Wednesday,28 September 2022   06:28 am
Previous12345678Next

कांग्रेस अध्यक्ष पद चुनाव के लिए आज जारी होगी अधिसूचना, पद की रेस में अशोक गहलोत और शशि थरूर का नाम आगे

22-Sep-2022

Congress President Election: कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो गई है। नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया 24 से 30 सितंबर तक चलेगी। अगर एक से अधिक कांग्रेस नेता ने नामांकन दाखिल किया तो 17 अक्टूबर को मतदान होगा और 19 अक्टूबर को नतीजे आएंगे। कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए उम्मीदवारों के नाम के तौर पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और कांग्रेस नेता शशि थरूर का नाम लिया जा रहा है।  गुरुवार सुबह खबर आई कि मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह भी चुनाव लड़ सकते हैं। दरअसल, दिग्विजय सोनिया गांधी से मुलाकात करने दिल्ली पहुंच रहे हैं।

 

अब कांग्रेस के संभावित प्रत्याशियों की लिस्ट और लंबी होती जा रही है। संभावित लिस्ट में नया नाम शामिल हो गया है। समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक, कांग्रेस के लोकसभा सांसद मनीष तिवारी भी कांग्रेस का अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं। मनीष तिवारी के करीबी सूत्रों ने बताया कि वह अपने निर्वाचन क्षेत्र में राज्य के पार्टी प्रतिनिधियों से मिलने गए थे। ये प्रतिनिधि चुनाव में मतदाता भी हैं।

 

पार्टी सूत्रों की माने तो कांग्रेस के नए अध्‍यक्ष के चुनाव के ल‍िए शुरू होने जा रही मतदान प्रक्र‍िया से एक द‍िन पहले यानी 23 स‍ितंबर को राहुल गांधी भारत जोड़ो यात्रा के ल‍िए व‍िश्राम करेंगे। बताया जाता है क‍ि इस दि‍न वो सोनिया गांधी से मिलने दिल्ली आ रहे हैं। उनका मतदान प्रक्र‍िया के ल‍िए शुरू हो रही नामांकन प्रक्र‍िया में शामिल होने की कोई संभावना नहीं है।

 

इस बाबत पार्टी के वर‍िष्‍ठ नेता और संचार व‍िभाग के प्रमुख जयराम रमेश ने कहा क‍ि राहुल गांधी (Rahul Gandhi) नामांकन के दौरान 24 से 30 तक भारत जोड़ो यात्रा में ही रहेंगे। वहीं, बुधवार को राजस्‍थान सीएम अशोक गहलोत के सोन‍िया गांधी और दूसरे कई सीन‍ियर नेताओं से मुलाकात करने के बाद स्‍पष्‍ट हो गया है क‍ि वह कांग्रेस के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष के चुनाव में बतौर प्रत्‍याशी उतर रहे हैं। हालांक‍ि उनके सामने पार्टी के वर‍िष्‍ठ नेता शश‍ि थरूर और अन्‍य नेताओं के भी ताल ठोंकने की प्रबल संभावना जताई जा रही हैं।

PayCM, आखिर कर्नाटक में क्यों लगे हैं सीएम बसवराज बोम्मई के ऐसे पोस्टर?

21-Sep-2022

कर्नाटक में अगले साल के मध्य में विधानसभा चुनाव होने हैं और चुनाव से पहले राजनीतिक दलों ने आरोप-प्रत्यारोप लगाने का खेल भी शुरू कर दिया है। इसी सिलसिले में राज्य में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (BJP) पर अपना हमला तेज करते हुए, प्रदेश की कांग्रेस ईकाई ने आज बुधवार को पूरे बेंगलुरु में मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई की फोटो और उन पर एक क्यूआर कोड के साथ PayCM पोस्टर लगा दिए हैं।

यह क्यूआर कोड यूजर्स को ’40 प्रतिशत सरकार’ (40 Per Cent Sarkara) की वेबसाइट पर ले जाएगा जिसे कांग्रेस की ओर से हाल ही में आम लोगों के लिए सरकारी भ्रष्टाचार के खिलाफ शिकायत दर्ज करने को लेकर लॉन्च किया गया था।

