मानो थम सी गई है। येकातरीना ने पिछले महीने बुल्गारिया में आयोजित 'मिसेज ग्रैंडमा यूरोप' इंटरनेशनल ब्यूटी कॉन्टेस्ट जीतकर मॉडलिंग जगत में सनसनी मचा दी है। आपको जानकर हैरानी होगी कि येकातेरिना न सिर्फ दो बच्चों की मां हैं बल्कि एक बच्चे की दादी भी हैं। बता दें कि उन्होंने इस प्रतियोगिता में नेशनल ड्रेस कॉस्ट्यूम, शानदार फिगर और जैज सॉन्ग पर दिए परफॉर्मेंस और खूबसूरती के दम पर बाजी मारी है।

मिसेज ग्रैंडमा यूनिवर्स के मुताबिक, इस ब्यूटी कॉन्टेस्ट में  40 साल की 30 सुंदरियों ने हिस्सा लिया था। मॉडल्स साउथ कोरिया, सिंगापुर, यूक्रेन, एस्टोनिया और भारत से इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने पहुंची थीं। लेकिन नेशनल ड्रेस कॉस्ट्यूम, शानदार फिगर और जैज सॉन्ग पर दिए परफॉर्मेंस के दम पर येकातरीना ने इस कॉन्टेस्ट में बाजी मार ली।

येकातेरिना मॉस्को के दक्षिण से करीब 200 किलोमीटर दूर रियाजान में रहती हैं। इतनी दूर रहने के बावजूद वह हेल्दी फूड डिलीवरी सिस्टम को अच्छे से मैनेज कर पाती हैं। येकातरीना घूमने-फिरने की काफी शौकीन हैं और उन्हें अलग-अलग बीचों से तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर करना काफी पसंद है।

येकातरीना को ट्रेडिशनल हिजाब पहनने की बजाए बाइक पर घूमना-फिरना और जिम में एक्सरसाइज करना ज्यादा पसंद है। शायद यही वजह है कि उनकी जवानी 50 साल की उम्र में भी ढलने का नाम नहीं ले रही है।

WHO ने कोरोना वायरस को वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित किया, अब तक 213 लोगों की मौत

01-Feb-2020

चीन में कोरोना वायरस के फैले आतंक के मद्देनजर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने बड़ा कदम उठाया है। WHO ने अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य आपातकाल ( International Health Emergency ) घोषित कर दिया है। WHO की अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य नियमन आपात समिति ने एक बैठक में इस मामले पर निर्णय ( Coronavirus Emergency Declared ) लिया। डब्ल्यूएचओ की अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य नियमन आपात समिति की बैठक में इस पर निर्णय लिया गया। संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य के महानिदेशक डॉ. टेडरस एडहेनम ने ट्वीट कर बताया कि मै कोरोना वायरस को अंतर्राष्ट्रीय चिंता मानते हुए अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य आपातकाल घोषित करता हूं। इस वायरस की चपेट में आने से अब तक 213 लोगों की जान जा चुकी है। चीन समेत विश्व में कोरोना वायरस का प्रकोप बढ़ता जा रहा है और अब तक 9720 मामले चीन से है, जहां से इस वायरस का प्रसार हुआ है।  विदेशों में 100 मामले सामने आए है। कई देशों ने अपने नागरिकों से वुहान नहीं जाने के लिए कहा है। कई देशों ने वुहान से आने वाले लोगों पर भी प्रतिबंध लगा दिया है। रूस ने चीन के साथ अपने पूर्वी बॉर्डर को भी बंद कर दिया है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसका ऐलान करते हुए बताया कि दुनियाभर में कोरोना वायरस संक्रमण के 8,200 से अधिक मामले सामने आए हैं। इसको ध्यान में रखते हुए कोरोना वायरस को एक वैश्विक स्वास्थ्य आपात घोषित किया जाना चाहिए।

ईरान के बंदर-ए-महशहर में रनवे के बजाय सड़क पर उतर गया यात्री विमान, सभी 135 पैसेंजर सुरक्षित

