Friday,28 January 2022   10:52 am

वैक्सीन का बेसब्री से इन्तजार कर रहे युवाओं के लिए अच्छी खबर, 18+ के लिए पहुंचेगी 2 लाख 97 हजार 110 डोज...

15-May-2021

रायपुर,छत्तीसगढ़,इंडिया।  छत्तीसगढ़ में वैक्सीन का इंतजार कर रहे युवाओं के लिए शनिवार दोपहर एयर इंडिया की फ्लाइट से 6 लाख 44 हजार 410 वैक्सीन की खेप रायपुर पहुंचेंगी। पहुंचने वाली वैक्सीन में केंद्र और राज्य सरकार की दोनों की वैक्सीन शामिल है।

इनमें राज्य सरकार की 2 लाख 97 हजार 110 वैक्सीन है। जो 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को वैक्सीन लगेगी। खेप में 3 लाख 47 हजार 300 कोविशील्ड वैक्सीन भी शामिल है। जानकारी के अनुसार केंद्र सरकार 45+ के लिए भी वैक्सीन आज भेज रही है।

बता दें कि प्रदेश में वैक्सीन का स्टॉक खत्म होने के बाद एपीएल और फ्रंटलाइन वर्कस का वैक्सीनेशन बंद हो गया था। वहीं अब वैक्सीन की खेप पहुंचने के बाद फिर से टीकाकरण अभियान रफ्तार पकड़ सकती है।

PETROL DIESEL:लोगों की जेब पर पड़ रही मार, पेट्रोल-डीजल के दाम आज फिर बढ़े

12-May-2021

रायपुर,छत्तीसगढ़,इंडिया l भारत में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ने के बावजूद अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम लगातार मजबूती की तरफ बढ़ रहे हैं। अमेरिका में मांग बढ़ने और डालर के कमजोर पड़ने की वजह से दाम बढ़ रहे हैं। पेट्रोलियम उद्योग के एक अधिकारी के मुताबिक अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम लगातार ऊपर की तरफ जा रहे हैं। कच्चे तेल के दाम 70 डालर प्रति बैरल के करीब पहुंच चुके हैं।

तेल कंपनियों ने डीजल-पेट्रोल के दाम में भारी बढ़त का सिलसिला बुधवार को भी जारी रखा। बुधवार को दिल्ली में पेट्रोल और डीजल के दाम में 25-25 पैसे प्रति लीटर की बढ़त की गई। इस बढ़त के साथ ही भोपाल में सामान्य पेट्रोल 100 रुपये पार हो गया है।

राजधानी रायपुर में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में 32 पैसे तथा 36 पैसे की बढ़ोतरी हुई है। इसके बाद रायपुर में पेट्रोल 90.50 रूपए तथा डीजल 89.50 रूपए प्रति लीटर हो गया है।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की बात करें तो वहां पेट्रोल 92.05 रूपए प्रति लीटर तथा डीजल 82.61 रूपए प्रति लीटर चल रहा है।

भोपाल में पेट्रोल 100 रुपये के पार

भोपाल में आज पेट्रोल की कीमत 100.08 रुपये प्रति लीटर और डीजल 90.05 रुपये प्रति लीटर है।  महाराष्ट्र के मुंबई में बुधवार को पेट्रोल की कीमत 98.36 रुपये और डीजल की 89.75 रुपये है।

देश के 4 महानगरों में पेट्रोल-डीजल की प्रति लीटर कीमत ये हैं: दिल्ली में डीजल 82.61 रुपये तो पेट्रोल 92.05 रुपये, मुंबई में डीजल 89.75 रुपये तो पेट्रोल 98.36 रुपये, कोलकाता में डीजल 85.45 रुपये तो पेट्रोल 92.16 रुपये, चेन्नई में डीजल 87.49 रुपये तो पेट्रोल 93.84 रुपये हुआ।

 

Mother’s Day : किसने की थी शुरआत, जाने इस दिन का इतिहास,जानें कैसे हुई थी इस ऐतिहासिक दिन को मनाने की शुरुआत

09-May-2021

Mother’s Day: मां…ये शब्द कहने से ही सबसे बड़ी पूजा हो जाती है। और बरसता है भगवान का आशीर्वाद। यूं तो मां से प्यार ज़ाहिर करने के लिए किसी खास वक्त की जरूरत नहीं होती है, लेकिन फिर भी हर साल एक दिन मां के लिए मुकर्रर है, जिसे मदर्स डे कहा जाता है। इस बार ये दिन 9 मई को है।

आज मदर्स डे है, इसकी आपने तमाम कहानियां पढ़ी होंगी। जाना होगा कि इस दिन की शुरुआत कैसे हुई? कैसे यह दिन मांओं को समर्पित किया गया? कैसे इस दिन को उनके त्याग के लिए यादगार बनाया गया? कैसे इस दिन मांओं को सराहा गया और उनके समर्पण को धन्यवाद दिया गया? लेकिन क्या आप जानते हैं कि जिस महिला ने इस दिन की शुरुआत की थी, उसने ही इसे खत्म करने की कोशिश भी की। यकीनन उनकी यह कोशिश सफल नहीं रही, लेकिन उनका परिवार और रिश्तेदार यह दिन नहीं मनाते हैं। क्या थी इसकी वजह? क्यों इस दिन की शुरुआत करने वाली ही इसके विरोध में उतर आई? जानिए सबकुछ यहां।

