Friday,28 January 2022   11:22 am

विजय वर्मा की वेब सीरीज 'ओके कंप्यूटर' को अंतराष्ट्रीय सम्मान, यूं किया रिएक्ट

18-Apr-2021

नई दिल्ली,इंडिया  गली बॉय, सुपर 30 और ओके कंप्यूटर में अपनी अविश्वसनीय परफॉर्मेंस के साथ सुर्खियों में आने के बाद, विजय वर्मा का काम तीसरी बार अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहुंच गया है. इस बार 'ओके कंप्यूटर' को रॉटरडैम के अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह में दिखाया जाएगा. फिल्म आने वाले भविष्य में बढ़ती टेक्नोलॉजी से जुड़ी हुई है। ओके कंप्यूटर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के साथ एक डार्क कॉमेडी है। कहानी एक सेल्फ ड्राइविंग कार के इर्द-गिर्द घूमती है, जो एक पैदल यात्री को मार देती है और एक खोजी अधिकारी विजय केस को हल करने में जुटता है। भारत में बहुत कम ही ऐसी फिल्में बनी हैं ऐसे में इस फिल्म की कामयाबी देश की कामयाबी है। आईएफएफआर के आधिकारिक वेबपेज के अनुसार, जैकी श्रॉफ, विजय वर्मा और राधिया आप्टे अभिनीत वेब सीरीज ब्राइट फ्यूचर प्रोग्राम कैटेगरी में चुनी गई है।

इस खबर से उत्साहित विजय ने गुरुवार को पोस्ट करके लिखा, "ओके कंप्यूटर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल रॉटरडैम 2021 में जा रही है! हम ब्राइट फ्यूचर प्रोग्राम के लिए चुनी गई पहली टीवी सीरीज के लिए रोमांचित और सम्मानित हैं, जो उभरती फिल्म प्रतिभा को समर्पित है। चीयर्स टीम।"

विजय ने साझा किया- "जब मुझे रॉटरडैम में सिलेक्शन के बारे में पता चला, तो मेरी खुशी सातवें आसमान पर थी. यह एक प्रतिष्ठित फिल्म समारोह है और हमारे शो की मौजूदगी ने वैश्विक मंच पर भारत का प्रतिनिधित्व किया है। 'ओके कंप्यूटर' एक प्रमुख अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह में सफलता पाने वाला भारत का पहला कॉमेडी शो बन गया है। यह मेरा पैशन प्रोजेक्ट है और इस तरह के शो बहुत कम बन पाते हैं. मैं बेहद खुश हूँ!

ऑटो चला रहा है नेशनल बॉक्सर, शेयर किया एक बॉक्सर की कहानी, फरहान अख्तर ने शेयर किया वीडियो

17-Apr-2021

बॉलीवुड अभिनेता फरहान अख्तर सोशल मीडिया पर हमेशा एक्टिव  रहते हैं । उनकी फिल्में लोगों को जीवन की प्रेरणा देती है और जिंदगी को अपने तरीके से जीने के लिए प्रेरित करती है । हाल ही में फरहान अख्तर ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया, जो तेजी से वायरल हो रहा है । इस वीडियो में नेशनल लेवल के मुक्केबाज रह चुके आबिद खान के वीडियो पर रिएक्शन  दिया है । दरअसल आबिद एक   एनआईएस क्वालिफाइड कोच थे और नेशनल लेवल के बॉक्सर थे लेकिन अब हालात ऐसे है कि आबिद को ऑटो चलाकर गुजारा करना पड़ रहा है ।

स्पोर्टस गांव नाम के यूट्यूब चैनल को दिए गए पहले इंटरव्यू में आबिद ने अपनी कहानी बताई थी। तकरीबन 17 मिनट के इंटरव्यू में आबिद ने बताया था कि वह क्यों अब ऑटो चलाने का काम कर रहे हैं। वह बताते हैं कि उन्होंने तकरीबन 1980 में चंडीगढ़ से मुक्केबाजी की शुरुआत की। आबिद ने बताया कि 1982 में पहला नेशनल गेम्स खेला था। आबिद से जब पूछा गया कि वह ऑटो क्यों चला रहे हैं तो उनका जवाब था, “कारण ये है कि, जब काम नहीं मिला कहीं नौकरी नहीं मिली, भटकता रहा, जब कुछ नहीं मिला तो बच्चों के पेट पालने के लिए कुछ न कुछ तो करना ही था। अब ऑटो चला रहा हूं, जैसे-तैसे गुजर रही है।”

आबिद नेशनल स्तर पर खेलने के अलावा एनआईएस नेशनल इस्टीट्यूट ऑफ स्पोटर्स से डिप्लोमा भी कर चुके हैं। उन्होंने बताया, “मैं 1992-93 तक खेला हूं। मैंने एनआईएस डिप्लोमा 1988 में किया था। तब हमारे चीफ थे जीएस सिंधू। वह बाद में भारतीय टीम के कोच भी रहे। उनके अलावा टीएल गुप्ता और आर के शर्मा भी थे। यह तीन हमारे ट्रेनर थे। कुछ मेरी किस्मत ने साथ नहीं दिया, कुछ पहुंच नहीं थी कुछ भी कह लीजिए लेकिन नौकरी नहीं मिली।”

आबिद एनआईएस क्वालीफाइड कोच हैं। लेकिन समय की मार के कारण उन्होंने मुक्केबाजी से नाता तोड़ दिया था। हालांकि अब वह एक बार फिर मुक्केबाजी को अपना रहे हैं। उन्होंने चंडीगढ़ के पास धनास में रिहैबलीटेशन कॉलोनी में अपना सेंटर शुरू कर दिया है। वह अपने पास के बच्चों को ही निशुल्क ट्रेनिंग दे रहे हैं। आबिद ने स्पोटर्स गांव को दिए ताजा इंटरव्यू में कहा, “पहले प्यार के पूरी तरह से पास नहीं हूं लेकिन हां अब उससे मिलने के लिए चल पड़ा हूं। ये बच्चे तैयार हो जाएं। चंडीगढ़ में ये बच्चे कुछ करें आगे बढ़ें तब महसूस होगा कि हमने कुछ किया। हां खुशी है कि हमारा जो पैशन है हम उसकी तरफ चल पड़े हैं। मैंने शायद 94-95 में आखिरी बार पांच-छह रेजीमेंट थी, रुद्रप्रयाग में कोचिंग दी थी। अच्छा लग रहा है लेकिन और अच्छा तब लगेगा जब ये बच्चे आगे बढ़ें।”

