Saturday,28 May 2022   07:33 am
Previous123456789...1213Next

Singapore Beer: पेशाब से बनाई जा रही है बीयर, जानिए इसकी हैरान कर देने वाली वजह

27-May-2022

NeWater Singapore Beer: सिंगापुर की एक ब्रूवरी में इन दिनों एक अलग टाइप की बीयर मिल रही है। वैसे तो बीयर फलों और जौ के पानी के सड़ाकर एल्कोहल मिलाकर बनाई जाती है, लेकिन सिंगापुर में सीवेज यानी गंदे नाले के पानी और यूरीन बीयर बनाई जा रही है। न्यू्ब्रू नाम के इस बीयर को फिलहाल दुनिया के सबसे इको-फ्रेंडली बीयर के रूप में प्रमोट किया जा रहा है। बता दें कि बीयर बनाने वाली जगह को ब्रूवरी कहते हैं।

ये है न्यूब्रू को लॉन्च करने का उद्देश्य

सिंगापुर की वॉटर अथॉरिटी ने देश की पानी की कमी की समस्याओं के बारे में जागरूकता पैदा करने और उन समस्याओं के समाधान के तौर पर दुकानों और बार में उपलब्ध पेय पदार्थ लॉन्च किए हैं। इसलिए पानी की कमी से जूझ रहे सिंगापुर में एक शराब की भठ्ठी ने न्यूब्रू नामक बीयर लॉन्च की है। जिसे उस सीवेज के पानी से बनाया जा रहा है। जिसमें इंसनों का पेशाब और मल बहता हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, NeWater को कई तरह के जांच प्रोसेस से गुजना पड़ता है। इससे ये पानी सुरक्षित हो जाता है। ANI की एक रिपोर्ट के मुताबिक, न्यूब्रू को एक खास तरीके से लिक्विड से बनाया जाता है। इसमें नालों के पानी और अपशिष्ट को रिसाइकल किया जाता है और फिल्टर करके तैयार किया जाता है। इस खास लिक्विड का नाम नीवॉटर है। ये सिंगापुर में 20 साल से मौजूद है। वहां के बीयर में 95 फीसदी नीवॉटर ही मिलाया जाता है।

क्या दुनिया में पैर पसार रहे मंकीपॉक्स वायरस के खिलाफ मौजूद है कोई वैक्सीन? कैसे फैलता है? क्या हैं लक्षण?

26-May-2022

मंकीपॉक्स, एक ऐसी बीमारी जो दशकों से अफ्रीकी लोगों में आम है लेकिन अब वो दुनिया के अन्य देशों में भी फैल रही है। खासकर अमेरिका, कनाडा और कई यूरोपीय देशों में इसके मामले सामने आ रहे हैं। 11 देशों में अब तक 80 मामले पाए जा चुके हैं। हालांकि इस बीमारी का प्रकोप अभी बहुत व्यापक तो नहीं है लेकिन कुछ देशों में आए नए केस ने लोगो में चिंता ज़रूर पैदा कर दिया है।

क्या है वायरस?

स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि एक बार फिर वायरस के फैलने का कारण क्या है इसे लेकर अधिक जानकारी नहीं है, उनका कहना है कि फिलहाल आम जनता के लिए घबराने की कोई बात नहीं है।

मंकीपॉक्स एक जूनोटिक (एक प्रजाति से दूसरी प्रजाति में फैलने वाली) बीमारी है। ये बीमारी मंकीपॉक्स वायरस से संक्रमण के कारण होती है जो पॉक्सविरिडाइ फैमिली के ऑर्थोपॉक्सवायरस जीनस से आता है। ऑर्थोपॉक्सवायरस जीनस में चेचक (स्मालपॉक्स) और काउपॉक्स बीमारी फैलाने वाले वायरस भी आते हैं। मंकीपॉक्स वायरस का सबसे पहले 1958 में पता चला था। तब रिसर्च के लिए तैयार की गईं बंदरों की बस्तियों में इस वायरस के कारण पॉक्स जैसी बीमारी देखी गई थी।

इधर, WHO यूरोप के रिचर्ड पीबॉडी ने कहा कि अफ्रीका के बाहर मंकीपॉक्स के प्रकोप से बचाव के लिए बड़े पैमाने पर वैक्सीनेशन की जरूरत नहीं है। स्वच्छता और सुरक्षित यौन व्यवहार जैसे उपायों से इसके प्रसार को नियंत्रित किया जा सकता है।

अब तक अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, स्वीडन, इटली, बेल्जियम, फ्रांस, नीदरलैंड, जर्मनी, ब्रिटेन, पुर्तगाल, इजरायल और स्पेन सहित 16 देशों में इसके मामले सामने आ चुके हैं।

क्या हैं इसके लक्षण?