इस वजह से चुना गया मई का दूसरा रविवार

हर कोई जानता है कि हर साल मई महीने के दूसरे रविवार को मदर्स डे यानी मातृ दिवस मनाया जाता है। करीब 110 साल से यह परंपरा चल रही है। इस दिन की शुरुआत एना जार्विस ने की थी। उन्होंने यह दिन अपनी मां को समर्पित किया और इसकी तारीख इस तरह चुनी कि वह उनकी मां की पुण्यतिथि 9 मई के आसपास ही पड़े। गौर करने वाली बात है कि इस बार मदर्स डे 9 मई को ही पड़ रहा है।

क्या थी मदर्स डे की असल थीम?

दरअसल, मदर्स डे की शुरुआत एना जार्विस की मां एन रीव्स जार्विस करना चाहती थीं। उनका मकसद मांओं के लिए एक ऐसे दिन की शुरुआत करना था, जिस दिन अतुलनीय सेवा के लिए मांओं को सम्मानित किया जाए। हालांकि, 1905 में एन रीव्स जार्विस की मौत हो गई और उनका सपना पूरा करने की जिम्मेदारी उनकी बेटी एना जार्विस ने उठा ली। हालांकि, एना ने इस दिन की थीम में थोड़ा बदलाव किया। उन्होंने कहा कि इस दिन लोग अपनी मां के त्याग को याद करें और उसकी सराहना करें। लोगों को उनका यह विचार इतना पसंद आया कि इसे हाथोंहाथ ले लिया गया और एन रीव्स के निधन के तीन साल बाद यानी 1908 में पहली बार मदर्स डे मनाया गया।

इस वजह से मदर्स डे का विरोध करने लगीं एना

दुनिया में जब पहली बार मदर्स डे मनाया गया तो एना जार्विस एक तरह से इसकी पोस्टर गर्ल थीं। उन्होंने उस दिन अपनी मां के पसंदीदा सफेद कार्नेशन फूल महिलाओं को बांटे, जिन्हें चलन में ही ले लिया गया। इन फूलों का व्यवसायीकरण इस कदर बढ़ा कि आने वाले वर्षों में मदर्स डे पर सफेद कार्नेशन फूलों की एक तरह से कालाबाजारी होने लगी। लोग ऊंचे से ऊंचे दामों पर इन्हें खरीदने की कोशिश करने लगे। यह देखकर एना भड़क गईं और उन्होंने इस दिन को खत्म करने की मुहिम शुरू कर दी।

कहां तक पहुंची एना की मुहिम?

मदर्स डे पर सफेद कार्नेशन फूलों की बिक्री के बाद टॉफी, चॉकलेट और तमाम तरह के गिफ्ट भी चलन में आने लगे। ऐसे में एना ने लोगों को फटकारा भी। उन्होंने कहा कि लोगों ने अपने लालच के लिए बाजारीकरण करके इस दिन की अहमियत ही घटा दी। साल 1920 में तो उन्होंने लोगों से फूल न खरीदने की अपील भी की। एना अपने आखिरी वक्त तक इस दिन को खत्म करने की मुहिम में लगी रहीं। उन्होंने इसके लिए हस्ताक्षर अभियान भी चलाया, लेकिन सफलता हाथ नहीं लगी और 1948 के आसपास एना इस दुनिया को अलविदा कह गईं।

एना के रिश्तेदार नहीं मनाते यह दिन

मदर्स डे के बाजारीकरण के खिलाफ एना की मुहिम का असर भले ही पूरी दुनिया पर न हुआ हो, लेकिन उनके परिवार के लोग व रिश्तेदार यह दिन नहीं मनाते हैं। दरअसल, कुछ साल पहले मीडिया को दिए एक इंटरव्यू में एना की रिश्तेदार एलिजाबेथ बर ने बताया था कि उनकी आंटियों और पिता ने कभी मदर्स डे नहीं मनाया, क्योंकि वे एना का काफी सम्मान करते थे। वे एना की उस भावना से काफी प्रभावित थे, जिसमें कहा गया था कि बाजारीकरण ने इस बेहद खास दिन के मायने ही बदल दिए।

 

30 मई को होने वाली सेना भर्ती की लिखित परीक्षा स्थगित

08-May-2021

आपको बता दें कि देशभर में कोरोना संक्रमण की स्थिति चिंताजनक होने के कारण बहुत सी परीक्षाओं को या तो रद्द कर दिया गया है या फिर कुछ दिन के लिए टाल दिया गया है। इनमें सीबीएसई और सीआईएससीई ने 10वीं की परीक्षा रद्द कर दी है और 12वीं की परीक्षाओं को 1 जून तक के लिए स्थगित किया है। इसके अलावा यूपीएससी, एसएससी की कई प्रतियोगी परीक्षाओं के अलावा नीट पीजी, जेईई मेन 2021 परीक्षाओं को भी स्थगित किया गया है।