भ्रष्टाचार पर निशाना साधने को पोस्टर वार : स्टर्स को इस बात पर प्रकाश डालने के लिए खासतौर पर डिजाइन किया गया है कि बीजेपी की वर्तमान सरकार के तहत कथित तौर पर 40 प्रतिशत कमीशन दर किस तरह से सरकार की पहचान बन गई है। कांग्रेस लंबे समय से बोम्मई सरकार के खिलाफ भ्रष्टाचार को लेकर लगातार सवाल उठाती रही है।

 

जानिए क्या है लंपी वायरस, जिसे लेकर भारत में भी मचा है हड़कंप, क्या इंसानों को भी खतरा ? 

 मशहूर कॉमेडियन Raju Srivastava का निधन, अस्पताल में ली अंतिम सांस, पूरे देश में शोक की लहर 

 

 

CM भूपेश बघेल ने जांच एजेंसियों के दुरुपयोग का लगाया आरोप, गोवा मुद्दे पर दिया बड़ा बयान

16-Sep-2022

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बृहस्पतिवार को केंद्र सरकार पर केंद्रीय जांच एजेंसियों का दुरुपयोग कर लोकतंत्र को नष्ट करने का आरोप लगाया।

यहां पुलिस लाइन्स हेलीपैड पर संवाददाताओं से उन्होंने कहा कि भाजपा का उद्देश्य लोगों की सेवा करना नहीं बल्कि पैसा कमाना है।
गोवा के राजनीतिक घटनाक्रम के बारे में पूछे जाने पर बघेल ने कहा, ‘‘भारतीय जनता पार्टी लगातार लोकतंत्र का ‘चीर हरण’ कर रही है। वह केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है। खरीद-फरोख्त में लिप्त है जो हमने महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और उत्तर पूर्व में देखा है। उनकी (भाजपा) ये हरकत गोवा में दूसरी बार देखने को मिल रही है।

  1. World Wrestling Championship: उलटफेर का शिकार हुईं, फिर रेपचेज मुकाबले में विनेश फोगाट ने रचा इतिहास 

  2. छत्तीसगढ़ के पीयूष जायसवाल बने दुनिया के सबसे कम उम्र के वैज्ञानिक

बघेल ने कहा, ‘‘बीजेपी लोकतंत्र में विश्वास नहीं करती, जिस तरह से वे लोकतंत्र पर हमला कर रहे हैं वह देश के लिए अच्छा नहीं है, बेहद निंदनीय है।‘‘ उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने इन सभी मुद्दों को उठाने और लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए भारत जोड़ो यात्रा निकाली है। बघेल ने राज्य से होकर गुजरने वाली या राज्य में चलने वाली कई ट्रेनों को निलंबित करने के रेलवे के फैसले पर भी केंद्र को घेरा।

  1. GOOD NEWS: नियमित हो सकते हैं अनियमित कर्मचारी: सरकार ने पहली बार मांगी शैक्षणिक योग्यता-आरक्षण से जुड़ी विभागीय जानकारी 

  2. न्यूड फोटोशूट पर Ranveer Singh की सफाई- तस्वीर के साथ की गई छेड़छाड़ 

Bharat Jodo Yatra Live: राहुल गांधी ने कहा- भारत के टूटे सपने को हम जोड़ रहे हैं, देखें आज की रैली का वीडियो

13-Sep-2022

कांग्रेस 150 दिन की भारत जोड़ो यात्रा करने जा रही है. केरल (Kerala) में कांग्रेस (Congress) की 'भारत जोड़ो यात्रा' (Bharat Jodo Yatra) का आज तीसरा दिन है। आज सफर की शुरुआत कजाकुट्टम (Kazhakootam) के पास कनियापुरम (Kaniyapuram ) से हुई, जहां कल इसका समापन हुआ था। 