मंकीपॉक्स से संक्रमित किसी जानवर या इंसान के संपर्क में आने पर कोई भी व्यक्ति संक्रमित हो सकता है।

यह वायरस टूटी त्वचा, सांस और मुंह के जरिए शरीर में प्रवेश करता है। छींक या खांसी के दौरान निकलने वाली बड़ी श्वसन बूंदों से इसका प्रसार होता है।

इंसानों में मंकीपॉक्स के लक्षण चेचक जैसे होते हैं। शुरूआत में बुखार, सिरदर्द, मांसपेशियों और पीठ में दर्द, थकावट होती है और तीन दिन में शरीर पर दाने निकलने लग जाते हैं।

स्पेस-X फ्लाइट अटेंडेंट ने एलन मस्क पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप, मस्क ने दी सफाई

20-May-2022

अमेरिकी अरबपति एलन मस्क दुनिया के सबसे चर्चित नामों में से एक हैं और अलग-अलग वजहों से सुर्खियों में बने रहते हैं। अब एक पूर्व स्पेस-X फ्लाइट अटेंडेंट ने टेस्ला CEO एलन मस्क पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। 

बिजनेस इनसाइडर रिपोर्ट के मुताबिक, स्पेस-X की कॉर्पोरेट जेट फ्लीट में कॉन्ट्रैक्ट बेसिस पर काम करने वाली फ्लाइट अटेंडेंट ने मस्क पर उत्पीड़न का आरोप लगाया। अटेंडेंट का कहना है कि मस्क ने मसाज के दौरान उसकी सहमति के बिना उसे छुआ और आपत्तिजनक स्थिति में सामने आए।
आरोप है कि मस्क ने उसे घोड़ा खरीदकर देने या इरॉटिक मसाज ऑफर की। दावा है कि चुप रहने के लिए स्पेस-X ने उसे बड़ी रकम का भुगतान भी किया। दावा है कि उसे इस मामले पर मुंह बंद रखने के लिए मस्क की कंपनी स्पेस-X की ओर से 2,50,000 डॉलर का भुगतान किया गया। हालांकि, मस्क ने एक ट्वीट में इस आरोप को राजनीति प्रेरित बताया है।

कभी गेहूं के लिए भारत को 'भिखारियों का मुल्क' बताया था अमेरिका ने, आज भारत से गेहूं के लिए लगा रहा गुहार!

टॉर्च लेकर रातभर 'गोबर' की चौकीदारी करता है यह शख्स, जानकर मुस्कुराये CM भूपेश बघेल

1.33 करोड़ महिलाओं को मुफ्त स्मार्टफोन देगी कांग्रेस सरकार

क्वाड शिखर सम्मेलन में भाग लेने जापान जाएंगे जो बाइडन, मोदी के साथ करेंगे द्विपक्षीय बैठक

19-May-2022

अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलीवन ने बुधवार को यह जानकारी दी। क्वाड में भारत,आस्ट्रेलिया,जापान और अमेरिका शामिल हैं। सुलीवन ने व्हाइट हाउस में नियमित संवाददाता सम्मेलन में पत्रकारों से कहा, ‘‘ हमारा मानना है कि यह सम्मेलन यह प्रदर्शित करेगा कि लोकतंत्र काम करता है तथा साथ मिलकर काम कर रहे ये चार देश खुले एवं स्वतंत्र हिंद-प्रशांत के सिद्धांत की रक्षा करेंगे और उसे बरकरार रखेंगे। ’’ राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने कहा कि बाइडन तोक्यो में एक नयी एवं महत्वाकांक्षी आर्थिक पहल की नींव भी रखेंगे। नयी आर्थिक चुनौतियों से निपटने के लिए ‘हिंद-प्रशांत आर्थिक मसौदा’ (आईपीईएफ) लाया जा रहा है। 

उन्होंने कहा, ‘‘इस मसौदे में डिजिटल अर्थव्यवस्था के लिए नियम तैयार किए जाएंगे ताकि सुरक्षित एवं मजबूत आपूर्ति श्रृंखला सुनिश्चित की जा सके, इसके अलावा ऊर्जा के क्षेत्र में तथा स्वच्छ, आधुनिक उच्च स्तरीय अवसंरचना में निवेश आदि पर भी नियम बनाए जाएंगे।’’ आईपीईएफ जारी करने के दौरान जापान के प्रधानमंत्री फुमिओ किशिदा भी बाइडन के साथ मौजूद रहेंगे। जापान जाने से पहले बाइडन का दक्षिण कोरिया जाने का कार्यक्रम है।

ONLINE होंगी Chhattisgarh Swami Vivekanand Technical University की परीक्षाएं, जारी हुआ नोटिफिकेशन

राजीव गांधी हत्याकांड के दोषी पेरारिवलन की रिहाई का आदेश

पुतिन की धमकी के बावजूद स्वीडन-फिनलैंड NATO मेंबरशिप पर जमा किए फॉर्म, क्या यूक्रेन से आगे जा रही ये जंग?

 

पुतिन की धमकी के बावजूद स्वीडन-फिनलैंड NATO मेंबरशिप पर जमा किए फॉर्म, क्या यूक्रेन से आगे जा रही ये जंग?

18-May-2022

फिनलैंड और स्वीडन ने ऐलान किया है कि वे नाटो में (NATO) में शामिल होने के लिए आवेदन सौंप दिया है. पहले फिनलैंड फिर स्वीडन का ये बयान ऐसे वक्त पर आया है, जब यूक्रेन पर रूस के हमले लगातार जारी हैं. उधर, इस ऐलान के बाद रूस ने फिनलैंड को  नेटो में शामिल होने पर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी थी. इसके बावजूद फिनलैंड और स्वीडन ने NATO में शामिल होने की दिशा में कदम बढ़ाने का फैसला किया है. 