सेना भर्ती कार्यालय द्वारा कही राज्य में आगामी 30 मई को होने वाली लिखित परीक्षा को स्थगित कर दिया गया है। सेना भर्ती कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार भारतीय सेना की ओर से कोरोना महामारी के मद्देनजर यह निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा कि हिसार सेना छावनी में सेना भर्ती कार्यालय द्वारा 20 फरवरी से 13 मार्च, 2021 तक हिसार, सिरसा,जींद व फतेहाबाद के उम्मीदवारों के लिए सैनिक, जनरल ड्यूटी तथा सैनिक, लिपिक/स्टोर कीपर तकनीकी श्रेणी के लिए भर्ती का आयोजन किया था, जिसकी लिखित परीक्षा 30 मई, 2021 को होनी थी, को आगामी आदेश तक स्थगित कर दिया गया है। लिखित परीक्षा की नई तिथि की सूचना समाचार पत्रों के माध्यम से दी जाएगी। कृपया अपना अपना सेंटर में कॉल करके कन्फर्म करलीजिये।

विश्व में भुखमरी का खतरा:पिछले साल दुनिया के 15 करोड़ लोगों को खाना नसीब नहीं हुआ, एक साल में 2 करोड़ बढ़े; इस साल हालात और बदत्तर होंगे

07-May-2021

2020 में कम से कम 155 मिलियन लोगों को भूख का सामना करना पड़ा।  इसमें करीब 133,000 लोग ऐसे शामिल थे जो भुखमरी के चलते मौत के करीब पहुंच गए थे, जिसे बचाने के लिए तत्काल भोजन की आवश्यकता थी।  पिछले साल दुनिया में 15 करोड़ से ज्यादा लोगों को भुख का सामना करना पड़ा। इतना ही नहीं, इनमें करीब डेढ़ लाख लोग ऐसे थे, जो भुखमरी की वजह से मौत की कगार पर पहुंच गए थे। अगर उन्हें तत्काल खाना नहीं दिया गया होता, तो उनकी मौत निश्चित थी। यह चिंताजनक खुलासा संयुक्त राष्ट्र के 16 संगठनों की रिपोर्ट में हुआ है। इसे दुनिया की 97% आबादी वाले 55 देशों की स्थिति के आधार पर तैयार किया गया है। इनमें ज्यादातर अफ्रीकी देश हैं या वे हैं जो गृहयुद्ध झेल रहे हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले साल 2020 में कोरोना संकट, आपातकालीन, तबाही के चलते भोजन की जरूरतों को महसूस किया।  साल 2019 के मुकाबले लोगों की यह संख्या 20 मिलियन ज्यादा थी।

इन सवालों का जवाब 'हां' में दिया जा सकता है।  इसका आधार हैं राष्ट्रीय और वैश्विक स्तर पर हाल ही में जारी तीन विश्वसनीय रिपोर्टें, जिनमें से एक 'नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे' (एनएफएचएस) रिपोर्ट खुद भारत सरकार ने जारी की है।  इस रिपोर्ट का पहला भाग 12 दिसंबर की शाम जारी किया गया था।

UN रिपोर्ट 55 देशों में की गई सर्वे पर आधारित है।  रिपोर्ट के अनुसार, पिछले साल Covid-19 महामारी और लाॅकडाउन के चलते भारत दुनियाभर को आर्थिक संकट से गुजरना पड़ा।  ऐसे में लाखों लोगों को बिना भोजन के ही रहना पड़ा।  इनमें से कई लोग ऐसे भी थे जिसे तुरंत भोजन न दिया जाता तो उनकी मौत हो जाती।  करीब 1 लाख लोग भूख से मरने के हालात में पहुंच गए थे।

रिपोर्ट के अनुसार, इस तरह की संकट में सबसे अधिक लोग इन 10 देशों के थे।  ये देश हैं- कांगो, यमन, अफगानिस्तान, सीरिया, सूडान, उत्तरी नाइजीरिया, इथियोपिया, दक्षिण सूडान, जिम्बाब्वे और हैती।  बुर्किना फासो, दक्षिण सूडान और यमन में करीबन 133,000 लोग खाने के लिए तड़प रहे हैं।  यहां लोग भूख से मर रहे हैं।

जैकलीन फर्नांडिस ने कोरोना काल में मदद के लिए लॉन्च किया YOLO फाउंडेशन

06-May-2021

नई दिल्ली,इंडिया। देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर अपने चरम पर है। सरकार के साथ कई समाजसेवी संस्थाएं लोगों की मदद में जुटी हैं। ऐसे में बॉलीवुड के कई कलाकार भी आम लोगों के लिए मसीहा बनकर सामने आए हैं। अब जानकारी सामने आ रही है कि देश की मशहूर अभिनेत्री जैकलीन फर्नांडिस ने कोरोना काल में मदद के लिए YOLO फाउंडेशन लॉन्च किया है। अभिनेत्री जैकलीन ने सोशल मीडिया पर इस संबंध में जानकारी शेयर की है।

जैकलीन ने अपने इंस्टाग्राम पोस्ट में अपने नए फाउंडेशन की झलक दिखाई है। उन्होंने अपने इंस्टाग्राम पोस्ट में लिखा, 'हमारे पास एक यही जिंदगी है। हमें इस दुनिया के लिए वो करना चाहिए, जो हम कर सकते हैं।'