Coronavirus Vaccine लगवाने से पहले जरा जान लें WHO की तरफ से दी गई सलाह, इस पर करें जरूर अमल

15-Apr-2021

देश में दिन पर दिन कोरोना वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में सरकार लोगों को एहतियात बरतने के साथ ही वैक्सीनेशन करवाने के लिए और प्रोत्साहित करती नजर आ रही है। इस बीच वैक्‍सीन को लेकर तरह-तरह की अफवाहें भी फैलाई जा रही हैं। भारत समेत सभी देशों की सरकारें और विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन भी इस तरह की अफवाहों पर ध्‍यान न देने के बारे में बार-बार कह रहा है।

विश्‍व स्‍वास्थ्‍य संगठन लगातार वैक्‍सीन और कोरोना संक्रमण को लेकर जरूरी जानकारी सारी दुनिया को अपने वेबपोर्टल और ट्विटर के माध्‍यम से उपलब्‍ध करवा रहा है। इसलिए हर किसी को इन पर भरोसा करना चाहिए न कि अफवाहों के मायाजाल में आना चाहिए।

अगर आप कोविड का टीका लगवाने जा रहे हैं तो नियमित रूप से खूब सारा पानी पीएं (Drink water), तरबूज, खीरा, ककड़ी जैसे पानी से भरपूर फलों का सेवन करें ताकि वैक्सीन की वजह से होने वाले साइड इफेक्ट्स की आशंका (Reduce side effects risk) को कम किया जा सके। साथ ही वैक्सीन के पूरे कोर्स के दौरान आपको बेहतर भी महसूस हो।

डब्‍ल्‍यूएचओ की तरफ से किए गए एक ट्वीट में लोगों को सलाह दी गई है कि कोविड-19 की वैक्‍सीन लेने के बाद व्‍यक्ति को कम से कम 15-30 मिनट तक वहीं वैक्‍सीन सेंटर पर रुकना चाहिए। संगठन की तरफ से इसकी जरूरत बताते हुए कहा गया है कि ऐसा इसलिए जरूरी है कि व्‍यक्ति पर होने वाली डोज का वहां मौजूद स्‍वास्‍थ्‍यकर्मी तुरंत देख सकता है।

वैक्सीन लगने के बाद शराब का सेवन बिल्कुल न करें (Avoid alcohol) क्योंकि इसकी वजह से डिहाइड्रेशन यानी शरीर में पानी की कमी की समस्या हो सकती है जिसकी वजह से वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स बढ़ सकते हैं। अल्कोहल रिसर्च नाम के जर्नल में प्रकाशित एक स्टडी की मानें तो टीका लगवाने के बाद शराब पीने से आपकी इम्यूनिटी भी कमजोर (Immunity weak) हो जाती है।

ब्रिटिश जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन में प्रकाशित एक स्टडी की मानें तो कोविड वैक्सीन लगवाने के बाद आपको सैचुरेटेट फैट और कैलोरीज से भरपूर प्रोसेस्ड फूड (Avoid processed food) से बिल्कुल दूर रहना चाहिए। जर्नल ऑफ क्लिनिकल स्लीप मेडिसिन की एक स्टडी की मानें तो कोरोना का टीका लगवाने के बाद बहुत ज्यादा मीठी और चीनी वाली चीजों (Avoid sugary food) से भी दूर ही रहना चाहिए, वरना स्ट्रेस और ऐंग्जाइटी (Stress and anxiety) हो सकती है और नींद में बाधा आ सकती है।

संगठन की तरफ से ये कुछ लोगों पर पहली या दूसरी डोज लेने के बाद हल्‍का बुखार, दर्द या शरीर पर त्‍वचा लाल हो सकती है, जो कुछ दिनों के बाद अपने आप ही खत्‍म भी हो जाता है। संगठन की वेबसाइट पर वैक्‍सीन को लेकर लोगों के मन की शंकाओं का निवारण करने के लिए इस बात की भी जानकारी दी गई है कि किन लोगों को वैक्‍सीन लेने से पहले डॉक्‍टर से राय लेने की जरूरत है।

कोरोना काल में कुंभ: दुनिया के सबसे बड़े धार्मिक आयोजन में पहले भी फैली महामारियां

14-Apr-2021

देशभर में कोरोना वायरस का प्रकोप जिस तरह से बढ़ रहा है वो सभी के लिए एक बड़ी चिंता का विषय बन गया है। मामले जिस तरह से बढ़ रहे हैं उसके मद्देनजर एक बार फिर से लॉकडाउन लगने जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई है जो एक अच्छा संकेत नहीं है। इस दौरान जहां लोगों से घरों में रहने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील की जा रही है वहीं दूसरी तरफ चुनावी रैलियों में कोई कमी देखने को नहीं मिल रही। और तो और धर्म और आस्था में सराबोर लोग कोरोना के खौफ को दरकिनार कर हरिद्वार में चल रहे कुंभ स्नान में बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं।

मेले में रोजाना करीब 10 लाख लोग शामिल हो रहे हैं। यह अनुमान लगाया जा रहा है कि इस मेले में कुल मिलाकर 10 करोड़ से 15 करोड़ लोग शामिल होंगे।

कागजातों में कुंभ के दौरान प्रत्येक कोविड 19 निर्देश का पालन किया जा रहा है। लेकिन अगर साफतौर पर भीड़ नियंत्रण की बात करें तो पाएंगे कि मेला स्‍थल पर भीड़ नियंत्रण, सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन और यहां तक की हैंड सैनिटाइजर का वितरण मुमकिन नहीं है।