नाटो के महासचिव जेन्स स्टोल्टेनबर्ग ने बुधवार को कहा कि, फिनलैंड और स्वीडन ने आधिकारिक तौर पर दुनिया के सबसे बड़े सैन्य गठबंधन में शामिल होने के लिए आवेदन जमा किया है, जो यूक्रेन में रूस के युद्ध पर सुरक्षा चिंताओं के बाद लिया गया फैसला है।

हालांकि, फिनलैंड और स्वीडन पहले से ही नाटो के साथ घनिष्ठ रूप से सहयोग करते रहे हैं, लेकिन अभी तक इन दोनों देशों ने नाटो में शामिल होने के लिए आवेदन नहीं दिया था। ये दोनों देश नाटो में शामिल होने के लिए जरूरी शर्त, जैसे लोकतंत्र, अच्छी तरह से वित्त पोषित सशस्त्र बल जैसे कुछ शर्तों का पालन करते हैं, लिहाजा नाटो में शामिल होने इन दोनों ही देशों के लिए काफी आसान था। लेकिन, अभी तक इन दोनों ही देशों ने तटस्थ रूख अपना रखा था।
इससे पहले फिनलैंड और स्वीडन के नाटो में शामिल होने को लेकर रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की नाराजगी और बढ़ने की आशंका जताई जा रही थी। रूस नार्डिक देशों के इस कदम से आगबबूला तो है, लेकिन ऐसा लग रहा है, कि अब रूस विकल्पहीन हो चुका है। रूस ने फिनलैंड और स्वीडन को चेतावनी तो दी थी, कि अगर उन्होंने नाटो से जुड़ने का ऐलान कर उन्होंने एक 'बहुत बड़ी गलती' कर दी है। 
रूसी उप विदेश मंत्री सर्गेई रयाबकोव ने सोमवार को कहा था कि फिनलैंड और स्वीडन ने नाटो सैन्य गठबंधन में शामिल होना एक गलती है। इसके दूरगामी परिणाम होंगे और वैश्विक स्थिति में आमूल-चूल परिवर्तन होगा। रयाबकोव ने कहा कि फिनलैंड और स्वीडन को इस बात का कोई भ्रम नहीं होना चाहिए कि रूस उनके फैसले को आसानी से स्वीकार कर लेगा। लेकिन, अब लग नहीं रहा है, कि रूस इसके खिलाफ कोई कदम उठाने की स्थिति में भी है, क्योंकि यूक्रेन में पहले ही रूस की सांसे लड़खड़ा चुकी हैं।

कितने दिनों में हो जाएगा शामिल?
तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप अर्दोआन ने फिनलैंड और स्वीडन के नाटो गठबंधन में शामिल होने पर आपत्ति जताई है। और अगर तुर्की की आपत्तियों को दूर कर दिया जाता है, तो फिर कुछ महीने के भीतर ये दोनों ही देश नाटो गठबंधन का हिस्सा बन जाएंगे। इस प्रक्रिया में आमतौर पर आठ से 12 महीने लगते हैं, लेकिन रूस से नॉर्डिक देशों के सिर पर मंडरा रहे खतरे को देखते हुए नाटो जल्दी से आगे बढ़ना चाहता है। 

सरकार की योजना : अब 2008 के बाद पैदा हुए लोग नहीं पी पाएंगे सिगरेट

17-May-2022

न्यूजीलैंड ने तंबाकू उद्योग पर दुनिया की सबसे कठिन कार्रवाई में से एक में युवाओं को अपने जीवनकाल में सिगरेट खरीदने पर प्रतिबंध लगाने की योजना बनाई है। देश का तर्क है कि धूम्रपान का सेवन खत्म करने के अन्य प्रयासों में बहुत अधिक समय लग रहा है।

प्रस्तावित कानून के मुताबिक 14 वर्ष और उससे कम्र उम्र के लोग 2027 में कभी भी सिगरेट नहीं खरीद पाएंगे। 50 लाख की आबादी वाले देश में 9 दिसंबर को नया कानून का खाका पेश किया गया। कानून तंबाकू के खुदरा विक्रेताओं की संख्या पर भी अंकुश लगाएगा और सभी उत्पादों में निकोटीन के स्तर में कटौती करेगा।

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री आयशा वेर्रल ने एक बयान में कहा, "हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि युवा कभी धूम्रपान न करें, युवाओं के नए समूहों को धूम्रपान करने वाले तंबाकू उत्पादों को बेचने या आपूर्ति करने के लिए इसे अपराध बना देंगे।"

उन्होंने कहा, "अगर कुछ नहीं बदलता है, तो माओरी धूम्रपान की दर 5 प्रतिशत से कम होने तक दशकों लगेंगे और यह सरकार लोगों को पीछे छोड़ने के लिए तैयार नहीं है।" सरकारी आंकड़ों के अनुसार वर्तमान में 15 वर्ष से अधिक आयु के सभी न्यूजीलैंड के 11।6 प्रतिशत लोग धूम्रपान करते हैं, यह अनुपात मूल निवासी माओरी वयस्कों में 29 प्रतिशत तक पहुंच जाता है।

2022 के अंत तक इसे कानून बनाने के उद्देश्य से सरकार अगले साल जून में संसद में बिल पेश करने से पहले आने वाले महीनों में माओरी स्वास्थ्य कार्य बल के साथ परामर्श करेगी।

इसके बाद प्रतिबंधों को 2024 से चरणों में शुरू किया जाएगा, जिसकी शुरुआत अधिकृत विक्रेताओं की संख्या में तेज कमी के साथ होगी। 2025 में निकोटीन की आवश्यकता कम हो जाएगी और 2027 से "धूम्रपान-मुक्त" पीढ़ी आने लगेगी। 2027 में न्यूजीलैंड एक ऐसी पीढ़ी चाहता है जो सिगरेट नहीं पीती हो।