जैकलीन ने कहा कि अपने आसपास के लोगों के जीवन में बदलाव लाने के लिए लोगों को इस फाउंडेशन को फॉलो करना चाहिए। खबरों के अनुसार जैकलीन इस फाउंडेशन के जरिए रोटी बैंक NGO के साथ मिलकर इस महीने एक लाख लोगों तक खाना पहुंचाने में मदद करेंगी।

बताया जा रहा है कि वह फीलाइन फाउंडेशन के साथ मिलकर सड़कों पर रहने वाले जानवरों के लिए काम करेंगी। वह फ्रंट लाइन वर्कर्स को जरूरी वस्तुएं मुहैया कराएंगी।

जैकलीन फर्नांडीज ने अक्सर एक कदम आगे बढ़ाकर उन लोगों तक मदद पहुंचाई है, जिन्हें कठिन वक़्त में इसकी सबसे ज्यादा जरूरत होती है। चाहे वह बाढ़ राहत के बाद घरों का पुनर्निर्माण करना हो या बच्चों के पोषण के लिए काम करना हो, अपने सकारात्मक रवैये के साथ, जैकी ने उन लोगों के बीच प्यार और खुशी फैलाई है, जिन्हें इसकी सबसे ज्यादा जरूरत होती है।

School Fees: लॉकडाउन के दौरान पूरी फीस नहीं ले सकते स्कूल, सुप्रीम कोर्ट का आदेश

04-May-2021

नई दिल्ली,इंडिया  सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक अहम फैसले में देशभर के प्राइवटे स्कूलों को आदेश दिया है कि लॉकडाउन के दौरान वे छात्रों से पूरी फीस नहीं वसूल सकते हैं. इसके साथ ही, सर्वोच्च अदालत ने यह भी कहा है कि फीस का भुगतान नहीं करने की स्थिति में 10वीं-12वीं के किसी छात्र का रिजल्ट भी नहीं रोका जाएगा और न ही उन्हें कोई परीक्षा में बैठने से रोक सकता है. अदालत ने कहा है कि जो अभिभावक फीस का भुगतान करने में आर्थिक तौर पर सक्षम नहीं हैं, उनकी फीस माफी पर भी स्कूलों को विचार करना होगा. ऑनलाइन क्लासेस से वंचित नहीं रखा जा सकता है। स्कूलों को ऐसे बच्चों की परीक्षा लेना होगी और परिणाम भी जारी करना होगा। हालांकि पूरे मामले में अभिभावकों को झटका लगा है।

क्या था मामला- मामला राजस्थान 36 हजार सहायता प्राप्त निजी स्कूलों और 220 सहायता प्राप्त अल्पसंख्यक स्कूलों का है। राजस्थान सरकार ने स्कूलों को आदेश दिया था कि लॉकडाउन को देखते हुए स्कूल छात्रों से 30 फीसदी कटौती करें। स्कूलों को फीस में कटौती करने का आदेश डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट, 2005 की धारा 72 के तहत दिया गया था। इस आदेश को स्कूलों ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी और कहा था कि ये आदेश उन्हें संविधान के अनुच्छेद 19.1. जी के तहत मिले व्यवसाय करने के मौलिक अधिकार के विरूद्ध है।

दरअसल, राजस्थान हाई कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि स्कूल 60 से 70 फीसदी फीस ही वसूल करे। यानी जितनी ट्युशन फीस है वही वसूली जाए। इसके खिलाफ पालकों ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया और पूरी स्कूल फीस पर छूट की मांग की, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया।

 

कोरोना पर PM मोदी की विशेषज्ञों संग बैठक, MBBS छात्रों की लग सकती है कोविड ड्यूटी

03-May-2021

नई दिल्ली,इंडिया देश में कोरोना दिन प्रतिदिन यह भयावह रूप लेता जा रहा है। पिछले 24 घंटों के दौरान इस वायरस से संक्रमित रिकॉर्ड 3,92,452 नए मामले सामने आने के साथ संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 1.95 करोड़ के पार हो गई है और 3689 लोगों की जान जाने से अभी तक 2,15,542 लोगों की मौत हो गई है। देश में जारी कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर ने हाहाकार मचा दिया है। प्रतिदिन बढ़ते मरीजों से चिकित्सकीय ढांचा बुरी तरह से प्रभावित हो गया है। अस्पतालों में बेड्स और ऑक्सीजन के साथ चिकित्साकर्मियों की कमी पड़ने लगी है। ऐसे में अब सरकार ने MBBS अंतिम वर्ष के छात्रों को कोरोना ड्यूटी पर लगाने की तैयारी की है। रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई उच्च स्तरीय बैठक में इस पर विस्तार से चर्चा हुई है।

बताया जा रहा है कि बैठक में छात्रों को प्रोत्साहित करने और कोविड ड्यूटी में शामिल होने के लिए मेडिकल और नर्सिंग पाठ्यक्रमों के पास-आउट को प्रोत्साहित करने के लिए कई कदम उठाए गए, जिसके बारे में सोमवार को जानकरी दी जाएगी। सूत्रों के मुताबिक NEET की परीक्षा लेट हो सकती है वहीं एमबीबीएस के एग्जाम में भी कुछ बदलवों की संभावना है। बता दें कि देश में कोरोना के हर दिन लाकों मामले सामने आ रहे हैं।

कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में आगे आए निकोलस पूरन और जयदेव उनादकट, ये खिलाड़ी भी कर चुके हैं दान

01-May-2021

नई दिल्ली,इंडिया  पंजाब किंग्स (PBKS) के बल्लेबाज निकोल्स पूरन ने आइपीएल की कमाई का कुछ हिस्सा कोरोना वायरस महामारी से बुरी तरह से जूझ रहे भारत के लिए दान देने का फैसला किया है। पूरन ने इसके साथ ही भारत के लोगों से जल्द से जल्द वैक्सीन लगवाने का अनुरोध किया। वहीं राजस्थान रॉयल्स (RR) के तेज गेंदबाज जयदेव उनादकट अपनी आइपीएल सैलरी का 10 प्रतिशत हिस्सा कोरोना रोगियों की मदद के लिए दान करेंगे, जिन्हें आवश्यक चिकित्सा संसाधन की आवश्यकता है। गुजरात के इस 29 वर्षीय खिलाड़ी ने सोशल मीडिया पर इसकी घोषणा की। उनको राजस्थान ने 2020 के आइपीएल नीलामी में 3 करोड़ रुपये में खरीदा था।

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर ने कोरोना वायरस से उबरने के बाद कोविड-19 (Fight with COVID-19) मरीज के लिए ऑक्सिजन कनसंट्रेटर्स खरीदने के लिए एक करोड़ रुपये का दान किया था। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया के पैट कमिंस ने भारत के ‘पीएम केयर्स फंड’ में 50,000 डॉलर दान किया था। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया के ही ब्रेट ली, वेस्टइंडीज के निकोलस पूरन, जयदेव उनादकत के बाद शिखर धवन भी मदद के लिए आगे आए हैं।

NASA Mars Mission: नासा ने पहली बार किसी दूसरे ग्रह पर उड़ाया हेलीकॉप्टर, मंगल ग्रह पर किया ये कारनामा

30-Apr-2021

मंगल (Mars) पर जीवन के प्रमाण की खोज में जुटा नासा (NASA) हर दिन एक कदम आगे बढ़ा रहा हैl अब नासा (NASA) ने मंगल ग्रह (Mars) की सतह की पहली कलर फोटोज सोशल मीडिया शेयर की हैl ये तस्वीरें मार्टीन वायुमंडल के माध्यम से द्वारा ली गई हैंl अपनी दूसरी सफल उड़ान के दौरान इंजेन्युटी (Ingenuity) ने ली हैl स्पेस एजेंसी NASA ने 19 अप्रैल को एक बड़ी उपलब्धि हासिल की जो पिछली सदी में राइट बंधुओं ने हासिल की थीl जिस तरह से राइट बंधुओं ने पहली बार 1903 में सफल हवाई मानवीय उड़ान भरी थी, उसी प्रकार नासा ने सोमवार 19 अप्रैल को पहली बार किसी अन्य ग्रह पर छोटे आकार का रोबोट हेलीकॉप्टर इनजेन्यूटी को उड़ाने में सफलता हासिल की हैl हालांकि इस हेलीकॉप्टर ने मंगल ग्रह की सतह पर महज 39 सेकंड तक ही हवा में उड़ान भरी लेकिन यह नासा के लिए किसी अन्य ग्रह पर पहली बार नियंत्रित उड़ान रहीl अमेरिकी स्पेस एजेंसी के अधिकारियों के मुताबिक 1.8 किग्रा (4 पाउंड) वजनी इस रोटोरक्राफ्ट की सफलता से भविष्य में मंगल व सोलर सिस्टम के अन्य ग्रहों व उपग्रहों जैसे वीनस व शनि के चंद्रमा टाइटन इत्यादि के एरियल एक्सप्लोरेशन में मदद मिलेगीl नासा की लॉस एंजेलेस के समीप स्थित जेट प्रपल्शन लैब ((JPL) ने इस सफलता की जानकारी दीl इनजेन्यूटी की पहली उड़ान में एक बड़े आकार का मेटलिक टिशू बॉक्स था जिसके चार पैर और एक ट्विन रोटॉर पैरासोल थाl

 

केंद्रीय विद्यालयों में 3 मई से 20 जून तक गर्मियों की छुट्टियों की घोषणा

29-Apr-2021

नई दिल्ली,इंडिया  कोरोना संक्रमण की रफ्तार को देखते हुए केंद्रीय विद्यालयों में तीन मई से बीस जून तक गर्मियों की छुट्टियों (Kendriya Vidyalaya Summer Vacations 2021) की घोषणा कर दी गई है। केंद्रीय विद्यालय संगठन (Kendriya Vidyalaya) की और से आज जारी हुए एक ज्ञापन में यह जानकारी दी गई है। इस ज्ञापन में कहा गया है कि 3 मई से 20 जून तक केंद्रीय विद्यालयों में छुट्टियों की घोषणा की जाती है।