आज कांग्रेस पार्टी की इस पैदल यात्रा का शुभारंभ सुबह करीब 7.15 बजे हुई। इसमें पिछले दो दिनों की ही तरह काफी बड़ी संख्‍या में लोगों की भीड़ जुटी। यात्रा में बड़े पैमाने पर लोग शामिल हुए। सोमवार को सुबह से लेकर शाम तक कुल 100 किलोमीटर तक की दूरी तय की गई थी।   पदयात्रा को लेकर स्थानीय लोगों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिल रहा है।
केरल में ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के पहुंचने पर ‘भारत यात्रियों’ का लोगों ने जोरदार स्वागत किया। एक वीडियो में स्थानीय लोग ढोल की थाप पर नाचते-गाते नजर आए। पदयात्रा को लेकर लोगों में गजब का उत्साह नजर आ रहा है।
क्या बच्चे, क्या बूढ़े, क्या युवा, सभी में राहुल गांधी को लेकर जबरदस्त उत्साह देखने को मिल रहा है। पदयात्रा के दौरान एक जगह एक बच्ची राहुल गांधी को तिलक लगाते नजर आई। राहुल गांधी ने बच्ची से तिलक लगवाया उसके बाद वह आगे बढ़े।
सड़कों पर राहुल गांधी का स्वागत करने और उनसे मिलने के लिए जनसैलाब उमड़ रहा है। कांग्रेस सांसद सभी लोगों से मिल रहे हैं और उनकी समस्यांए भी सुन रहे है।

 

  1. अब नहीं दे सकेंगे कार में सीट बेल्‍ट अलार्म को चकमा, सरकार ने अमेजन से कहा-ऐसे प्रोडक्‍ट बेचना बंद करें जानिए ? 

  2. Central government का बड़ा फैसला: भारत ने आज से टूटे चावल के निर्यात पर लगाया प्रतिबंध ?

NGT का बड़ा फैसला, गोवा के जिस रेस्तरां में BJP नेता सोनाली फोगाट को दिया गया था ड्रग्स, उसे किया जाएगा ध्वस्त जानिए क्यू ?

09-Sep-2022

बीजेपी नेत्री सोनाली फोगाट मामले में एनजीटी ने बड़ा आदेश दिया है। दरअसल, गोवा के जिस रेस्टोरेंट कर्लीज में उन्हें ड्रग्स दिया गया था। अब उसी रेस्टोरेंट को ध्वस्त करने का आदेश दिया गया है। बता दें कि बीते दिनों में रेस्टोरेंट के मालिक एडविन नुन्स ने ध्वस्तीकरण के विरुद्ध एनजीटी में याचिका दाखिल की थी, लेकिन अब उस याचिका को  खारिज कर ध्वस्तीकरण के मार्ग प्रशस्त कर दिया है।बीजेपी नेत्री सोनाली फोगाट मामले में एनजीटी ने बड़ा आदेश दिया है। दरअसल, गोवा के जिस रेस्टोरेंट कर्लीज में उन्हें ड्रग्स दिया गया था। अब उसी रेस्टोरेंट को ध्वस्त करने का आदेश दिया गया है। बता दें कि बीते दिनों में रेस्टोरेंट के मालिक एडविन नुन्स ने ध्वस्तीकरण के विरुद्ध एनजीटी में याचिका दाखिल की थी, लेकिन अब उस याचिका को  खारिज कर ध्वस्तीकरण के मार्ग प्रशस्त कर दिया है। आइए, आगे हम आपको इस खबर के बारे में विस्तार से बताते हैंआपको बता दें कि इसी रेस्टोरेंट में सोनाली फोगाट को ड्रग्स दिया गया था। जिसके बाद उनकी मौत हो गई थी। उनकी मौत संदिग्ध परिस्थितियों में हुई थी। जिसके बाद उक्त रेस्टोरेंट भी जांच के रडार पर आ गया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सोनाली फोगाट के पीए सुधीर सांगवान ने उन्हें ड्रग्स दिया था। हालांकि, इससे पहले 21 जुलाई 2016 में भी इस रेस्टोरेंट को ध्वस्त करने का आदेश दिया गया था। चूंकि इसका निर्माण कथित रूप से नियमों का उल्लंघन करके किया गया है। जिसके विरुद्ध रेस्टोरेंट के मालिक ने एनजीटी में याचिका दाखिल की थी, जिसे खारिज करके अब उसे ध्वस्त करने का मार्ग प्रशस्त किया जा चुका है।मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, जब सोनाली फोगाट गोवा इस रेस्टोरेंट में पहुंची थी। उस वक्त उनका पीएम सुधीर सांगवान उनके साथ था। उस पर आरोप है कि उसने सोनाली फोगाट को ड्रग्स को ओवर ड्रोज दे दिया था, जिसके बाद उनकी तबीयत बिगड़ी और उनकी मौत हो गई। उधर, पुलिस ने इस पूरे मामले में कार्रवाई करते हुए सोनाली फोगाट के पीए , रेस्टोरेंट के मालिक और ड्रग्स मुहैया कराने वाले डिलीवरी ब्यॉय को गिरफ्तार कर लिया था। हालांकि,  रेस्टोरेंट के मालिक को बाद में जमानत पर आ गया है। लेकिन, अभी इस पूरे मामले की जांच जारी है। उधर, सोनाली फोगाट के परिजनों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फत्र लिखकर अतिशीघ्र जांच करा कर आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। बहरहाल, इस पूरे मामले को संज्ञान में लेने के बाद जांच  के बाद क्या कुछ सच्चाई निकलकर सामने आती है।