न्यूजीलैंड की तरह यूनाइटेड किंगडम 2030 तक धूम्रपान मुक्त होने का लक्ष्य निर्धारित किया है जबकि कनाडा और स्वीडन ने आबादी के 5 प्रतिशत से भी कम को धूम्रपान के प्रसार को करने का लक्ष्य रखता है।

दक्षिण कोरिया में बढ़ रही है अंडाणु फ्रीज कराने वालीं युवतियां

13-May-2022

दक्षिण कोरिया में पिछले कुछ सालों में अंडाणुओं को फ्रीज कराने वाली युवा महिलाओं की संख्या तेजी से बढ़ी है। विशेषज्ञ इस बात को बहुत अच्छी खबर मान रहे हैं।

दक्षिण कोरिया में पहले की तुलना में अब कम महिलाएं बच्चे पैदा कर रही हैं। और जो कर रही हैं, उन्हें भी कोई जल्दी नहीं है। जीवनयापन, शिक्षा और बच्चों के लालन-पालन का बढ़ता खर्च बड़ी संख्या में महिलाओं को मां बनने से निस्र्त्साहित कर रहा है।

अंडाणुओं को फ्रीज करवाकर भविष्य में इस्तेमाल के लिए रख देना एक ऐसा विकल्प है जिसे आजकल दुनियाभर में बड़ी संख्या में महिलाएं अपना रही हैं। लेकिन दक्षिण कोरिया में यह चलन हाल ही में जोर पकड़ने लगा है। देश पहले ही दुनिया के सबसे कम जन्मदर के लिए जाना जाता है। इसलिए विशेषज्ञ इस चलन को एक सकारात्मक कदम के रूप में देख रहे हैं।

सीएचए मेडिकल सेंटर के मुताबिक पिछले साल करीब 1,200 अविवाहित महिलाओं ने अपने अंडाणु फ्रीज करवाए हैं और पिछले दो साल में यह संख्या दोगुनी हो गई है। सीएचए दक्षिण कोरिया का सबसे बड़ा फर्टिलिटी सेंटर है, और आईवीएफ के करीब एक तिहाई बाजार पर उसका कब्जा है।

लिम युन-यंग 34 साल की हैं। वह सरकारी नौकरी करती हैं और कहती हैं कि अभी वह परिवार बढ़ाने के लिए तैयार नहीं हैं। हालांकि वह कई महीने से अपने बॉयफ्रेंड के साथ हैं लेकिन परिवार से जुड़े खर्चों के आकार को देखते हुए फिलहाल रिश्ते को अगले स्तर पर नहीं लेना जाना चाहतीं। हां, उन्होंने तैयारी पूरी कर रखी है। मसलन, उन्होंने अपने अंडाणुओं को फ्रीज करवा लिया है क्योंकि वह जानती हैं कि उनकी उम्र बढ़ रही है।

लिम बताती हैं, "यह बहुत बड़ी राहत है। मुझे सुकून रहता है कि मैंने सेहतमंद अंडाणुओं को फ्रीज करवा दिया है।”

इस मामले में एक महत्वपूर्ण पहलू यह भी है कि बच्चे पैदा करने के लिए दक्षिण कोरियाई समाज में शादीशुदा होना जरूरी समझा जाता है। विकसित देशों में 41 प्रतिशत बच्चे बिना शादी के पैदा होते हैं जबकि दक्षिण कोरिया में ऐसे बच्चों की संख्या सिर्फ दो फीसदी है। आलम यह है कि अविवाहित महिलाएं अपने अंडाणु तो फ्रीज करवा सकती हैं लेकिन कानून उन्हें उन अंडाणुओं से बच्चे पैदा करने का हक नहीं देता।

दक्षिण कोरिया में रहने वालीं जापानी मूल की सायूरी फुजीता ने इस मुद्दे को तब चर्चा में ला दिया था जब उन्हें अपने अंडाणुओं के लिए स्पर्म खोजने के वास्ते जापान जाना पड़ा था क्योंकि दक्षिण कोरिया में ऐसा करना अवैध था।

Russia Ukraine War News: यूक्रेन से जंग के बीच फिनलैंड के इस कदम से रूस भड़का, अंजाम भुगतने की दी चेतावनी

13-May-2022

नाटो (उत्तर अटलांटिक संधि संगठन) में शामिल होने के लिए स्वीडन सरकार अगले सप्ताह आवेदन कर सकती है। जबकि फिनलैंड की सरकार ने साफ कर दिया है कि वह बहुत जल्द नाटो में शामिल होने के लिए आवेदन करेगी। यह जानकारी मीडिया रिपोर्ट में सामने आई है।

फिनलैंड के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने गुरुवार को कहा कि उनके देश को यूक्रेन पर रूस के आक्रमण से उत्पन्न खतरे के कारण बिना देरी नाटो सैन्य गठबंधन में शामिल होने के लिए आवेदन करना चाहिए। रिपोर्ट के अनुसार स्वीडन की संसद देश की सुरक्षा की स्थिति पर सोमवार (16 मई) को चर्चा करेगी। इसके बाद प्रधानमंत्री मैग्डालेना एंडरसन कैबिनेट की बैठक में नाटो में शामिल होने के लिए आवेदन करने का फैसला ले सकती हैं।

Pushpa 2 का बजट सुन कर बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड तक उड़ा देगा होश, अल्लू अर्जुन ले रहे हैं इतनी तगड़ी फीस?