आगरा, चंडीगढ़, कोलकाता, देहरादून, दिल्ली, गुरुग्राम, गुवाहटी, जयपुर, जम्मू, लखनऊ, पटना, रांची, सिल्चर, तिनसुकिया, वाराणसी, अहमदाबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, एर्णाकुलम, हैदराबाद, जबलपुर, मुंबई, रायपुर, भुवनेश्वर, भोपाल। इसके अलावा जिन स्थानों पर गर्मियों की छुट्टियां होती हैं वहां पर 3 मई से 20 जून तक छुट्टियां रहेंगी। इस आदेश के अनुसार शरद और शीतकालीन अवकाश के विषय में सूचना अलग से दी जाएगी।

ये आदेश गर्मी वाले स्थानों के लिए है। सर्दी वाले स्थानों, अधिक सर्दी वाले स्थान जैसे- लेह, कारिगल, पर यह आदेश लागू नहीं होगा। इन स्थानों के ग्रीष्मकालीन तथा शरद/शीतकालीन अवकाश दी गई अवधि के अनुसार ही रहेंगे। इनमें किसी भी तरह का कोई बदलाव नहीं किया जायेगा। वहीं केंद्रीय विद्यालय में कक्षा-1 के एडमिशन शेड्यूल के हिसाब से 1 अप्रैल से 19 अप्रैल तक होने थे, लेकिन कोरोना महामारी के चलते एडमिशन प्रकिया को फिलहाल के लिए रोक दिया गया है।

ALERT:बिना सोचे-समझे किसी भी QR कोड को न करें स्कैन, इससे खाली हो सकता है आपका बैंक अकाउंट

28-Apr-2021

नई दिल्ली,इंडिया SBI ने अपने कस्टमर्स को फैक लोन कॉल्स को लेकर भी आगाह किया है। SBI ने सोशल मीडिया के जरिए ग्राहकों से कहा है कि अगर कोई आपसे SBI Loan Finance Ltd. या ऐसी ही किसी अन्य कंपनी से संपर्क करता है, तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इसका SBI से कोई लेना-देना नहीं है। ये लोग झूठे लोन ऑफर्स देकर हमारे ग्राहकों के साथ ठगी करने की कोशिश कर रहे हैं।

SBI ने कहा कि अगर किसी को लोन चाहिए तो वो अपने करीब SBI ब्रांच में जाए, बिचौलियों को बढ़ावा देने से बचें। बैंक के अनुसार बैंक कि ऐसी कोई कंपनी नहीं है और न ही बैंक लोन के लिए किसी को कॉल करता है।

कैसे किसी की ओर से भेजे गया QR कोड आपका बैंक खाता खाली कर सकता है, इस समझाने के लिए SBI ने सोशल मीडिया साइट पर एक वीडियो भी शेयर किया है।

इसमें बताया गया है कि कैसे किसी की ओर से भेजे गया QR कोड आपका बैंक अकाउंट खाली कर सकता है। बैंक ने बताया है कि इस घटना का शिकार देश के हजारों लोग हो चुके हैं। जिसमें जालसाज ग्राहक को डायनिंग टेबल की पेमेंट के लिए QR कोड भेजता है। लेकिन ग्राहक इस बात से अलर्ट है कि QR कोड हमेशा पेमेंट करने के लिए इस्तेमाल होता है न कि पेमेंट रिसीव करने के लिए। इसलिए वो इस रिक्वेस्ट को नहीं मानते हैं। अगर वो QR कोड को स्कैन करते तो उनके खाते से पैसे कट जाते

 

जॉन अब्राहम और इमरान हाशमी की 'मुंबई सागा' थिएटर के बाद OTT पर होगी रिलीज

27-Apr-2021

नई दिल्ली,इंडिया हाल में अभिनेता जॉन अब्राहम और इमरान हाशमी अपनी फिल्म 'मुंबई सागा' को लेकर चर्चा में रहे हैं। जॉन और इमरान की गैंगस्टर ड्रामा फिल्म 'मुंबई सागा' इस साल 19 मार्च को सिनेमाघरों में रिलीज हुई थी। थिएटर में रिलीज होने के बाद काफी समय से फिल्म की डिजिटल रिलीज की चर्चा चल रही थी। अमेजॉन प्राइम वीडियो ने आज एक्शन ड्रामा मुंबई सागा के डिजिटल प्रीमियर की घोषणा कर दी है जिसे विशेष रूप से इस स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म पर किया जाएगा ।  भारत में और 240 देशों व क्षेत्रों में प्राइम सदस्य 27 अप्रैल, 2021 से अमेजॉन प्राइम वीडियो पर फिल्म को स्ट्रीम कर सकते हैं ।

संजय गुप्ता द्वारा निर्देशित, फिल्म में जॉन अब्राहम और इमरान हाशमी की मुख्य भूमिका के साथ-साथ महेश मांजरेकर, काजल अग्रवाल, सुनील शेट्टी, प्रतीक बब्बर, रोहित रॉय, अमोल गुप्ते, समीर सोनी, गुलशन ग्रोवर और अंजना सुखानी जैसे थ्रिलिंग सितारें नज़र आएंगे । मुंबई सागा का निर्माण भूषण कुमार, कृष्ण कुमार, अनुराधा गुप्ता और संगीता अहीर ने टी-सीरीज़ और व्हाइट फेदर फिल्म्स बैनर के तहत किया है।