 

Bharat Jodo Yatra: राहुल के नेतृत्व में 'भारत जोड़ो यात्रा' के तहत पदयात्रा शुरू, कई बड़े नेता रहे मौजूद

08-Sep-2022

आज से कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा शुरूआत होने वाली है। कांग्रेस पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी तमिलनाडु से इस यात्रा का आगाज करेंगे। उद्घाटन समारोह के लिए गांधी मंडपम में तमिलनाडु, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के मुख्यमंत्री राहुल गांधी को राष्ट्रीय ध्वज सौंपेंगे। यात्रा में शामिल होने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश आज तमिलनाडु के लिए रवाना हुए। अपने इस दौरे को लेकर सीएम भूपेश ने कहा कि इस यात्रा के जरिए देशभर के अनेकों राज्य से आमजनता जुड़ेगी। करीब साढ़े 3 हजार किलोमीटर की यात्रा होगी। जिसके माध्यम से नफरत फैलाने की कोशिश को दूर करने का प्रयास होगा। महंगाई, बेरोजगारी के मुद्दे पर चर्चा होगी, जनता से जुड़े मुद्दों पर बात होगी। केंद्र की नाकामियों से आमजनता की परेशानी बढ़ी है। इन्ही मुद्दो को लेकर पदयात्रा की जा रही हैं। बहुत दिनों बाद किसी राजनेता द्वारा पद यात्रा की जा रही है। समाज पर इसका अच्छा असर देखने को मिलेगा। आईटी की रेड को लेकर सीएम ने कहा मैंने पहले ही कहा था आईटी आई है पीछे ईडी भी आएगी।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम भी राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में शामिल हो रहे हैं। बुधवार को मरकाम ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के समाधी स्थल पहुंचकर संवेदना व्यक्त की। मरकाम गांधी टोली पहनकर यात्रा में शामिल हो रहे हैं। इस दौरान मरकाम से युवक कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीवी श्रीनिवास सहित अन्य नेताओं ने मुलाकात की।

 

 

Bharat Jodo Yatra : कठिन राह पर निकले राहुल गांधी, अगले 150 दिनों तक कंटेनर में सोएंगे, टेंट में बैठकर खाएंगे खाना

Bharat Jodo Yatra : कठिन राह पर निकले राहुल गांधी, अगले 150 दिनों तक कंटेनर में सोएंगे, टेंट में बैठकर खाएंगे खाना

07-Sep-2022

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार से कन्याकुमारी से कश्मीर तक 'भारत जोड़ो यात्रा' की शुरुआत करने जा रहे हैं। करीब 150 दिनों तक चलने वाली इस यात्रा के दौरान राहुल गांधी एक कंटेनर में रहेंगे।  'भारत जोड़ी यात्रा' के तहत राहुल गांधी कन्याकुमारी से कश्मीर तक राहुल अन्य नेताओं के करीब 150 दिनों तक 3,570 किलोमीटर की यात्रा करेंगे। इस दौरान वह किसी 5 स्टार होटल में नहीं, बल्कि कंटेनर में सोया करेंगे।