Free Netflix : इन रिचार्ज प्लान पर मुफ्त मिल रह है Netflix, Hotstar और Prime Video

फिनलैंड की प्रधानमंत्री सन्ना मारिन और राष्ट्रपति सौली नीनिस्टो ने गुरुवार को कहा कि नाटो की सदस्यता के लिए जल्द ही आवेदन दाखिल करेंगे। इस पर रूस भड़क गया है। रूसी सरकार के प्रवक्ता दिमित्री पेश्कोव ने कहा कि अगर फिनलैंड नाटो में शामिल होता है तो उसे अंजाम भुगतना होगा। फिनलैंड के कदम से यूरोप में स्थिरता और सुरक्षा में मदद नहीं मिलेगी। रूस की फिनलैंड के साथ 1340 किमी सीमा लगती है। 

इस बीच फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रों ने फिनलैंड के नाटो में शामिल होने के कदम का स्वागत किया है। फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों का कहना है कि फ्रांस नाटो में फिनलैंड का सदस्यता का समर्थन करेगा। उधर, रूस ने लुहांस्क के सेवेरोदोनेट्स्क में पिछले 24 घंटे में 9 बार हवाई हमले किए हैं। यूक्रेन ने मारियुपोल में फंसे लोगों को बाहर निकालने के लिए एलन मस्क से मदद मांगी है।

कौन हैं रानिल विक्रमसिंघे जो बनेंगे श्रीलंका के नए पीएम, जानिए उनके बारे में

मुख्यमंत्री ने बर्तन माँजकर पढ़ाई कर रही निर्धन छात्रा छाया की सहायता के दिए निर्देश

उत्तर कोरिया: ओमिक्रोन वैरिएंट के पहले मामले से ही किम जोंग उन ने लगाया देश में लॉकडाउन

12-May-2022

ओमिक्रोन वैरिएंट का पहला मामला सामने आने के बाद उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने पूरे देश में लॉकडाउन लगाया। जिस व्यक्ति में कोरोना की पुष्टि हुई है, वह कई दिनों से बुखार से पीड़ित था। जांच के बाद सामने आया कि, व्यक्ति ओमिक्रोंन वैरिएंट की चपेट में है। राजधानी प्योंगयांग को दो दिनों के लिए बंद किया गया। बाहर से आने वालों की सघन जांच की जाएगी। ओमिक्रोन का पहला मामला सामने आने के बाद उत्तर कोरिया की सीमाओं पर निगरानी कड़ी कर दी गई है। किम जाेंग उन ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि बाहर से आने वालों की सघन जांच की जाए। 

RBI ने Repo Rate में अचानक किया बदलाव, आम आदमी को महंगाई का एक और झटका। Home Loan। EMI

इस साल स्वतंत्रता दिवस हर रेलकर्मी के घर तिरंगा फहरेगा, रेलवे बोर्ड ने सभी रेलवे जोन को दिए निर्देश

Petrol-Diesel Prices Today: पेट्रोल और डीजल के दाम में नहीं हुआ कोई बदलाव, जानें रेट

संयुक्त राष्ट्र (UN) तक पहुंची जोधपुर हिंसा की चर्चा, सरकार से शांति बनाए रखने की अपील

Sri Lanka में विद्रोही को देखते ही गोली मारने का आदेश, प्रदर्शनकारियों की हिंसा में आठ लोगों की मौत

11-May-2022

अपनी आजादी के बाद सबसे बड़ी आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहे श्रीलंका में हिंसक प्रदर्शनों का सिलसिला जारी है। इस बीच, खबर यह भी है कि रक्षा मंत्रालय ने थल सेना, वायुसेना और नौसेना कर्मियों की सार्वजनिक संपत्ति को लूटने या आम लोगों को चोट पहुंचाने वाले किसी भी दंगाई को गोली मारने का आदेश दिया है। मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे की ओर से लोगों से 'हिंसा और बदले की भावना वाले कृत्य' रोकने की अपील के बाद मंत्रालय का यह आदेश सामने आया है। इसके साथ ही, खबर यह भी है कि हिंसक प्रदर्शन और गृहयुद्ध की आशंका के बीच पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे नौसेना के अड्डे में शरण लिये हुए हैं। इससे पहले, खबर यह आई थी कि महिंदा राजपक्षे देश छोड़कर भारत में शरण ले सकते हैं, जिसे भारत ने सिरे से खारिज कर दिया है। श्रीलंका के रक्षा सचिव जनरल (सेवानिवृत्त) कमल गुनारत्न ने मंगलवार को प्रदर्शनकारियों से शांति बनाए रखने और हिंसा नहीं करने का आग्रह किया। इसके साथ ही, उन्होंने चेतावनी भी दी है कि अगर सार्वजनिक संपत्ति की लूटपाट और नुकसान पहुंचाना जारी रहा, तो रक्षा मंत्रालय कानून का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्ती बरतने को मजबूर होगा। रक्षा सचिव ने कहा कि मैं सभी युवाओं से हिंसा में शामिल नहीं होने की अपील करता हूं। सार्वजनिक और निजी संपत्ति में आगजनी नहीं करें। आप अपना संघर्ष लोकतांत्रिक एवं शांतिपूर्वक तरीके से करें।'

श्रीलंका में हालात बेकाबू! कई मंत्रियों के घर फूंके गए, एक सांसद मृत भी पाए गए, कारसहित नेता को झील में फेंका