31-Jan-2020

तेहरान  तेहरान से ईरान के बंदर-ए-महशहर शहर आ रहे एक यात्री विमान सोमवार को अचानक रनवे के बजाय सड़क पर उतर गया। इससे घटनास्थल पर मौजूद आसपास के लोग डर गए। इन लोगों ने तब राहत की सांस ली, जब पता चला कि विमान में सवार सभी 135 यात्री सुरक्षित हैं। विमान तेहरान से महशहर ही आ रहा था। हादसे में डबल इंजन विमान के चक्के टूट गए। कुछ यात्रियों को मुख्य दरवाजे, जबकि अन्य को इमरजेंसी दरवाजे से बाहर लाया गया। आग लगने की आशंका के बीच दमकल कर्मियों ने विमान पर स्प्रे का छिड़काव किया। सड़क का ट्रैफिक दूसरी ओर मोड़ दिया गया। अधिकारियों के मुताबिक, विमान को एयरपोर्ट पर उतरना था। लेकिन गलती से सड़क पर उतर गया। 

माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स की बेटी ने मिस्र के रईस से की सगाई, सोशल मीडिया पर वायरल

31-Jan-2020

मोहब्बत करना और उसे अंजाम तक पहुंचाना दो अलग-अलग बातें हैं। मोहब्बत के अंजाम तक पहुंचने के बाद जिस खुशी का अहसास होता है उसकी जगह दुनिया की कोई भी खुशी नहीं ले सकती। मोहब्बत में पड़े आप जिस खूबसूरत जोड़ी को तस्वीरों में देख रहे हैं, उन्होंने भी अपनी मोहब्बत को अंजाम तक पहुंचाया है।

बता दें कि जेनिफर और नास्सार लंबे समय से साथ हैं। जेनिफर ने एक साक्षात्कार के दौरान कहा था, यह खास है। घोड़े हमारे जीवन का एक हिस्सा भर हैं लेकिन हम इस खेल से प्यार करते हैं। वह (नास्सार) एक पेशेवर हैं और मैं इस खेल में अभी नौसिखिया हूं। इसलिए, एक दूसरे के साथ घोड़ों के लिए हमारे प्यार और जुनून को साझा करने में सक्षम होना अविश्वसनीय है।

तस्वीरों में दिख रहा शख्स दुनिया के सबसे अमीर कारोबारी बिल गेट्स की बेटी जेनिफर गेट्स के होने वाले पति अरबपति नायल नस्सार हैं। दोनों की सगाई हो गई है। पिछले चार सालों से दोनों रिलेशनशिप में थे। तस्वीर में उनके हाथ में हीरे की अंगूठी साफ देखी जा सकती हैं।

नायल नस्सार मिस्र मूल के हैं और उनका बचपन कुवैत में गुजरा, जहां उनके पिता का व्यवसाय था। नस्सार को घुड़सवारी का बहुत शौक है। वे कई विश्व प्रतिस्पर्धाओं में भाग ले चुके हैं। 2009 में उनका परिवार अमेरिका के केलिफोर्निया में बस गया। घुड़सवारी के जुनून के कारण ही नस्सार और जेनिफर एक दूसरे के करीब आए।

सरकार ने बताया कोरोना वायरस का आयुर्वेदिक इलाज, कहा इन दवाओं का करें इस्तेमाल

30-Jan-2020

नई दिल्ली, इंडिया। चीन के वुहान शहर से फैल रहा कोरोना वायरस (corona virus) अब तक करीब 132 लोगों की जान ले चुका है। कोरोना वायरस के कई मामले चीन से बाहर भी देखने को मिल रहे हैं। चीन की सीमाओं के बाहर वायरस का खतरा बढ़ते देख भारतीय हवाई अड्डों पर हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है।

आयुष मंत्रालय (Ministry of AYUSH) के अंतर्गत रिसर्च काउंसिल ने आयुर्वेद, होम्योपैथी और यूनानी चिकित्सा (Unani Medicines) के फायदों के बारे में बताते हुए एडवाइजरी भी जारी की है।

एडवाइजरी में गया है कि कई यूनानी दवाएं कोरोना वायरस के संक्रमण से लड़ने के लिए कारगर हैं। सलाह में कहा गया है कि  रिपोर्ट के अनुसार आयुर्वेद की सलाह में शदांग पनिया (मुस्ता, परपाट, उशीर, चंदन, उदया गर्म पानी के साथ एक दिन में शेषमणि वटी 500 मिलीग्राम दिन में दो बार त्रिकटु (पिप्पली, मारीच और शुंठी) पाउडर 5 ग्राम और तुलसी 3-5 पत्ते की सलाह दी गई है। मंत्रालय ने आगाह किया कि इसे केवल पंजीकृत आयुर्वेद चिकित्सकों के परामर्श से अपनाया जाएगा। सरकार की इस एडवाइजरी की सोशल मीडिया पर भी चर्चा है।