 पदयात्रा दो बैचों में चलेगी, एक सुबह 7-10:30 बजे से और दूसरी दोपहर 3:30 बजे से शाम 6:30 बजे तक। जहां सुबह के सत्र में कम संख्या में प्रतिभागी शामिल होंगे, वहीं शाम के सत्र में सामूहिक लामबंदी होगी। औसतन रोजाना लगभग 22-23 किमी चलने की योजना है।

कुछ कंटेनरों में स्लीपिंग बेड, शौचालय और एयर-कंडीशनर भी लगाए गए हैं। यात्रा के दौरान कई क्षेत्रों में तापमान और वातावरण में अंतर होगा। स्थान परिवर्तन के साथ भीषण गर्मी और उमस को देखते हुए व्यवस्था की गई है। लगभग 60 ऐसे कंटेनर तैयार किए गए हैं जहां एक गांव स्थापित किया गया है। रात्रि विश्राम के लिए कंटेनर को गांव के आकार में प्रतिदिन नई जगह पर खड़ा किया जाएगा। राहुल गांधी के साथ रहने वाले पूर्णकालिक यात्री एक साथ भोजन करेंगे।

सूत्रों ने आगे कहा कि राहुल गांधी भारत जोड़ो यात्रा यात्रा को आम लोगों से जुड़ने का जरिया मानते हैं। इसलिए वह इस पूरी यात्रा को चकाचौंध और ग्लैमर से दूर एक सरल तरीके से पूरा करना चाहते हैं। राहुल गांधी इसे एक यात्रा कहते हैं लेकिन राजनीतिक विश्लेषक इसे 2024 की तैयारी मानते हैं।

 

अमित शाह 8 सितंबर को राज्य सहकारिता मंत्रियों के दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे ?

07-Sep-2022

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह : 8 सितंबर को नई दिल्ली में राज्य के सहकारिता मंत्रियों के दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे। यह सम्मेलन आवश्यक विषयों पर प्रतिभागियों के बीच चर्चा और समन्वय के माध्यम से एक कार्यान्वयन योग्य नीति और योजना की रूपरेखा तैयार करने के लिए एक मंच प्रदान करेगा, जिसमें न केवल सहकारी समितियों के पूरे जीवन चक्र को शामिल किया जाएगा, बल्कि उनके व्यवसाय और शासन के सभी पहलुओं को भी शामिल किया जाएगा।सम्मेलन में केंद्रीय सहकारिता राज्य मंत्री बीएल वर्मा और सहकारिता मंत्री, अतिरिक्त मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव, सहकारी रजिस्ट्रार और देश की सभी 36 राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों के प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे. सम्मेलन में राष्ट्रीय सहयोग नीति और राष्ट्रीय सहकारी डेटाबेस जैसे नीतिगत मामलों के साथ-साथ हर पंचायत में प्राथमिक कृषि ऋण समितियों (पीएसीएस), कृषि आधारित और अन्य उत्पादों के निर्यात, जैविक उत्पादों के प्रचार और विपणन जैसी नई प्रस्तावित योजनाएं शामिल होंगी। नए क्षेत्रों में सहकारी समितियों का विस्तार।इसके अलावा, पैक्स और मॉडल उप-नियम, पैक्स कम्प्यूटरीकरण, निष्क्रिय पैक्स के पुनरोद्धार के लिए कार्य योजना, पैक्स के मॉडल उप-नियम, और राज्य सहकारी कानूनों में एकरूपता लाने से संबंधित मुद्दे भी सम्मेलन में चर्चा का हिस्सा होंगे। सम्मेलन में प्राथमिक सहकारी समितियों से जुड़े मामलों पर भी चर्चा होगी, दीर्घकालिक वित्तपोषण, दुग्ध सहकारी समितियों और मछली सहकारी समितियों को प्राथमिकता दी जाएगी।मंत्रालय के अनुसार, यह कदम इसलिए उठाया जा रहा है क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘सहकार से समृद्धि’ के अपने दृष्टिकोण के माध्यम से सहकारिता से जुड़े लोगों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इसी विजन को साकार करने के लिए पीएम मोदी के दूरदर्शी नेतृत्व में 6 जुलाई, 2021 को सहकारिता मंत्रालय का गठन किया गया।केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री के नेतृत्व में सहकारिता मंत्रालय सहकारिता क्षेत्र के विकास को नई गति देने, उसे मजबूत करने और सर्व समावेशी विकास का मॉडल बनाने पर लगातार काम कर रहा है. इससे पहले दिन में, शाह ने राष्ट्रीय सहयोग नीति दस्तावेज का मसौदा तैयार करने के लिए एक राष्ट्रीय स्तर की समिति के गठन की घोषणा की।सहकार से समृद्धि’ के विजन को साकार करने के लिए नई राष्ट्रीय सहकारी नीति तैयार की जा रही है। पूर्व केंद्रीय कैबिनेट मंत्री सुरेश प्रभाकर प्रभु की अध्यक्षता में राष्ट्रीय स्तर की समिति में देश के सभी हिस्सों से 47 सदस्य होते हैं। समिति में सहकारी क्षेत्र के विशेषज्ञ शामिल हैं; राष्ट्रीय, राज्य विज्ञापन जिला और प्राथमिक सहकारी समितियों के प्रतिनिधि; राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की सहकारी समितियों के सचिव (सहकारिता) और रजिस्ट्रार; और केंद्रीय मंत्रालयों के विभागों के अधिकारी।