10-May-2022

कोलंबो। आर्थिक संकट के चलते श्रीलंकाई लोगों में असंतोष व्याप्त है। यहां अब गृह युद्ध के हालात बनते नज़र आ रहे हैं।  हिंसा में कम से कम 231 लोग घायल हो गए। देश में सरकार समर्थकों और विरोधियों के बीच हुई झड़प में राजपक्षे बंधुओं की सत्तारूढ़ पार्टी के एक सांसद सहित 7 लोगों की मौत हो गई।  महिंदा राजपक्षे ने राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे को अपना इस्तीफा पत्र भेजा। महिंदा ने ट्वीट किया कि मैंने तत्काल प्रभाव से राष्ट्रपति को अपना इस्तीफा सौंप दिया है।

प्रधानमंत्री महिंदा ने अपने त्यागपत्र में कहा कि वह सर्वदलीय अंतरिम सरकार के गठन का मार्ग प्रशस्त करने के लिए पद छोड़ रहे हैं। उन्होंने अपने त्यागपत्र में लिखा, कि मैं (आपको) सूचित करना चाहता हूं कि मैंने तत्काल प्रभाव से प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देने का निर्णय लिया है। ये 6 मई को हुई कैबिनेट की विशेष बैठक में आपके अनुरोध के अनुरूप है, जिसमें आपने कहा था कि आप एक सर्वदलीय अंतरिम सरकार बनाना चाहते हैं।

महिंदा ने कहा कि वह जनता के लिए कोई भी बलिदान देने को तैयार हैं। प्रधानमंत्री के इस्तीफे के साथ ही कैबिनेट भी भंग कर दी गई। महिंदा राजपक्षे के छोटे भाई और राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के नेतृत्व वाली सरकार पर देश में जारी घोर आर्थिक संकट से निपटने के लिए अंतरिम प्रशासन बनाने का दबाव बनाने के लिए प्रदर्शन किये जा रहे थे। कोलंबो में पूर्व मंत्री जॉनसन फर्नांडो को कार समेत झील में फेंका गया। अब तक 12 से ज्यादा मंत्रियों के घर जलाए गए।

बैंकॉक में 21 साल से पत्नी की लाश के साथ रह रहा था शख्स, जिंदा मान कर करता था बात, अभी क्यों कराया अंतिम संस्कार?

07-May-2022

लोग अपना प्यार जताने के लिए तरह-तरह के उपाय करते हैं। कुछ से उनके पार्टन खुश हो जाते हैं तो कुछ दुनिया के लिए मिसाल बन जाती हैं। लेकिन थाइलैंड में एक व्यक्ति ने अमर प्रेम दिखाने के लिए कुछ ऐसा किया है जो बेहद हैरान करने वाला है। इसे अमर प्रेम भले कोई न माने लेकिन पागलपन जरूर मान सकता है। बैंकॉक में रहने वाला एक 72 वर्षीय बुजुर्ग पिछले 21 सालों से अपनी मरी हुई पत्नी के शव के साथ रह रहा था। अब उसने उसका अंतिम संस्कार किया है।

बैंकॉक में रहने वाला एक 72 वर्षीय बुजुर्ग पिछले 21 सालों से अपनी मरी हुई पत्नी के शव के साथ रह रहा था। अब उसने उसका अंतिम संस्कार किया है।
चरण जनवाचकल ने दो दशक तक अपनी पत्नी के शव के साथ रहने के बाद उसे अंतिम विदाई दी। चरण ने इसे शाश्वत प्रेम का प्रदर्शन बताया है। बैंकॉक के फेट कासेम फाउंडेशन की मदद से बुजुर्ग ने पत्नी का अंतिम संस्कार किया। 21 साल पहले मृत पत्नी के अंतिम संस्कार में चरण बेहद भावुक दिखे।

पत्नी को मानता था जिंदा : 21 साल पहले चरण की पत्नी की मौत हो गई थी, जिसके बाद उसने उसके शव को एक ताबूत में रख दिया। वह एक छोटे से जर्जर मकान में रहता था, जो किसी स्टोर रूम की तरह दिखता है। चरण ताबूत के बगल में ही रात बिताता था। वह अपनी पत्नी को जिंदा मान कर उससे बातें भी करता था। चरण बेहद बुरी हालत में रहता था। उसके घर में बिजली का कनेक्शन नहीं है और वह पड़ोसियों से पानी लेकर इस्तेमाल करता है। दिन में वह अपने पालतू कुत्ते-बिल्लियों के साथ रहता है। चरण के खिलाफ शव को छिपाने की कोई कार्रवाई नहीं की गई है, क्योंकि उसने अपनी पत्नी की मौत को रिपोर्ट किया था, लेकिन वह उसे जिंदा मान कर उसके साथ रह रहा था। फाउंडेशन के अधिकारियों ने उसे मृत्यु प्रमाण पत्र की एक कॉपी दिलाई, जिसके मुताबिक महिला की मौत 2001 में हुई थी।
 

ऐसे हुई जानकारी : चरण हाल ही में एक मोटरसाइकिल एक्सीडेंट में घायल हो गए थे। उनकी देखरेख के लिए पिछले दो महीने से फाउंडेशन का एक प्रतिनिधि उनसे मिल रहा था और उन्हें भोजन दे रहा था। वह लगातार घर आ रहा था, लेकिन उसने कभी ताबूत पर गौर नहीं किया। इसके बाद चरण ही फाउंडेशन के अधिकारियों के पास पहुंचा और बताया कि उसकी पत्नी का शव उसके घर में है, जिसका अंतिम संस्कार कराया जाए। चरण को डर था कि अगर वह मर गया तो उसकी पत्नी का अंतिम संस्कार सही से नहीं हो पाएगा। चरण के दो बेटे हैं, लेकिन जब वह अपने पिता को मां की मौत के सदमे से बाहर नहीं निकाल पाए तो छोड़ कर चले गए।