हरिद्वार में चल रहे इस कुंभ मेले के दौरान की गई कोरोना टेस्‍टिंग में सोमवार को 102 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए। इस तरह की बड़े भीड़ वाले आयोजन कोरोना के संवाहक के रूप में देखे जा सकते हैं। इनमें कई ऐसे संक्रमित लोग होते हैं, जो टेस्टिंग नहीं कराते और बड़ी संख्‍या में लोगों को संक्रमित करते हैं। हरिद्वार में पिछले दो दिन में 1000 से अधिक कोरोना केस सामने आए हैं। सक्रिय मामलों की संख्‍या बढ़कर 2812 हो गई है।

19वीं सदी और 20वीं सदी के कुछ शुरुआती वर्षों में फैली कॉलरा या हैजा और प्‍लेग जैसी बीमारियों के दौरान भी कुंभ हुआ था। कुछ वैसा ही इस बार हो रहा है।

रामगोपाल वर्मा एक्टर ने लिखा- "जो आप देख रहे हैं वो कुंभ मेला नहीं है बल्कि ये कोरोना एटम बम है। मैं चकित हो रहा हूं कि इस वाइरल एक्सप्लोजन का दोष किसे दिया जाएगा?"

कोरोना काल में कुंभ: दुनिया के सबसे बड़े धार्मिक आयोजन में पहले भी फैली महामारियां

14-Apr-2021

देशभर में कोरोना वायरस का प्रकोप जिस तरह से बढ़ रहा है वो सभी के लिए एक बड़ी चिंता का विषय बन गया है। मामले जिस तरह से बढ़ रहे हैं उसके मद्देनजर एक बार फिर से लॉकडाउन लगने जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई है जो एक अच्छा संकेत नहीं है। इस दौरान जहां लोगों से घरों में रहने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील की जा रही है वहीं दूसरी तरफ चुनावी रैलियों में कोई कमी देखने को नहीं मिल रही। और तो और धर्म और आस्था में सराबोर लोग कोरोना के खौफ को दरकिनार कर हरिद्वार में चल रहे कुंभ स्नान में बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं।

मेले में रोजाना करीब 10 लाख लोग शामिल हो रहे हैं। यह अनुमान लगाया जा रहा है कि इस मेले में कुल मिलाकर 10 करोड़ से 15 करोड़ लोग शामिल होंगे।

कागजातों में कुंभ के दौरान प्रत्येक कोविड 19 निर्देश का पालन किया जा रहा है। लेकिन अगर साफतौर पर भीड़ नियंत्रण की बात करें तो पाएंगे कि मेला स्‍थल पर भीड़ नियंत्रण, सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन और यहां तक की हैंड सैनिटाइजर का वितरण मुमकिन नहीं है।

हरिद्वार में चल रहे इस कुंभ मेले के दौरान की गई कोरोना टेस्‍टिंग में सोमवार को 102 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए। इस तरह की बड़े भीड़ वाले आयोजन कोरोना के संवाहक के रूप में देखे जा सकते हैं। इनमें कई ऐसे संक्रमित लोग होते हैं, जो टेस्टिंग नहीं कराते और बड़ी संख्‍या में लोगों को संक्रमित करते हैं। हरिद्वार में पिछले दो दिन में 1000 से अधिक कोरोना केस सामने आए हैं। सक्रिय मामलों की संख्‍या बढ़कर 2812 हो गई है।

19वीं सदी और 20वीं सदी के कुछ शुरुआती वर्षों में फैली कॉलरा या हैजा और प्‍लेग जैसी बीमारियों के दौरान भी कुंभ हुआ था। कुछ वैसा ही इस बार हो रहा है।

रामगोपाल वर्मा एक्टर ने लिखा- "जो आप देख रहे हैं वो कुंभ मेला नहीं है बल्कि ये कोरोना एटम बम है। मैं चकित हो रहा हूं कि इस वाइरल एक्सप्लोजन का दोष किसे दिया जाएगा?"

छत्तीसगढ़ में 3 IAS अधिकारी कोरोना वायरस से हुए संक्रमित

12-Apr-2021

बता दें कि छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। सरकार के मेडिकल बुुलेटिन के अनुसार रविवार शाम तक प्रदेश में कुल 10521 नए मरीजों की पहचान हुई है वहीं 82 की मौत हुई है। सबसे अधिक 2833 मरीज रायपुर जिले में मिले हैं आज 37 लोगों को कोरोना की वजह से अपनी जान गंवानी पड़ी। छत्तीसगढ़ में कोरोना की दूसरी लहर की चपेट में खुद सरकार भी है। आज प्रदेश सरकार के 3 वरिष्ठ अफसर संक्रमण की चपेट में आ गये। सामान्य प्रशासन, खाद्य और परिवहन विभाग के सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंह कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं।  सी.के.खेतान (1987) अध्यक्ष, राजस्व मंडल, और छत्तीसगढ़ राजस्व मंडल के अध्यक्ष और प्रदेश के सबसे वरिष्ठ IAS अधिकारी चित्तरंजन खेतान को भी कोरोना का संक्रमण लग गया है। उन्होंने टवीट कर जानकारी देते हुए कहा है कि जांच रिपोर्ट में वे कोरोना पाजिटिव मिले है। जो उनके संपर्क में आए है वे कोरोना जांच करा लें।

Corona Impact: 21 साल में पहली बार बॉलीवुड अपने सबसे खराब दौर में, 2021 में सिर्फ 50 करोड़ का कलेक्शन