मंत्रालय ने कहा कि 28 जनवरी को अपने वैज्ञानिक सलाहकार बोर्ड की एक बैठक के बाद सेंट्रल काउंसिल फॉर रिसर्च इन होम्योपैथी ने सिफारिश की थी। कहा गया है होम्योपैथी दवा आर्सेनिकम एल्बम 30 को कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ रोगनिरोधी दवा के रूप में लिया जा सकता है। इसे रोजाना तीन दिनों तक खाली पेट में लेना चाहिए।

मंत्रालय ने शरबत उन्नाब 10-20 मिली दिन में दो बार तिर्यक अरबा 3-5 ग्राम दिन में दो बार तिर्यक नजला 5 ग्राम दिन में दो बार और खमीरा मर्वर 3-5 ग्राम एक बार सहित कई दवाओं को सूचीबद्ध किया है। रोगन और रूहान मॉम / कफूरी बाम के साथ सिर और छाती पर मालिश की सलाह दी है।

Coronavirus Precaution Tips : ऐसे बचें कोरोनावायरस से :-

  • 1-कोरोना नाम के वायरस से बचने के लिए खुद की स्वच्छता बनाए रखें।
  • 2-अपने हाथों को साबुन और पानी से कम से कम 20 सेकंड तक धोएं।
  • 3-शदांग पनिया (मुस्ता, परपाट, उशीर, चंदन, उडिय़ा और नागर) 10 ग्राम पाउडर 1 लीटर पानी को उबालकर आधे बचे हुए पानी में मिलाकर पी लें। इस पानी को आप एक बोतल में स्टोर करके भी रख सकते हैं और प्यास लगने पर पिएं।
  • -अपनी आंखें, नाक और मुंह को बार-बार हाथों से न छूएं।
  • संक्रमित लोगों के संपर्क में आने से बचें।
  • -यदि आप बीमार हैं तो बेहतर होगा ाघर पर ही रहकर आराम करें।
  • -खांसी या छींक के दौरान अपना चेहरा ढंक लें और खांसने या छींकने के बाद अपने हाथों को धो लें।
  • -संक्रमण से बचने के लिए सार्वजनिक स्थानों पर यात्रा करते समय या काम करते समय एन 95 मास्क का उपयोग करें।
  • -यदि आपको संदेह है कि आप कोरोना वायरस के संक्रमण में आ चुके हैं तो तुरंत अपना मास्क पहनकर नजदीकी अस्पताल से संपर्क करें।

आयुर्वेद के इन नुस्खों को अपनाएं

  • इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाए रखने के लिए हेल्दी डाइट और लाइफस्टाल को फॉलो करें।
  • 5 ग्राम अगस्त्य हरीत की रोजाना दिन में 2 बार गर्म पानी के साथ लें।
  • दिन में दो बार रोजाना 500 ग्राम संशमनी वटी का सेवन करें।
  • काली मिर्च और अदरक से बने त्रिकटु का 5 ग्राम पाउडर तुलसी की 3 से 5 पत्तियों के साथ गर्म पानी में मिलाकर लें।
  • अणु तेल और सीसम के तेल की दो-दो बूंदें रोजाना सुबह नाक में डालें।

10 से ज्यादा देशों में कोरोना वायरस के मामले, अब तक 80 की मौत, चीनी नए साल की छुट्टियां बढ़ी

27-Jan-2020

चीन में वैज्ञानिक प्राणघातक कोरानावायरस के खिलाफ टीका विकसित करने का प्रयास कर रहे हैं। इस बीच रविवार को इस विषाणु से अकेले चीन में मरने वालों की तादाद 80 हो गई, वहीं सार्स जैसे विषाणु से संक्रमित होने वालों की संख्या 3000 पहुंचने की आशंका हैं जिसके मद्देनजर प्रशासन ने महामारी को फैलने से रोकने के लिए यात्रा प्रतिबंधों में विस्तार किया है। इसके साथ ही चीन के लूनर न्यू ईयर की छुट्टियों को भी बढ़ा दिया गया है।

हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान 1।1 करोड़ आबादी वाला शहर है और संक्रमण का मुख्य केंद्र हैं। हुबेई के महापौर ने रविवार को बताया कि 56 लोगों की मौत हुई है, 1975 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है जबकि शहर में 1,000 नए मरीज होने की आशंका है। यह जानकारी सरकारी प्रसारक सीसीटीवी ने दी। महापौर झोउ शियांवांग ने कहा, ”यह संभव है कि करीब एक हजार विषाणु संक्रमण के मामले हैं।” उन्होंने यह दावा अस्पतालों में मरीजों के परीक्षण और निगरानी में रखे गए लोगों के आधार पर किया है।

चीन ने 13 शहर में लगाया यात्रा प्रतिबंध, 4।1 करोड़ लोग प्रभावित

वायरस के फैलने की आशंका को देखते हुए और इस पर नियंत्रण करने के मद्देनजर इससे प्रभावित शहर के आसपास मौजूद चार और शहरों में शुक्रवार को यात्रा प्रतिबंध लगा दिया, जिससे यात्रा प्रतिबंध वाले शहरों की संख्या बढ़कर 13 हो गई है और इसके कारण इन शहरों में रह रही करीब 4।1 करोड़ की आबादी प्रभावित है।

हांगकांग स्थित ‘साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट’ ने शुक्रवार को बताया कि स्थानीय सरकारों की ओर से जारी नोटिस के अनुसार हुबेई प्रांत में आठ शहरों- हुआगांग, एझाओ, चीबी, शिआताओ, झिजियांग, छिनजिआंग, लिचुआन और वुहान में सार्वजनिक परिवहन को रोकने की घोषणा की गई है। इन शहरों में मनोरंजन केंद्र, सिनेमाघर, इंटरनेट कैफे और अन्य केंद्रों को भी बंद करने का आदेश दिया गया है। चीन ने बीजिंग के फॉरबिडन सिटी को भी बंद करने का फैसला किया है। यह सांस्कृतिक स्थलों का केंद्र है। अगले निर्देश मिलने तक इंपीरियल पैलेस शनिवार तक बंद रहेगा।

देश में सबसे ज्यादा प्रभावित वुहान के रेलवे स्टेशन पर पुलिस, स्वाट टीम और अर्द्धसैन्य कर्मियों को तैनात किया गया है। सुबह में अवरोधक लगाकर प्रवेश को बंद कर दिया गया। सड़कों, शॉपिंग मॉल, रेस्तरां और अन्य स्थानों पर आम तौर पर भीड़ रहती है लेकिन 1।1 करोड़ आबादी वाले इस शहर में बिल्कुल सन्नाटा पसरा है। सारे सार्वजनिक स्थानों को बंद कर दिया गया है। इसके अलावा मध्य हुबेई प्रांत में स्थित शियानिंग, शियाओगन, एन्शी और झिजियांग शहरों में अधिकारियों ने बताया कि बस एवं रेलवे स्टेशन समेत सार्वजनिक परिवहन बंद रहेंगे। हुबेई प्रांत में ही इस वायरस का सबसे पहले पता चला था। 550,000 की आबादी वाले झिजियांग ने दवा की दुकानों को छोड़कर लगभग सभी कारोबारों को बंद रखने की घोषणा की जबकि 800,000 की आबादी वाले एन्शी ने सभी मनोरंजन स्थलों को बंद कर दिया है।

चीन में अपने बच्चों को लेकर भारतीय परिजन चिंतित, दूतावास ने जारी किए हॉटलाइन नंबर

24-Jan-2020

कोरोनावायरस का फैलना भारत के लिए चिंता के रूप में देखा जा रहा है क्योंकि वुहान में करीब 700 भारतीय छात्र रहते हैं। इन छात्रों में ज्यादातर चीनी विश्वविद्यालयों में मेडिकल की पढ़ाई करते हैं। चीन में कोरोनावायरस से अब तक 25 की जान चली गई है और इससे 830 लोगों संक्रमित है। 

एक भारतीय पिता कुमारन ने ट्वीटर के माध्यम से बृहस्पतिवार को विदेश मंत्री और अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि  ‘मेरी बेटी और उसके दोस्त वुहान मेडिकल यूनिवर्सिटी में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे हैं। शटडाउन की वजह से सभी भारतीय विद्यार्थी बेसहारा हैं और भटक रहे ह्रैं। कृपया उनकी मदद करें।’