Delhi Liquor Policy: शराब घोटाले में ED की छापेमारी पर मनीष सिसोदिया ने दी पहली प्रतिक्रिया, कहा- मैंने अपना काम...

06-Sep-2022

दिल्ली सरकार के शराब घोटाला मामले में सीबीआई के बाद अब ईडी की भी एंट्री हो गई है। आज ईडी के अधिकारियों ने दिल्ली-एनसीआर समेत देश के 6 राज्यों के 30 से अधिक ठिकानों पर छापेमारी की।

दिल्ली, गुरुग्राम, लखनऊ, मुंबई, बेंगलुरु और हैदराबाद समेत कई शहरों में शराब कारोबारियों के ठिकानों पर ईडी के अधिकारी पहुंचे हैं। दिल्ली सरकार द्वारा बीते दिनों लाई गई आबकारी नीति में कथित घोटाले को लेकर केन्द्रीय एजेंसियां जांच में जुटी हैं। इसकी जांच में सीबीईआई के बाद प्रवर्तन निदेशालय भी शामिल हो गया है।

छापेमारी के बीच दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया का बयान भी सामने आया है। उन्होंने कहा,'पहले इन्होंने सीबीआई के छापे मारे। कुछ नहीं मिला। अभी ईडी के छापे मारेंगे। इसमें कुछ नहीं निकलेगा। देश में जो शिक्षा का माहौल बना हुआ है, अरविंद केजरीवालजी जो काम कर रहे हैं, उसे रोकने का काम हो रहा है। लेकिन उसे रोक नहीं पाएंगे। यह सीबीआई यूज कर लें, ये ईडी यूज कर लें। उसे रोक नहीं पाएंगे शिक्षा के काम को रोक नहीं पाएंगे। मेरे पास ज्यादा सूचना नहीं है। मैंने ईमानदारी से काम किया है। 4 स्कूलों के नक्शे और उन्हें मिल जाएंगे।'

दरअसल, दिल्ली में केजरीवाल सरकार नई शराब नीति लेकर आई थी। इस नीति के आने के बाद दिल्ली के शराब कारोबारी ग्राहकों को डिस्काउंटेड रेट पर शराब बेच रहे थे। कई जगहों पर एक बोतल खरीदने पर दूसरी मुफ्त दी जा रही थी।

आबकारी नीति 2021-22 के चलते एक समय ऐसा भी आया था, जब दिल्ली में शराब दुकानों की संख्या करीब 650 पहुंच गई थी। जांच एजेंसी ने नई शराब नीति में घोटाला होने का दावा किया था, जिसके बाद उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने सीबीआई जांच की सिफारिश की थी। इसके बाद दिल्ली सरकार ने आबकारी नीति 2021-22 को वापस ले लिया था।

राज्य में 1 सितंबर से पुरानी शराब नीति दोबारा लागू कर दी गई है। नई नीति लागू होने से पहले ही कई लाइसेंस धारकों ने अपने लाइसेंस सरेंडर कर दिए थे।