11-Apr-2021

नई दिल्ली,इंडिया। जानकार बताते हैं कि इस समय बॉलीवुड साल 2000 के बाद से अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है। साल 2021 की पहली तिमाही में सिर्फ फिल्म रूही (Roohi) ने अपने 25 करोड़ रुपये की कमाई की है। इसके बाद दूसरे नंबर में मुंबई सागा (Mumbai Saga)है। जिसका बॉलीवुड कलेक्शन 15 करोड़ रुपये है। इसके अलावा और भी कई फिल्में आई जो 2 करोड़ रुपये की कमाई भी नहीं कर पाईं। साल 2021 की पहली तिमाही में अभी तक सिर्फ 50 करोड़ रुपये का बॉक्स ऑफिस ने कलेक्शन देखा है। अभी तक बॉलीवुड के इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ है। यानी नई सदी की शुरुआत से 2000 के बाद से अब तक सबसे खराब दौर रहा है।

हालांकि बॉलीवुड के लिए कुछ अच्छी खबरें भी आ रही हैं। जानकारों का कहना है कि मई से कोरोना की स्थिति में सुधार दिखना शुरू हो जाएगा। वैक्सीनेशन अभियान के चलते जून तक इंडस्ट्री में सुधार की संभावना जताई जा रही है। उम्मीद है कि जून तक 25 फीसदी की सीमा के साथ थिएटर फिर से खोले जा सकते हैं। फिलहाल सबकी नजर इस समय दूसरी तिमाही पर लगी हुईं हैं। लोगों को उम्मीद है कि जून के बाद से स्थितियों में सुधार होना शुरू हो जाएगा और साल 2021 पिछले साल 2020 के मुकाबले बेहतर साबित होगा।

घर बैठे छ.ग. कोविड-19 ईपास लिंक से मिलेगी ई-पास की सुविधा

10-Apr-2021

रायपुर,छत्तीसगढ़,इंडिया। जिला प्रशासन द्वारा रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड और नगर निगम रायपुर के सहयोग से सी.जी. कोविड-19 ई-पास एंड्रॉयड एप्प तैयार किया गया है, जिसके माध्यम से अति आवश्यक होने पर रायपुर शहर के भीतर सहित छत्तीसगढ़ के अन्य शहरों और जिलों में आने जाने के लिए आवश्यक पूर्व प्रशासनिक स्वीकृति प्राप्त होगी। इस एप्प के माध्यम से 15 प्रकार की आवश्यक सेवाओं में लगे सेवा प्रदाता भी लाॅक डाउन के दौरान यात्रा एवं परिवहन की अनुमति के लिए आवेदन कर सकेंगे।

ई-पास के माध्यम से अनुमति की पूरी प्रक्रिया सरल है और इसके लिए epass.cgcovid19.in लिंक पर सीधे जाकर या क्यू आर कोड स्कैन या https://play.google.com/store/apps/details?id=com.allsoft.corona लिंक पर जाकर कोविड-19 ई-पास एप्प डाउनलोड किया जा सकता है। इस लिंक पर जाकर अपना ऑनलाइन फॉर्म जिला प्रशासन की अनुमति के लिए प्रस्तुत कर सकते हैं।

आवेदन के साथ आधार कार्ड एवं वाहन का नंबर दर्ज कराना जरूरी है। इसके अलावा आवेदक को अपना फोटो व पहचान पत्र व और पास की आवश्यकता के कारणों को दर्शाने वाले दस्तावेज भी अपलोड करना होगा।

पूर्ण रूप से भरे हुए फार्म को ऑनलाइन प्रशासनिक स्वीकृति हेतु प्रेषित किए जाने की व्यवस्था भी इस एप्प में है। अनुमति उपरांत आवेदक रायपुर के आवेदित क्षेत्र अथवा छत्तीसगढ़ के जिलों या शहरों में निर्धारित अवधि तक आ-जा सकेंगे। बिना ई-पास यात्रा करते पाए जाने पर वाहन 15 दिनों के लिए जब्त कर वैधानिक कार्यवाही की जाएगी।

शासन द्वारा मान्यता प्राप्त परीक्षा के अभ्यर्थियों के काॅल लेटर तथा कोविड सेवा में लगे अति आवश्यक सेवा प्रदाताओं को नियोक्ता द्वारा जारी पहचान पत्र को ई-पास की श्रेणी में रखा गया है और इन्हें अलग से आवेदन करने की आवश्यकता नहीं होगी।

 

PM MODI को लगा कोरोना टीके का दूसरा डोज, बोले-वायरस को हराने के लिए टीकाकरण जरूरी

09-Apr-2021

नई दिल्ली,इंडिया  देश में इन दिनों कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़े हैं। इसे देखते हुए टीकाकरण अभियान में तेजी लाने की बात कही जा रही है। अभी देश में 45 साल से ऊपर के व्यक्तियों को टीका लग रहा है। वहीं विपक्ष का कहना है कि टीकाकरण के दायरे में सभी उम्र के लोगों को लाना चाहिए। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि टीकाकरण अभियान के तहत अभी तक देश में 8.83 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज सुबह दिल्ली एम्स पहुंचकर कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज ली। पीएम मोदी ने ट्वीट कर खुद इसकी जानकारी दी। पीएम मोदी ने ट्वीट किया कि दिल्ली एम्स में सुबह वैक्सीन की दूसरी डोज ली। साथ ही पीएम मोदी ने अपील की कि जो भी वैक्सीन के पात्र हैं वो जरूर टीका लगवाएं। पीएम मोदी ने कहा कि अगर आप वैक्सीन के पात्र हैं तो Cowin.gov.in पर पंजीकरण कराएं।'' प्रधानमंत्री ने टीका लगवाते हुए सोशल मीडिया पर अपनी एक तस्वीर भी शेयर की है। पीएम मोदी को कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज भी पुडुचेरी की सिस्टर पी निवेदा ने ही लगाई, इन्होंने ही प्रधानमंत्री को वैक्सीन की पहली डोज दी थी। उनके साथ पंजाब की नर्स निशा शर्मा मौजूद थीं।

 

 