इसके जवाब में विदेश सचिव संजय भट्टाचार्या ने उन्हें दिलासा देते हुए कहा, ‘दूतावास के अधिकारी अरविंद कुमार चीन में मौजूद भारतीय नागरिकों को क्षेत्रीय मदद मुहैया करवा रहे हैं। हम भी आपकी तरह चिंतित हैं, हमने बीजिंग में भारतीय दूतावास से संपर्क किया है और वे हालात पर करीब से निगरानी रख रहे हैं।’
भारतीय दूतावास ने बताया कि भारत से बड़ी संख्या में लोग अपने रिश्तेदारों की कुशलक्षेम जानने के लिए संपर्क कर रहे हैं। मिशन के अधिकारी वुहान में भारतीयों और चीनी अधिकारियों के संपर्क में हैं। 

भारत में मौजूद लोगों को संपर्क करने के लिए हॉट लाइन सेवाएं +8618612083629 और +86186112083617 शुरू की गई हैं। वहीं सोशल मीडिया अकाउंट पर भी अपडेट्स के लिए नजर रखने का निवेदन भारतीय नागरिकों से किया गया है। 

चीन में फैली रहस्यमय बीमारी, दम घुटने से हो रही मौतें, भारत में भी जारी हुआ अलर्ट

20-Jan-2020

चीन (China) में बड़े पैमाने पर लोग एक गंभीर बीमारी (Unknown Disease) से धड़ाधड़ बीमार हो रहे हैं। खतरे की बात ये भी है कि चीन के कई पड़ोसी देशों में भी इसके पहुंचने की खबरें आ रही हैं।  नोवेल कोरोना वायरस से फैल रही ये बीमारी हमारे देश में नहीं पहुंचे, इसके लिए सरकार अलर्ट हो गई है।  वो अब एयरपोर्ट पर चीन से आने वाले लोगों की खास जांच करेगी।

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी एडवाइजरी में चीन की यात्रा पर जाने वाले भारतीय नागरिकों को एहतियाती उपायों का पालन करने की सलाह दी गई है। चीनी अधिकारियों के अनुसार, मध्य चीन के वुहान शहर में बुधवार को 69 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई। इसी शहर को कोरोनावायरस के संक्रमण का केंद्र माना जा रहा है। यह वायरस सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (SARS) रोगाणु जितना ही घातक माना जा रहा है। वर्ष 2002 और 2003 में SARS के प्रकोप से चीन में 349 और हांगकांग में 299 लोगों की मौत हुई थी।

दरअसल चीन में दिसंबर के आखिरी हफ्ते में ये बीमारी उस मार्केट में काम करने वालों से फैलने शुरू हुई, जो एक स्थानीय सी-फूड मार्केट में काम करते हैं। तुरंत ये बाजार बंद कर दिया गया। इसको सेनिटाइज करने का काम किया गया। लेकिन तब तक बीमारी फैल चुकी थी।

नोवोल कोरोना वायरस की लंबी चौड़ी फैमिली है। इस परिवार के कुछ वायरस लोगों को बीमार करते लेकिन कुछ जानवरों को अपना शिकार बनाते हैं और उनमें फैलते हैं । खासकर ऊंट, बिल्लियों और चमगादड़ों में। हालांकि जानवरों में फैलने वाला कोरोना वायरस और नया रूप धरकर मनुष्यों को शिकार बनाता रहा हो लेकिन अबकी बार माना जा रहा है जानवरों में रहने वाला ये वायरस नई तरीके से विकसित हुआ है और उसने मनुष्यों को चपेट में लेना शुरू कर दिया है।

लेकिन बाद में डॉक्टरों को महसूस होने लगा कि ये नई रहस्यमय बीमारी सार्स नहीं बल्कि कुछ और है। सार्स में तेज बुखार, खांसी, सिरदर्द, भारीपन और फ्लू बीमारी से होने वाली शिकायतें उभरती हैं। जो नई फैल रही बीमारी में पूरी तरह नहीं है।