शराब घोटाले में दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है। उन्हें इस मामले में मुख्य आरोपी बनाया गया है। सीबीआई ने शराब घोटाला मामले में उनसे लंबी पूछताछ भी की थी। सीबीआई की टीम ने डिप्टी सीएम के घर से सीक्रेट डॉक्यूमेंट भी बरामद किए थे।

कांग्रेस के हल्ला बोल की तैयारियां तेज, रायपुर से हजारों की संख्या में आज दिल्ली जायेंगे कांग्रेसी कार्यकर्ता

02-Sep-2022

महंगाई के विरोध में कांग्रेस एक बार फिर केन्द्र सरकार के खिलाफ बड़ा प्रदर्शन करने जा रही है। बढ़ती महंगाई को लेकर कांग्रेस ने केंद्र सरकार के विरोध में 4 सितंबर को दिल्ली के रामलीला मैदान में जोरदार प्रदर्शन करेगी।  प्रदर्शन में शामिल होने कांग्रेस के दिग्गज नेता व कार्यकर्ता आज रायपुर से रवाना होंगे। आज शाम 6 बजे स्पेशल ट्रेन से प्रदेशभर के हजारों की संख्या में कार्यकर्ता रवाना होने को तैयार हैं। साथ ही प्रदर्शन में पूरे देश से कांग्रेस के दिग्गज नेता दिल्ली पहुंचेंगे।

  1. सलमान खान के फैंस के लिए गुड न्यूज, इस तारीख से टेलीकास्ट होगा Bigg Boss 16

  2. अनुसूचित जाति में शामिल नहीं हो सकेंगी OBC की 18 जातियां, हाई कोर्ट ने रद की सभी अधिसूचनाएं

देश के इस बड़े प्रदर्शन में सभी राज्यों के कोंग्रेसी कार्यकर्ता शामिल होंगे। छत्तीसगढ़ की सरकार पिछली बार भी महंगाई के खिलाफ दिल्ली जाकर गांधी परिवार का साथ दिया था। अब दिल्ली में हो रही महारैली में भी छत्तीसगढ़ के नेताओं की भूमिका महत्वपूर्ण रहेगी। यहां से हज़ारों की संख्या में कांग्रेसी कार्यकर्ता आज शाम की स्पेशल ट्रेन से दिल्ली रवाना होंगे।

  1. PM Kisan 12th Instalment : किसानों के लिए गुड न्यूज! इस तारीख को खाते में आएगी अगली किस्त

  2. 1 सितंबर से बढ़ने वाले है खुले दूध के दाम चार रुपये का इजाफा जानिए? 

Ghulam Nabi Azad ने कांग्रेस से इस्तीफा दिया

26-Aug-2022

Ghulam Nabi Azad resigns: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने शुक्रवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता समेत सभी पदों से इस्तीफा दे दिया। वह लंबे से समय से पार्टी ने नाराज बताए जा रहे हैं। कांग्रेस ने उन्हें राज्यसभा नहीं भेजा था। बता दें कि कुछ दिन पहले ही आजाद ने कश्मीर में पार्टी के प्रचार समिति से इस्तीफा दे दिया था। सोनिया गांधी को संबोधित अपने इस्तीफे में आजाद ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता समेत सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है।

गुलाम नबी आजाद ने सोनिया गांधी को अपना 5 पेज का इस्तीफा सौंपा है। इस्तीफे ने गुलाम नबी आजाद ने कहा कि राहुल गांधी ने पार्टी में आतंरिक लोकतंत्र को पूरी तरह से खत्म कर दिया है। आजाद ने पत्र में कहा कि बीते कुछ सालों में राहुल गांधी ने सीनियर लीडर को दरकिनार कर दिया है। कांग्रेस में इन दिनों राहुल गांधी और सोनिया गांधी की दो टीम काम कर रही है। राहुल गांधी लगातार पार्टी के संविधान को दरकिनार करते हुए काम कर रहे हैं।

  1. Acid Attack On Dog : रायपुर के सदर बाजार में युवक ने कुत्तों पर डाला एसिड...चेहरे और शरीर के अंग गले

  2. Tomato Flu: केंद्र ने राज्यों को टोमैटो फ्लू पर जारी की एडवाइजरी, बच्चों में 82 मामले मिले, जानिए लक्षण

  3. कुश्ती में कांस्य पदक जीतकर देश से माफी मांगने पर पहलवान पूजा गहलोत को प्रधानमंत्री मोदी ने दी बधाई