चीन में जबरन लोगों को पकड़कर-लिटाकर हो रहा कोरोना टेस्ट, वीडियो वायरल

05-May-2022

चीन में लोग कोरोना वायरस से ज्यादा लॉकडाउन से डरे हुए हैं। शंघाई और अन्य शहरों से ऐसे कई वीडियो सामने आ रहे हैं, जो इसके सबूत हैं। ट्विटर पर ऐसा ही एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें कोविड टेस्ट के लिए महिला को जमीन पर नीचे गिरा दिया गया है। जैसे ही वीडियो शुरू होता है, महिला एक टेस्ट सेंटर के फर्श पर लेटी हुई दिखाई दे रही है जिसके ऊपर एक पुरुष है। वह चिल्ला रही है और जबरदस्ती टेस्ट का विरोध करने की कोशिश कर रही है, लेकिन वह आदमी उसके हाथों को अपने घुटनों से दबा लेता है और उसे मजबूती से पकड़ लेता है।

 

Russia-Ukraine War: यूक्रेन में खत्म हो युद्ध, संकट झेल रहे लोगों का दुख हो समाप्त, भारत और फ्रांस ने की गुजारिश

05-May-2022

यूक्रेन में रूस की सेना लगातार हमले कर रही है। इस हमले में रूस के शहरों को भीषण नुकसान पहुंचा है। कई देश रूस पर युद्ध विराम का दबाव भी बना रहे हैं। इस बीच, भारत और फ्रांस ने बुधवार को यूक्रेन में "शत्रुता की तत्काल समाप्ति" का आह्वान किया है।

पेरिस में पीएम मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने एक संयुक्त बयान में यूक्रेन में चल रहे युद्ध को लेकर चिंता जताई है। फ्रांस और भारत दोनों देशों ने मानवीय संकट और यूक्रेन में जारी संघर्ष पर अपनी गहरी चिंता व्यक्त की है।

मोदी ने कहा है कि भारत का मानना है कि रूस-यूक्रेन युद्ध में कोई भी देश विजयी नहीं होगा क्योंकि सभी को नुकसान होगा और विकासशील और गरीब देशों पर इसका ‘‘अधिक गंभीर'' प्रभाव पड़ेगा। मोदी-मैक्रोंवार्ता का एक अन्य बिंदु हिंद-प्रशांत में क्षेत्र चुनौतियों से एकजुट होकर निपटना होगा जहां पर चीन अपनी ताकत दिखा रहा है। मोदी ने यहां पहुंचने के तुरंत बाद ट्वीट किया किया फ्रांस भारत के सबसे मजबूत साझेदारों में से एक है, हमारे देश विविध क्षेत्रों में सहयोग कर रहे हैं। ''राजनयिक सूत्रों ने कहा कि मैक्रों की चुनावी जीत के कुछ दिनों बाद उनसे मोदी की मुलाकात बेहद प्रतीकात्मक है। उन्होंने कहा कि यह मुलाकात एक शक्तिशाली संकेत देती है कि दोनों नेता आने वाले वर्षों के लिए भारत-फ्रांस साझेदारी को अपनी विदेश नीति का मार्गदर्शक सिद्धांत बनाना चाहते हैं।

गर्भवती महिला की हो गई मौत, नर्स मोबाइल पर खेलती रही गेम, मचा हंगामा

लॉकडाउन के बाद मां ने भेजना चाहा स्कूल तो बच्चा चढ़ा बिजली टावर पर, जान देने की दी धमकी

Chhattisgarh: छत्तीसगढ़ के 9 पर्वतारोहियों का कमाल, 14 साल की बच्ची ने एक पैर से फतह किया एवरेस्ट बेस कैंप

Russia-Ukraine War Live Updates: यूक्रेन में तबाही मचा रहे रूस ने अब स्पेस फोर्स को भी किया एक्टिव, ‘टॉप सीक्रेट’ मिलिट्री यान लॉन्च

04-May-2022

यूक्रेन और रूस के बीच भीषण जंग जारी है। कीव से खारकीव तक तबाही मची है। रूस ने हमले में कमी लाने का वादा किया था लेकिन मिसाइल और रॉकेट हमले में कोई कमी नहीं है।

अब रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) ने भी आसमान में अपने गुप्तचर को तैनात कर दिया है। रूस ने कोसमॉस 2555 नाम का एक टॉप सीक्रेट सैन्य अंतरिक्ष यान लॉन्च किया है। पुतिन का यह गुप्तचर अब रूस के दुश्मनों पर हर पहर 24 घंटे और 365 दिन नजर रखेगा।

रूस के स्पेस फोर्स को एक्टिव करने के बाद यह उम्मीद की जा रही है कि पुतिन का यह फैसला यूक्रेन युद्ध में गेमचेंजर साबित हो सकता है। यह यान पृथ्वी का चक्कर लगाएगा। रूस ने 29 अप्रैल को अंगारा 1।2 रॉकेट से मिलिट्री स्पेस क्राफ्ट को पृथ्वी की कक्षा में पहुंचाया। मिर्नी शहर के प्लेसेट्स्क कोस्मोड्रोम से लॉन्च किया गया। एक्सपर्ट की मानें तो रूस का मिलिट्री स्पेस क्राफ्ट एक रडार सैटेलाइट सिस्टम है। जिसका इस्तेमाल रूस यूक्रेन के साथ युद्ध में कर सकता है।

 केवल आपराधिक मामले छिपाने पर कर्मचारी को सेवा से बर्खास्त नहीं निकाल सकते- Supreme court