संजय ने बताया कि उन्हें भरोसा है कि फिल्म दुनियाभर के सिनेमा जगत के प्रशंसकों को पसंद आएगी। उन्होंने बताया कि इस फिल्म को डिजिटल प्लेटफॉर्म पर 240 देशों के दर्शक देख पाएंगे।

उन्होंने आगे कहा, "फिल्म 'मुंबई सागा' एक नया और ताजा एक्शन ड्रामा है, जिसमें जॉन और इमरान पहली बार एक साथ स्क्रीन स्पेस साझा करते दिखे हैं। इन दोनों कलाकारों को पहले कभी इस अवतार में नहीं देखा गया है।"

इस फिल्म में जॉन को अमर्त्य राव नामक गैंगस्टर की भूमिका में देखा गया है। वहीं, इमरान सीनियर इंस्पेक्टर विजय सावरकर के किरदार नजर आए हैं। इस फिल्म में इन दोनों के बीच द्वंद्व और संघर्ष की कहानी को फिल्माया गया है। फिल्म 90 के दशक की मुंबई की पृष्ठभूमि पर आधारित है, जिसमें आकांक्षाएं, मित्रता और विश्वासघात के विभिन्न पहलुओं को दिखाया गया है। फिल्म में इमरान और जॉन को जबरदस्त एक्शन अवतार में देखा गया है।

Kerala में कोराना संकट के बीच हुई अनोखी शादी, Corona Positive हुआ दूल्हा, PPE Kit पहन कोविड वार्ड में दुल्हन ने पहनाई जयमाला

26-Apr-2021

कोरोना वायरस संक्रमण के कारण दुनियाभर में भले ही कई लोगों का जीवन थम सा गया है, लेकिन अलप्पुझा में अभिरामी को कोविड-19 भी पवित्र मुहूर्त पर विवाह करने से रोक नहीं पाया और उसने अपने संक्रमित दूल्हे से पारम्परिक परिधान के बजाए पीपीई किट पहनकर अस्पताल में शादी की। यहां थेक्कन आर्यद की निवासी 23 वर्षीय दुल्हन ने अलप्पुझा जिले के एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कोरोना वायरस से संक्रमित अपने दूल्हे से विवाह रचाया।

पारिवारिक सूत्रों ने बताया कि खाड़ी देश में काम करने वाले सरतमोन ने विवाह के लिए यहां आने के बाद खुद को आइसोलेशन में रख लिया था। शुरुआती 10 दिन में उसमें संक्रमण के लक्षण नहीं थे, लेकिन सरतमोन और उसकी मां को बुधवार शाम को सांस लेने में दिक्कत होने लगी। इसके बाद की गई जांच में दोनों संक्रमित पाए गए।

Oscar 2021 होने जा रहा है बेहद खास, जानिए कब और कैसे देख सकते हैं लाइव स्ट्रीम

25-Apr-2021

ऑस्कर अवॉर्ड्स को दुनिया का सबसे बड़ा अवॉर्ड माना जाता है। 93वें अकादमी अवॉर्ड्स का बेसब्री से इंतजार किया जा रहा है और इस साल कोविड-19 महामारी की वजह से इस समारोह में देरी हुई है। इस बार के समारोह बेहद खास होने वाला है। भारत के समयानुसार यह 26 अप्रैल को अनाउंस होने वाले हैं और ऑस्कर अवॉर्ड, 2021 को Oscars.com की ग्लोबल लाइव स्ट्रीम पर और Oscars.org पर देखा जा सकता है। इसके अलावा एकेडमी के सभी डिजिटल प्लेटफॉर्म्स (फेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब) पर इसे देखा जा सकता है ।

इसलिए है खास

- Chloe Zhao पहली एशियाई महिला, जिनको 'नोमाडलैंड' के लिए बेस्ट डायरेक्टर के लिए नॉमिनेट किया गया है। साल 2020 में आई 'नोमाडलैंड' एक अधेड़ उम्र की महिला की कहानी है, जो अपने पति की मौत के बाद खानाबदोश की जिंदगी जीती है। वो एक वैन में रहती है, अलग-अलग जगह काम करती है और अमेरिका के अलग-अलग हिस्सों में अपना बसेरा करती है। खास बात ये है कि क्लोई ही इस फिल्म की लेखक, एडिटर और प्रोड्यूसर भी हैं।

लॉकडाउन में मिला आइडिया, बना दी छत्तीसगढ़ की पहली सोशल मीडिया साइट

24-Apr-2021

रायगढ़,छत्तीसगढ़,इंडिया।  Chhattisgarh facebook: ''kakarathas.com' के नाम से बनाई है साइट, युवा इंजीनियर (Youth engineers) ने बताया कि काकरतहस डॉट कॉम शब्द छत्तीसगढ़ की भाषा (Chhattisgarhi) से लिया, लोगों से डाउनलोड करने की अपील। छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर शहर से युवा इंजीनियर ने अपने साथी के साथ मिलकर फेसबुक व व्हाट्सएप की तरह राज्य की पहली सोशल मीडिया साइट `काकरतहस.कॉम` बनाई है। लोग अब इस सोशल साइट पर अपना अकाउंट भी बना रहे हैं।