ईरान के ‘सुप्रीम लीडर’ पर भड़के ट्रंप, संभलकर बोलने की दी सलाह

18-Jan-2020

नई दिल्ली, इंडिया। अमेरिका और यूरोपीय देशों पर की गई टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को ईरान के सुप्रीम लीडर अयातुल्लाह अली खामनेई को अपने शब्दों को लेकर सावधान रहने की हिदायत दी है। ट्रंप ने ट्वीट कर चेतावनी भरे अंदाज में कहा कि ईरान के तथाकथित सुप्रीम लीडर ने यूरोप और अमेरिका के बारे में बहुत ओछी बातें की हैं। उनकी अर्थव्यवस्था ध्वस्त हो रही है और उनके लोग पीड़ित हैं। ऐसे में उन्हें अपने शब्दों को लेकर बहुत सावधान रहना चाहिए। ट्रंप के मुताबिक, खामनेई ने अपने भड़काऊ बयान में अमेरिका को शातिर और यूरोपीय देशों ब्रिटेन, फ्रांस और जर्मनी को अमेरिका का नौकर बताया था, जो कि गलत बयान था। ट्रंप ने इस बयान पर पलटवार करते हुए ईरानी नेता पर हमला बोला था। ट्रंप ने एक अन्य ट्वीट में ईरान के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि ईरान के वे लोग, जो अमेरिका से प्यार करते हैं, एक ऐसी सरकार डिजर्व करते हैं, जो उन्हें मारने की बजाय उनके सपनों को पूरा करने में दिलचस्पी रखती है। उन्होंने अपने ट्वीट में ईरानी नेताओं से अपील की कि उन्हें अपने देश को बर्बादी की ओर ले जाने की बजाय आतंक को छोड़ देना चाहिए और ईरान को फिर से महान बनाना चाहिए। गौरतलब है कि बीते 17 जनवरी को ईरान के सुप्रीम नेता खामनेई ने ट्वीट कर फ्रांस, जर्मनी और ब्रिटिश सरकार पर निशाना साधा था। उन्होंने लिखा, 'ईरान के मसले को सुरक्षा परिषद में ले जाने की फ्रेंच, जर्मन और 'शातिर' ब्रिटिश सरकारों की धमकी ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि वे अमेरिका के 'नौकर' हैं। उन्होंने आगे लिखा कि इन तीनों देशों ने सद्दाम को हमारे खिलाफ युद्ध में हरसंभव मदद की थी।

रविवार को इराक में अमेरिकी एयरबेस पर हमले के बीच ट्रंप ने ईरान को दी यह चेतावनी

14-Jan-2020

रविवार देर रात को इराक में अमेरिकी वायुसेना के अड्डे पर फिर आठ रॉकेट से किये गये हमले के बीच रिपोर्टों में कहा गया है कि ताजा हमले में इराकी वायु सेना के दो अधिकारी और दो सैनिक घायल हुए। हालांकि अमेरिकी सेना का कोई भी जवान इसकी चपेट में नहीं आया। सेना ने अपने बयान में कहा कि बगदाद से लगभग 70 किलोमीटर उत्तर में स्थित अल-बलाद एयरबेस पर कत्यूशा श्रेणी के आठ रॉकेट गिरे। मालूम हो कि अमेरिका द्वारा कासिम सुलेमानी के खात्‍मे के बाद अमेरिकी ठिकाने को निशाना बनाकर यह तीसरा हमला किया गया। 

इस हमले के बीच अमेरिका ने ईरान को एकबार फ‍िर चेतावनी दी। अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने रविवार को कहा कि ईरानी सरकार प्रदर्शनकारियों की सामूहिक हत्‍या की हिमाकत न करे। हमारे राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने कहा है कि प्रतिबंध और प्रदर्शन ईरान को बातचीत के लिए विवश करेंगे। अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने कहा कि यदि ईरान बातचीत की पहल करता है तो इसकी अनदेखी नहीं की जा सकती है।

अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने ट्वीट कर कहा कि बातचीत की पहल कदमी पूरी तरह ईरान के रवैये पर निर्भर करेगी। इसके लिए ईरान को परमाणु हथियार हासिल करने की कोशिशों से बाज आना होगा। यही नहीं ईरान को मुल्‍क के प्रदर्शनकारियों की हत्‍या से भी परहेज करना होगा। अमेरिकी राष्‍ट्रपति का यह बयान एनएसए रॉबर्ट ओ ब्रायन के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्‍होंने कहा था कि ईरान के पास ट्रंप प्रशासन से बातचीत के अलावा अब कोई विकल्‍प नहीं है। उन्‍होंने यह भी कहा था कि ईरान के खिलाफ लगाए गए प्रतिबंध अब काम कर रहे हैं।