आज से महंगे होंगे एलईडी टीवी, फ्रिज, कार और ये सामान

01-Apr-2021

1 अप्रैल से कई चीजें महंगी हो रही हैं। इनमें जरूरत और रोजमर्रा के इस्तेमाल की चीजें शामिल हैं। दूध से लेकर बिजली-AC/Fridge से लेकर हवाई सफर तक सब महंगा होगा। कारों की सवारी महंगी हो गई है तो स्मार्टफोन खरीदने के लिए ज्‍यादा दाम चुकाने होंगे। दूध, घी, दही, पनीर आदि के रेट बढ़ेंगे। अलग-अलग स्मार्टफोन्स की कीमतें 500 रुपये तक बढ़ सकती हैं। टर्म प्लान के लिए ज्यादा प्रीमियम चुकाना होगा। एविएशन सिक्योरिटी फीस बढ़ेगी, ये 1 अप्रैल से बढ़कर 160 की जगह 200 रुपये होगी। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर टोल 25 रुपये तक बढ़ेगा।

जेब ढीली करेंगे इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद

एसी, फ्रिज, कूलर, पैनासोनिक और थॉमसन जैसे ब्रांड ने एसी, फ्रिज और कूलर की कीमतें बढ़ाने की घोषणा की है। इसके बाद एसी के लिए प्रति इकाई 1,500 से 2,000 रुपये ज्यादा चुकाने होंगे।

स्मार्टफोन - बजट में मोबाइल पार्ट्स, चार्जर और एडॉप्पर, बैटरी, हेडफोन पर आयात शुल्क 2.5 फीसदी बढ़ाने की बात कही गई थी। इसे देखते हुए कंपनियां स्मार्टफोन के दाम 500 रुपये तक बढ़ा सकती हैं।

महंगी होगी कार-बाइक की सवारी

कार - महंगे कच्चे माल की वजह से मारुति, निसान सहित कई कंपनियों ने 1 अप्रैल से कीमतें बढ़ाने की घोषणा की है। कीमतें कितनी बढ़ेंगी, यह तय नहीं है। जानकारों की मानें तो कारें 3-5% तक महंगी हो सकती हैं।

दोपहिया - हीरो मोटोकॉर्प दोपहिया वाहनों की कीमतें 2500 रुपये तक बढ़ा सकती है। बाइक व स्कूटर के किस मॉडल पर कितनी कीमतें बढ़ेंगी, यह मार्केट के हिसाब से तय होगा। कंपनियां ग्राहकों की सुविधा के लिए लागत बचत कार्यक्रम को आगे बढ़ा रही हैं। 

बढ़ेंगे दूध के दाम - किसानों ने दूध के दाम 3 रुपये बढ़ाकर 49 रुपये प्रति लीटर करने की बात कही थी। ऐसे में घी, पनीर और दही समेत दूध से बने सभी उत्पादों की कीमतें बढ़ सकती हैं।

टर्म प्लान - 1 अप्रैल से टर्म प्लान के लिए ज्यादा प्रीमियम चुकाना होगा। कोरोना के बाद मांग में वृद्धि और ज्यादा जोखिम के कारण बीमा कंपनियां प्रीमियम में 10 से 15% वृद्धि कर सकती हैं।

हवाई सफर - हवाई किराया बढ़ाने के बाद एविएशन सिक्योरिटी फीस (एएसएफ) बढ़ाने का फैसल किया गया है। घरेलू उड़ानों के लिए वर्तमान में एएसएफ 160 रुपये है, जो 1 अप्रैल से बढ़कर 200 रुपये हो जाएगा।

महंगा होगा एक्सप्रेस-वे पर सफर - आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर सफर करना और महंगा होने जा रहा है। 2021-22 के लिए मंजूरी के तहत न्यूनतम दरें 5 रुपये और अधिकतम 25 रुपये बढ़ाई गई है।

Army Chief General MM Naravane का बयान, लद्दाख में भारत ने नहीं खोई एक भी इंच जमीन

31-Mar-2021

नई दिल्ली,इंडिया। भारतीय सेना प्रमुख एम एम नरवणे (Manoj Mukund Naravane) ने भारत-पाक स्थिति,आतंकवाद, एलएसी और एलओसी समेत तमाम मुद्दों पर खुलकर बातचीत की है। आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे ने लद्दाख में भारत-चीन तनातनी पर कहा कि हमने चाइना के हाथों अपनी जमीन का कोई हिस्सा नहीं गंवाया है। हम वहीं हैं, जहां हम थे। चीन के साथ स्टैंड ऑफ के दौरान हमने एक इंच जगह भी नहीं खोई है। नरवणे ने कहा कि संघर्ष वाले क्षेत्रों में चरणबंद तरीके से सेना हटाने को लेकर सहमति बनी है। उन्होंने कहा कि चीनी सेना विवादित क्षेत्रों से अपने स्थाई ठिकानों की ओर लौट चुकी है। जनरल नवरणे ने कहा कि भारत की सेना ने अपनी जमीन को एक इंच भी नहीं छोड़ा है। उन्होंने कहा कि भारत के पास जो जमीन पहले थी, भारत के पास वो जमीन अब भी है।  साथ ही उन्होंने पेपर लीक मामले में भी अपना बयान दिया है। कश्मीर में हाल ही में कुछ आतंकी घटनाएं हुई है। अभी भी घाटी में युवा आतंकी संगठनों में शामिल हो रहे हैं। हालांकि आतंकी घटनाओं में काफी सुधार हुआ है।

आपको बता दें कि पहले डोकलाम और फिर पूर्वी लद्दाख में चीनी सैनिकों के साथ ही हुई तनातनी के बाद दोनों देशों के बीच युद्ध जैसे हालात बन गए थे। लद्दाख में गलवान घाटी में दोनों सैनिकों के टकराव ने सैन्य अधिकारियों को सोचने पर मजबूर कर दिया था। जिसके बाद भारत ने एलएसी पर अपने सैनिकों की संख्या बढ़ा दी थी। ऐसी ही कुछ तैयारी चीन की ओर से भी देखने को मिली थी। इस बीच विपक्षी पार्टियों ने चीन द्वारा भारतीय जमीन कब्जाने के आरोप लगाए थे। हालांकि उस समय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी इन आरोपों को सिरे से खारिज किया था।