BREAKING NEWS:- मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नगर पंचायत के CMO को किया सस्पेंड

60 मंजिला इमारत पर चढ़ा "कार्यकर्ता", हिरासत में लिया गया, खुद को "स्पाइडरमैन" बताया

04-May-2022

Man Climbs 60th Floor in San Francisco: अमेरिका में गर्भपात विरोधी एक कार्यकर्ता सैन फ्रांसिस्को की सबसे ऊंची और देश की 12वीं सबसे ऊंची इमारत पर चढ़ गया। शख्स का नाम मैसन डेस चैंप्स है। वह लास वेगास का रहने वाला है। उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। मैसन डेस चैंप्स ने इंस्टाग्राम पर पोस्ट शेयर किया। इस दौरान उसने खुद को "स्पाइडरमैन" बताया। इतना ही नहीं मैसन ने टावर पर एक इंस्टाग्राम स्टोरी भी पोस्ट की।

कार्यकर्ता मैसन डेस चैंप्स ने इंस्टाग्राम पर पोस्ट शेयर किया और उसने अपने आप को स्पाइडरमैन बताया और यहां तक कि टावर पर एक इंस्टाग्राम स्टोरी भी पोस्ट की। इमारत पर चढ़कर मैसन ने कहा कि मैं यहां सेल्सफोर्स टॉवर पर हूं। सब ठीक चल रहा है, लड़के को अपने पोस्ट की गई इंस्टाग्राम स्टोरी में यह कहते हुए सुना जा सकता है।

संयुक्त राष्ट्र (UN) तक पहुंची जोधपुर हिंसा की चर्चा, सरकार से शांति बनाए रखने की अपील

04-May-2022

राजस्थान के जोधपुर में हुई हिंसा की चर्चा संयुक्त राष्ट्र में भी हो रही है। UN के प्रवक्ता ने बुधवार को भारत सरकार और एजेंसियों को शहर में शांति और सद्भावना सुनिश्चित करने का आह्वान किया है। इसके अलावा UN प्रमुख एंटोनियो गुटेरेस के कार्यालय ने शहर के सभी समुदायों के साथ मिलकर काम करने की अपील की है। ईद के दौरान जोधपुर में बवाल हो गया था। इसके बाद पुलिस ने इलाके में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी थी। साथ ही इंटरनेट बंद करने जैसे उपाय भी किए गए थे।

ईद से पहले हुई हिंसा को लेकर सवाल पूछे जाने पर महासचिव के उप प्रवक्ता ने कहा, 'मुझे लगता है कि मूल बात हमारी आशा है कि अलग-अलग समुदाय मिलकर काम करेंगे और यह कि सरकार और सुरक्षा बल यह सुनिश्चित करेंगे कि सभी लोग शांति से उत्सव समेत अपनी गतिविधियां कर सकें।' हिंसा के दौरान पांच पुलिसकर्मी भी घायल हो गए थे।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, एडीजी (कानून और व्यवस्था) एचएस घुमारिया ने बताया कि आज को भी जिले में भारी पुलिस बल तैनात है और कर्फ्यू को 'सख्ती से लागू' किया गया है। उन्होंने कहा, 'जिले में छोटी घटना की भी बारीकी से निगरानी की जा रही है।' अब तक हिंसा से जुड़े मामलों में 97 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

LIC IPO: इंतजार खत्म! आज लॉन्च हो रहा देश का सबसे बड़ा आईपीओ, जानें प्राइस बैंड-GMP समेत जरूरी बातें

तीन तलाक के बाद अब चर्चा में आया 'तलाक-ए-हसन', क्या है तलाक-ए-हसन, जिस पर रोक लगाने की मुस्लिम महिला ने उठाई मांग

अब ट्विटर यूज करने के लिए देना होगा चार्ज, एलन मस्क का बड़ा एलान

CHHATISGARH NEWS: छत्तीसगढ़ में सज रही चुनावी झांकी, कांग्रेस में 71 का टशन, BJP की बढ़ी टेंशन

 

नेपाल के पब में देखे गए राहुल गांधी, भाजपा आईटी सेल चीफ ने वीडियो ट्वीट कर कसा तंज, कांग्रेस ने दिया जवाब

03-May-2022

मंगलवार को भाजपा आईटी सेल के अध्यक्ष अमित मालवीय ने अपने एक ट्वीट में लिखा, 'जब मुंबई पर हमला हुआ, तब राहुल गांधी नाइट क्लब में थे। जब उनकी पार्टी में घमासान मचा हुआ है, तब भी वे नाइट क्लब में मौजूद हैं। उनकी यह निरंतरता लगातार जारी है।' उन्होंने इसी ट्वीट में आगे लिखा है, 'मजे की बात यह है कि कांग्रेस द्वारा अपने अध्यक्ष को आउटसोर्स से इनकार करने के तुरंत बाद अब उनके प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी के तौर पर चर्चाएं शुरू हो गई हैं।'

दोस्त की शादी में शामिल होने नेपाल गए हैं राहुल : सुरजेवाला

भाजपा के आरोप के बाद कांग्रेस के महासचिव और राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने अपने बयान में कहा कि राहुल गांधी नेपाल में अपने एक दोस्त की शादी में शिरकत करने गए हैं, जो एक पत्रकार भी हैं। उन्होंने कहा कि मैंने इसकी जांच की है। शादी समारोह में परिवार और दोस्तों का शामिल होना हमारी सभ्यता-संस्कृति का हिस्सा है। 


Previous123456789...1213Next