इससे पहले हुए हमले में ईरानी मीडिया ने 80 लोगों के मारे जाने का दावा किया था लेकिन अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने अपने संबोधन में साफ कर दिया था कि उक्‍त हमले में कोई भी अमेरिकी हताहत नहीं हुआ है। उन्‍होंने कहा था कि हमारी महान सेनाएं किसी भी एक्शन के लिए सदैव तैयार रहती हैं। मालूम हो कि सुलेमानी के मारे जाने के बाद ईरान ने बदला लेने की चेतावनी दी थी और अमेरिका को क्षेत्र से अपनी सेनाएं वापस बुला लेने को कहा था। बताया जाता है कि ताजा हमले में कोई अमेरिकी इसलिए हताहत नहीं हुआ क्‍योंकि तनाव के बाद अधिकांश सैनिकों ने एयरबेस छोड़ दिया है। 

ईरान ने अमेरिकी एयरबेस पर किया हमला, दागे गए कई बैलिस्टिक मिसाइल

08-Jan-2020

नई दिल्ली, इंडिया। जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या के बाद ईराक और अमेरिका के बीच तनाव लगातार बढ़ रहा है। अमेरिका के ऐक्शन पर ईरान ने मुंहतोड़ जवाब देते हुए इराक स्थित अमेरिकी ठिकानों पर दर्जनों मिसाइलें दागी हैं। साथ ही अमेरिका के अंदर हमले की धमकी दी है। रक्षा सूत्रों ने एएफपी को बताया कि कम से कम नौ रॉकेट बुधवार तड़के देश के पश्चिम में स्थित इराकी एयरबेस को निशाना बनाते हुए दागे गए। रिपोर्ट्स में यह दावा किया गया है कि इसमें 80 लोग मारे गए लेकिन अभी इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है। इन ठिकानों पर अमेरिकी और उसके सहयोगी सेना रहते हैं। एईन अल-असद एयरबेस पर हमला पिछले हफ्ते बगदाद में ईरानी जनरल कासिम सुलेमानी और इराकी शीर्ष कमांडर अबू महदी अल-मुहांडिस की हत्या की प्रतिक्रिया में हुआ है।

बता दें, अल-असद के जिस ठिकाने पर ईरान ने बैलिस्टिक मिसाइल से हमला बोला है, वहां 2018 में डोनाल्ड ट्रंप गए थे। अमेरिका और ईरान के बीच तनातनी शुक्रवार को तेज हो गई थी, जब अमेरिका ने बगदाद में ड्रोन हमला कर ईरान के कुद्स कमांडर कासिम सुलेमानी को मार गिराया था।  इसके बाद ईरान और अमेरिका के बीच तनातनी शुरू हुई थी। ईरान ने बदला लेने की धमकी दी है, जिस पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कल ही कहा था कि इसके बुरे नतीजे होंगे।

इराकी सेना ने कहा कि ईरान ने दोनों बेसों पर कुल 22 मिसाइलें दागी थीं। इनमें ऐन अल-असद बेस पर गिरी दो मिसाइलों में धमाका नहीं हुआ। नॉर्वे ने कहा है कि अल-असद बेस पर तैनात उसके 70 सैनिकों में से कोई हताहत नहीं हुआ। डेनमार्क ने भी कहा है कि उसके 130 जवानों में से किसी के मारे जाने या घायल होने की खबर नहीं है। हमलों के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने ट्वीट कर कहा था, “अभी सब ठीक है। ईरान ने इराक स्थित दो मिलिट्री बेस पर मिसाइल लॉन्च कीं। नुकसान और मौतों का जायजा लिया जा रहा है। अब तक सब ठीक है। हमारे पास दुनिया की सबसे ताकतवर सेना है। मैं कल सुबह इस मामले पर बयान जारी करुंगा।”

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इराक में पल-पल की स्थिति पर नजर रख रहे हैं। इराक में अमेरिकी सैनिकों की अच्छी खासी मौजूदगी है, इसलिए ट्रंप उनसे जुड़ी हर स्थिति पर पैनी निगाह रखे हुए हैं। व्हाइट हाउस से जारी एक बयान के मुताबिक, राष्ट्रपति ट्रंप ने ईरान-इराक में मौजूदा हालात की जानकारी लेने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के साथ बैठक की है। व्हाइट हाउस के प्रेस सेक्रेटरी स्टेफनी ग्रिशाम ने एक ट्वीट में लिखा, इराक में अमेरिकी ठिकाने पर हमले की रिपोर्ट हमें मिली है। राष्ट्रपति को इस बारे में बताया गया है और वे स्थिति पर बराबर निगाह रखे हुए हैं। इस बाबत उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार से भी बात की है। मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि इराक में अल-असद एयरबेस पर ईरान ने कई रॉकेट हमले किए हैं।