थलसेना अध्यक्ष जनरल एम एम नरवणे ने इससे कुछ दिनों पहले कहा था कि चीन के साथ समझौते के बाद पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील क्षेत्र से सैनिकों के हटने के बाद भारत के लिए खतरा केवल 'कम हुआ' है, लेकिन यह बिल्कुल खत्म नहीं हुआ है । उन्होंने कहा कि यह कहना गलत होगा कि चीनी सैनिक पूर्वी लद्दाख में उन क्षेत्रों में अब भी बैठे हैं जो पिछले साल मई में गतिरोध शुरू होने से पहले भारत के नियंत्रण में थे ।

Lockdown की ओर बढ़ रहा छत्तीसगढ़ : रायपुर में आज रात 9 बजे से नाइट कर्फ्यू…देखें आपके लिए क्या है निर्देश

30-Mar-2021

देश और प्रदेश में कोरोना (Corona) का एक बार फिर से कोहराम मचा हुआ है। इसको लेकर कई राज्यों में लॉकडाउन (Lockdown)की घोषणा कर दिया गया है। वहीं छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की बात करे तो लॉकडाउन की ओर बढ़ रहा है। कोरोना संक्रमण को देखते हुए छत्तीसगढ़ के चार जिलों में नाइट कर्फ्यू लागू किया जा चुका है। आज रात से रायपुर जिले में नाइट कर्फ्यू लागू कर दिया गया है। रायपुर कलेक्टर डॉ. एस भारतीदासन ने रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक जिले में नाइट कर्फ्यू घोषित कर दिया है। इस दौरान ना तो कोई दुकानें खुलेगी और ना ही लोग अति आवश्यक कारणों को छोड़कर घरों से बाहर निकल सकेंगे। वहीं स्वास्थ्यमंत्री टीएस सिंहदेव के अनुसार संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सरकार लॉकडाउन पर विचार कर सकती है। लॉकडाउन को लेकर सरकार ने सोच-विचार शुरू कर दिया है। जशपुर, सरगुजा, सुरजपुर और सुकमा में नाइट कर्फ्यू मंगलवार से लगा दिया गया है।

ये आदेश से मुक्त

पेट्रोल पंप और मेडिकल स्टोर को इस आदेश से मुक्त रखा गया है।

दुकानदारों को ये आदेश

सभी दुकानदारों को ये आदेश दिया गया है कि दुकानों के आगे पोस्टर लगाकर खुलने और बंद होने के समय को प्रदर्शित करना है। बिना मास्क पहने अगर कोई ग्राहक आए तो उसे मास्क पहन कर आने को कहना है। ग्राहकों को मास्क पहनने को प्रेरित भी करना है।

यहां 1 घंटे की छूट

राजधानी में जारी आदेश के मुताबिक रेस्टोरेंट रात 10 बजे सुबह 8 बजे तक बंद रहेंगे। यहां एक घंटे अतिरिक्त समय दिया गया है। इसके साथ ही होटलों में 11.30 बजे तक टेक-अवे होम डिलीवरी सुविधा रहेगी। इस आदेश में साफ कहा गया है कि उपरोक्त आदेश का पालन नहीं करने पर दुकान को 15 दिनों के लिए सील कर दिया जाएगा।

Safe Holi Tips: कोरोना के बीच ऐसे खेलें सेफ होली, फॉलो करें ये टिप्स

27-Mar-2021

इस साल 28 और 29 मार्च को होली मनाई जाएगी।  होली रंगों का, खुशियों का, प्यार बांटने का त्योहार है।  इस दिन सब एक दूसरे को गुलाल लगाते हैं, सुबह खूब होली खेली जाती है और शाम को एक-दूसरे के घर भी जाया जाता है।  पर कोरोना के दोबारा बढ़ते प्रकोप ने एक बार फिर सबको चिंता में डाल दिया है।  ऐसे में सबके मन में यही सवाल पैदा हो रहा है कि होली खेलना कितना सेफ रहेगा? तो आइए हम बताते हैं कोरोना के बीच सेफ,

सुरक्षित होली खेलने के टिप्स।

  • होली पर मेहमानों को खिलाना हो कुछ हेल्दी और डिफरेंट तो ट्राय करें ओट्स नमकपारे, पान ठंडाई और गुलकंद गुजिया
  • होली के इस रंग से बचें : गाढ़े-पक्के रंग के फेर में अपनों को जहरीले केमिकल से न सराबोर कर दें आप, ऐसे करें पहचान
  • होलिका दहन में जरूर डालें अनाज, जानिए क्या है इसका महत्व और पूजा की विधि, मुहूर्त
  • रंग खेलने से पहले स्किन और बालों पर नारियल तेल की मालिश करें, नाखूनों पर नेल पॉलिश जरूर लगाएं
  • कोरोना से बचना है तो होली पर सोशल डिस्टेंसिंग का रखें ख्याल, इन टिप्स के साथ मनाएं त्यौहार
  • होली पर घर की देखभाल : घर की दीवारों और इंटीरियर को होली के रंगों से ऐसे बचाएं और ऐसे करें देखभाल
  • फूल-पत्तियों से घर पर ही बना लें हर्बल कलर, बेहद आसान है इन्हें बनाना
  • चेहरे पर लगे केमिकल वाले जिद्दी रंग को छुड़ाने के लिए क्रीम या साबुन की जरूरत नहीं, घर पर मौजूद इन चीजों को लगाकर हटाएं रंग
  • रंगों से खेलने के बाद नहा लिया, खाना खा लिया, फिर आराम भी कर लिया, उसके बाद क्या करें? वेल, आप गेम्स खेल सकते हैं। पहले से ही इनकी प्लानिंग करके रखें ताकि ऐसा न हो कि आप सोचते ही रह जाएं और शाम ऐसे ही वेस्ट हो जाए। हां, इसका जरूर ध्यान रखें कि किसी भी तरह के नशे या फिर पैसों को इन गेम्स में शामिल न करें, क्योंकि इनके कारण माहौल बिगड़ने की आशंका ज्यादा बढ़ जाती है।