अम्बिकापुर के बौरीपारा निवासी इंजीनियर ऋषभ जायसवाल ने कहा कि कोरोना महामारी की रोकथाम को लेकर हुए लॉकडाउन में आइडिया आया कि क्यों न छत्तीसगढ़ राज्य की सोशल मीडिया साइट बनाई जाए, इसी पर काम करते हुए साथी मो. ताहिर अंसारी के साथ मिलकर मैंने राज्य की पहली सोशल मीडिया साइट `काकरतहस.कॉम` बनाई। इस साइट पर नये फ्रेन्ड्स बना भी बनाए जा सकते हैं, वहीं फोटो वीडियो शेयर कर सकते हैं।

ऋषभ ने कहा कि काकरतहस.कॉम को छ्त्तीसगढ़ का फेसबुक भी कहा जा सकता है। काकरतहस शब्द छ्त्तीसगढ़ी भाषा से लिया गया है।

60 हजार रुपये तक पहुंच सकता है सोना, खरीदने के पहले जान लें आज का भाव

23-Apr-2021

कोरोना के बढ़ते संकट बीच सोना एक बार फिर अपनी उच्चतम कीमत की ओर बढ़ रही है। शुक्रवार को सोने का भाव बढ़कर 50,850 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया और चांदी का भाव 70,300 रुपये प्रति किलो चल रहा है। बता दें कि उत्पाद शुल्क, राज्य करों और शुल्क लेने के कारण सोने के आभूषणों की कीमत भारत भर में धातु की दूसरी सबसे बड़ी उपभोक्ता है।

नई दिल्ली में, 22 कैरेट सोने की कीमत 46,650 रुपये प्रति 10 ग्राम है, जबकि चेन्नई में यह 45007 रुपये तक गिर गया। गुड रिटर्न वेबसाइट के अनुसार मुंबई में यह दर 45,250 रुपये थी। चेन्नई में 24 कैरेट सोने की कीमत 49,500 रुपये प्रति 10 ग्राम थी।

 आज देश के बड़े शहरों सोने-चांदी के भाव निम्न प्रकार बोले जा रहे हैं-

अहमदाबाद

  • 22ct Gold : Rs. 46890
  • 24ct Gold : Rs. 48860
  • Silver Price : Rs. 69300

बंगलुरु

  • 22ct Gold : Rs. 45110
  • 24ct Gold : Rs. 49210
  • Silver Price : Rs. 69300

भुवनेश्वर

  • 22ct Gold : Rs. 45110
  • 24ct Gold : Rs. 49210
  • Silver Price : Rs. 75200

कोलकाता

  • 22ct Gold : Rs. 47750
  • 24ct Gold : Rs. 50020
  • Silver Price : Rs. 69300

मुंबई

  • 22ct Gold : Rs. 45260
  • 24ct Gold : Rs. 46260
  • Silver Price : Rs. 69300

विशाखापट्टनम

  • 22ct Gold : Rs. 45110
  • 24ct Gold : Rs. 49210
  • Silver Price : Rs. 75200

Viral Video : रेलवेमैन मयूर शिल्के की साहस व बहादुरी के लिये रेल मंत्री ने की प्रशंसा

20-Apr-2021

मुंबई,महाराष्ट्र,इंडिया।   रेल मंत्री पीयूष गोयल ने जानकारी दी है कि आज रेलवेमैन मयूर शिल्के से बात कर साहस व बहादुरी से भरे काम के लिये उनकी प्रशंसा की, व कहा कि पूरे रेल परिवार को उन पर गर्व है। रेल मंत्री ने बताया कि एक बालक की जान बचाने के लिये स्वयं को खतरे में डालने वाले इस युवा ने कहा कि `मुझे रेलवे से इतना कुछ मिला है, मैं केवल अपनी जिम्मेदारी निभा रहा था`।उनके इस काम की किसी भी पुरस्कार या धनराशि से तुलना नही की जा सकती, लेकिन अपने दायित्व को निभाने, और अपने काम से मानवता को प्रेरित करने के लिये उन्हें पुरस्कृत किया जायेगा।

दरअसल, सेंट्रल रेलवे के प्वाइंट्समैन मयूर शेल्के वानगानी स्टेशन पर तैनात थे। तभी प्लेटफॉर्म पर एक महिला अपने बच्चे के साथ चल रही थी। इतने में बच्चे प्लेटफार्म से नीचे रेलवे ट्रैक पर गिर जाता है। उसी वक्त सामने से एक तेज रफ्तार ट्रेन आ रही होती है। इतने में कुछ मीटर की दूरी खड़े मयूर ने बच्चे को रेलवे ट्रैक पर देखा तो बेहद तेजी से दौड़ लगाते हुए खुद और बच्चे को किसी तरह प्लेटफार्म पर धकेल दिया। बच्चे का प्लेटफार्म से गिरना और मयूर का दौड़कर उसके पास पहुंचना और ट्रेन का आना ये सभी घटनाएं महज 8 सेकेंड के भीतर घटती हैं। यह पूरी घटना स्टेशन पर लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। यह वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल भी हो रहा है।