आशा भोसले होंगी Maharashtra Bhushan Award 2020 से सम्मानित, लता मंगेशकर ने जाहिर की खुशी

26-Mar-2021

महाराष्ट्र सरकार सिंगर आशा भोसले (Asha Bhosle) को महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार 2020 (Maharashtra Bhushan award 2020) से सम्मानित करेगी। पुरस्कार समिति की बैठक में गुरुवार को यह निर्णय लिया गया। इस बैठक की अध्यक्षता महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने की।

आशा भोसले ने महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार 2020 मिलने पर महाराष्ट्र सरकार का आभार जताया है। इसके साथ ही आशा भोसले ने पुरस्कार मिलने पर प्रतिक्रिया दी है और खुशी जताते हुए केक काटा है।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के ऑफिस की तरफ से ट्वीट करते हुए कहा गया- "प्रसिद्ध गायिका आशा भोसले को वर्ष 2020 के लिए महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। मुख्यमंत्री भूषण बालासाहेब ठाकरे की अध्यक्षता में महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार चयन समिति की बैठक में यह निर्णय लिया गया। चुनाव के बाद मुख्यमंत्री ने आशाताई को बधाई दी।"

बता दें कि आशा भोसले का जन्म वर्ष 1933 में महाराष्ट्र के सांगली में हुआ था। वह अब तक करीब 16 हजार से ज्यादा गाने गा चुकीं हैं। 16 साल की उम्र में ही आशा भोसले ने गणपतराव भोसले से शादी कर ली। गणपतराव उस समय 31 साल के थे।

उनके पिता दीनानाथ मंगेशकर एक एक्टर और क्लासिकल सिंगर थे। आशा जब सिर्फ 9 साल की थीं, उस समय उनके पिता का निधन हो गया था। उसके बाद उनका परिवार पुणे से कोल्हापुर और उसके बाद मुंबई आ गया। परिवार की सहायता के लिए आशा और बड़ी बहन लता मंगेशकर ने फिल्मों में गाना और अभिनय करना शुरू कर दिया था।

67th National Film Awards :केसरी के गाने तेरी मिट्टी के लिए बी प्राक को मिला बेस्ट मेल प्लेबैक सिंगर का अवॉर्ड

23-Mar-2021

बेस्ट इनवेस्टिगेटिव फिल्म- जक्कल;

बेस्ट एक्सप्लोरेशन फिल्म- वाइल्ड कर्णाटक;

बेस्ट एजुकेशन फिल्म- एपल्स एंड ओरांजेस;

बेस्ट फिल्म ऑन सकल इश्यूज- होली राइट्स,

लाडली; बेस्ट स्टंट- अवाने श्रीमन्नारायण (कन्नड़);

बेस्ट कोरियोग्राफी- महर्षि (तेलुगू);

बेस्ट स्पेशल इफेक्ट्स- मरक्कर;

स्पेशल जूरी अवॉर्ड- ओत्था सेरुप्पू साइज- 7 (तमिल);

बेस्ट लिरिक्स- कोलम्बी (मलयालम);

बेस्ट ओरिजिनल स्क्रीनप्ले- ज्येष्ठोपुत्री; एडाप्टेड स्क्रीनप्ले- गुमनामी; डायलॉग राइटर- द ताशकंत फाइल्स;

बेस्ट सिनेमेटोग्राफी- जल्लीकट्टू;

बेस्ट फीमेल प्लेबैक सिंगर- बार्दो;

बेस्ट मेल प्लेबैक सिंगर- बी प्राक, केसरी, तेरी मिट्टी।

इस इवेंट को नेशनल मीडिया सेंटर में आयोजित किया गया। ये समारोह इससे पहले कोरोना महामारी के कारण टाल दिया गया था। 2019 में बनी फिल्मों के लिए पुरस्कारों की घोषणा की गई। 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा बीते साल 3 मई 2020 को होनी थी। मगर कोरोना महामारी के कारण बने हालात की वजह से इसे टालना पड़ा गया था। गौरतलब है कि पुरस्कारों के लिए आखिरी एंट्री 17 फरवरी 2020 तक ही रखी गई थी।

 

इतना भी मुश्किल नहीं है खुश रहना, खुश रहने के कुछ बेहतरीन उपाय, अपनाएं और रहें हमेशा खुश

18-Mar-2021

आपका इस लेख को पढ़ना ही यह बताता है कि आपको भी खुशी की तलाश है, वैसे सही कहा जाये तो खुशी पाना इतना कठिन नहीं है जितना हम लोगों को लगता है । जिंदगी है तो दुश्‍वारियां भी हैं। मगर कई बार अपनी जिम्‍मेदारियों को निभाने और करियर (Career) बनाने की जद्दोजहद में हम खुद को ही भूल जाते हैं। इसका असर यह होता है कि हम अलग-थलग पड़ जाते हैं। खुद को भूलने लगते हैं और यह भी नजरअंदाज कर देते हैं कि जीने के लिए हमें भी बेहतर माहौल के साथ खुश रहने की जरूरत है। ऐसे में कई बार हताश (Desperate) होने लगते हैं और महसूस होता है कि जिंदगी दुश्‍वारियों से ज्‍यादा कुछ नहीं। इसका असर आपकी सेहत (Health) पर भी पूरी तरह पड़ता है। ऐसे में आप खुद को दीजिए खुशियों की झप्‍पी और अपनाइए मामूली लगने वाले, लेकिन बेहद असरदार तरीके। इनकी मदद से न सिर्फ आपका तनाव कम होगा, बल्कि आप खुश रहना भी सीखने लगेंगे।

हम आपसे कुछ ऐसी बातें आपसे शेयर कर रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप अपने जीवन में खुशियां पा सकते हो।

शौक बनाएंगे जिंदादिल : अगर आपको लिखना पसंद है या फिर पेंटिंग या संगीत की रुचि है तो कुछ वक्‍त अपने इन शौक के लिए भी निकालें। इसके लिए अपने विचारों, शौक वाले लोगों से दोस्‍ती करें। उनका साथ आपमें उत्‍साह जगाएगा।

थोड़ा वक्‍खुद के साथ : लाइफ में खुश रहने के लिए सबसे जरूरी है अपने लिए समय निकालना। ऑफिस की भागदौड़ और तनाव भरी जिंदगी में हमारे पास अमूमन सभी चीजों के लिए समय होता है, लेकिन खुद के लिए समय नहीं होता। खुश रहने के लिए आप अपने लिए समय जरूर निकालें।

छोटी-छोटी बातें करें नजरअंदाज ; लाइफ में उतार चढ़ाव आते रहते हैं। ऐसे में छोटी-छोटी बातों को नजरअंदाज  करें। एक ही बात को पकड़कर बैठ जाने से आप समय तो जाया करेंगे ही, इसका असर आपकी सेहत और आपके काम पर भी पड़ेगा। इसलिए निराश न हों और हमेशा पॉजिटिव बनें रहें। यह खुशी की दिशा में बढ़ने का अहम कदम है।

खुशियों को साझा करना सीखें : आप घर से बाहर जॉब करते हैं या पढ़ाई करते हों तो अपने आसपास एक दुनिया बनाना सीखें। साथ ही इस दुनिया में अपने दोस्‍तों के बीच अपनी खुशियों को साझा करना सीखें। आपकी खुशी बढ़ जाएगी।

 

उदासी और निराशा छोड़ें : जिंदगी में हमेंशा आपको वही चीजें हासिल नहीं होती, जिसका आप सपना देखते हैं। जिंदगी में सभी को सबकुछ नहीं मिलता। इसलिए जहां आपको जैसा मिले उसे स्‍वीकार कर आगे बढ़ना सीखें। मुंह लटका कर अफसोस करना समय खराब करने के अलावा कुछ नहीं।

 खुश रहना सिखाएगा साथ : सबसे पहले तो जिंदगी में अपनी प्राथमिकताएं तय करें। करियर के अलावा आसपास प्यार करने वाले लोग भी जरूरी हैं। सफलता की भागदौड़ में आप उन्हें नजरअंदाज न करें। यकीन मानिए अपनों का साथ आपको खुश रहना सिखा देगा।

महाराष्ट्र में कोरोना का कोहराम, आज आए 25,833 नए केस, 58 लोगों की मौत

18-Mar-2021

मुंबई,महाराष्ट्र,इंडिया।  महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के मामले लगातार बड़ी तेजी से बढ़ते जा रहे हैं।  महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी है। स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से शाम के करीब आठ बजे जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 25,833 लोग कोरोना से संक्रमित हुए हैं। ये 2021 में एक दिन में दर्ज किये गये सबसे अधिक मामले हैं।

हालात ऐसे हो गए हैं कि अब कोरोना वायरस की चपेट में स्कूल और कॉलेज के बच्चे भी आते जा रहे हैं। महाराष्ट्र के पालघर जिले में एक आश्रम स्कूल में 33 बच्चे कोरोना वायरस की चपेट में आ गए। पूरे आश्रम स्कूल में 193 बच्चे हैं। जब प्रशासन ने इनका टेस्ट कराया तो पता चला 193 में से 30 बच्चे कोरोना पॉजिटिव हैं। सभी के सभी 30 बच्चों को और वहां के टीचरों को इलाज के लिए कॉलिंग टीम सेंटर भेज दिया गया है।

पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस से 58 लोगों की मौत हुई है। अधिकारी ने बताया कि राज्य में अब तक 23,96,340 लोग कोरोना से संक्रमित हुए हैं। इनमें से 21,75,565 लोग ठीक हुए हैं। 53,138 लोगों की मौत हुई है।

इससे पहले भी महाराष्ट्र के पालघर जिले में एक आश्रम स्कूल से 79 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे,  जिसमें आश्रम स्कूल के छात्र टीचर और कर्मचारी भी शामिल थे। लगातार आश्रम स्कूल और प्राइवेट स्कूलों में कोरोना पॉजिटिव के बढ़ते मामले को देखते हुए पालघर प्रशासन ने अब यह फैसला लिया है कि अगले आदेश तक सभी स्कूल, आश्रम स्कूल और प्राइवेट स्कूल और कॉलेज पूरी तरीके से बंद रहेंगे। कोरोना के खतरे को देखते हुए टीचर ऑनलाइन के जरिए बच्चों को पढ़ाएंगे और बच्चों के संपर्क में रहेंगे।

रेलवे ने तीन गुना बढ़ाए प्लेटफॉर्म टिकट के दाम, 10 की जगह अब 30 रुपए देने होंगे

17-Mar-2021

रायपुर,छत्तीसगढ़,इंडिया। कोरोना काल और बढ़ती महंगाई के बीच आम लोगों को दोहरा झटका लगा है। रेलवे ने प्लेटफॉर्म टिकट की दरों में इजाफा कर दिया है। रायपुर और दुर्ग स्टेशन में प्लेटफॉर्म टिकट के दाम 30 रुपए कर दिए गए हैं।

रेलवे 18 मार्च ये शुल्क वसूल करना शुरू कर देगी। आपको बता दें कोरोना संक्रमण को देखते हुए रेलवे ने प्लेटफॉर्म टिकट की बिक्री पर रोक लगा दी थी।

लेकिन अब 18 मार्च से लोगों को प्लेटफॉर्म टिकट के लिए 30 रुपए देने होंगे।

जबकि राजधानी से आसपास के करीब 15 किलोमीटर के दायरे वाले स्टेशनों तक का सफर ही 10 रुपए से कम में किया जा सकता है। ऐसे में प्लेटफॉर्म टिकट और यात्री टिकट की दरों के फर्क से रेलवे की खिल्ली उड़ रही है। जबकि नए प्लेटफॉर्म टिकट रिवाइज के साथ ही संभागीय रेलवे प्रबंधक (डीआरएम) को यह भी ताकत दी गई है, कि वह स्टेशन पर बढ़ती भीड़ को देखते हुए प्लेटफॉर्म टिकट की दर बढ़ा भी सकता है।