छत्तीसगढ़ में आज 28 जिला मुख्यालयों पर हड़ताल करेंगे संविदा कर्मचारी, सर्विस नियमित करने की मांग

26-Aug-2022

छत्तीसगढ़ में करीब पांच लाख कर्मचारी पिछले तीन दिन से DA और HRA की मांग को लेकर हड़ताल पर हैं। वहीं, अब शुक्रवार को प्रदेश के 1 लाख 80 हजार संविदा कर्मचारियों ने भी एक दिवसीय हड़ताल पर जाने का ऐलान कर दिया है।

गुरुवार को संघ के पदाधिकारियों और कर्मचारियों ने नियमितीकरण की मांग को लेकर बिलासपुर में CMHO से मिलकर हड़ताल पर जाने जानकारी दी है। संविदा कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ ही वैक्सीनेशन भी ठप रहेगा। दूसरे विभागों के काम-काज पर भी असर पड़ेगा।
कौशलेश तिवारी ने कहा कि 4 वर्ष होने को आए पर एक भी वेतनवृद्धि नहीं मिली है। ऐसे में अत्यंत अल्प वेतन में संविदाकर्मी कार्य करने पर मजबूर हैं। इनमें से अधिकांश ने सरकारी सेवा के लिए निर्धारित न्यूनतम आयु पार कर चुके हैं, जिससे वे दूसरी नौकरी में भी नहीं जा सकते और कम से कम वेतन में ही जीविकोपार्जन के लिए मजबूर हैं।

उन्होंने कहा कि शुक्रवार को संविदा कर्मचारी अपने-अपने क्षेत्र के स्थानीय प्रशासन, विधायकों और सांसदों को अपनी मांगों का ब्योरा देते हुए ज्ञापन सौंपेंगे। तिवारी ने कहा कि मांगे पूरी न होने पर वे अनिश्चितकालीन हड़ताल का सहारा लेंगे।

 

  1. मंदिर में मुस्लिम मंत्री के प्रवेश पर बवाल, नीतीश कुमार ने जताई नाराजगी, 21 पुरोहितों ने किया विष्णुपद मंदिर का ‘शुद्धिकरण’ 

  2. CG TET 2022 : छत्तीसगढ़ शिक्षक पात्रता परीक्षा का आवेदन शुरू, जानें कब होंगे एग्जाम 

  3. Acid Attack On Dog : रायपुर के सदर बाजार में युवक ने कुत्तों पर डाला एसिड...चेहरे और शरीर के अंग गले

 

 

मंदिर में मुस्लिम मंत्री के प्रवेश पर बवाल, नीतीश कुमार ने जताई नाराजगी, 21 पुरोहितों ने किया विष्णुपद मंदिर का ‘शुद्धिकरण’

25-Aug-2022

Gaya Vishnupad Temple : विश्व प्रसिद्ध विष्णुपद मंदिर (Gaya Vishnupad Temple) के मुख्य द्वार पर अहिंदू प्रवेश वर्जित लिखा हुआ है, जिसका पालन करने की परंपरा गया पाल पंडा करते हैं। इधर, सोमवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार गया दौरे पर आए थे। विष्णुपद मंदिर के गर्भ में पूजा अर्चना की। उनके साथ पार्टी के नेता-कार्यकर्ता सहित बिहार सरकार के सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री सह गया जिला प्रभारी मंत्री मोहम्मद इसराइल मंसूरी (Minister Mohamed Israel Mansoori) भी गर्भ गृह में सीएम नीतीश कुमार के साथ मौजूद थे। अब इस मामले ने तूल पकड़ लिया है।

बीजेपी विधायक हरिभूषण ठाकुर बचौल ने मामले पर बड़ा बयान दिया है। ''इसराइल मंसूरी जो बिहार सरकार में मंत्री हैं वो भी विष्णुपद मंदिर में गए थे। मंदिर को अपमानित किया गया है। मंदिर में स्पष्ट लिखा हुआ है कि दूसरे धर्म के लोग नहीं प्रवेश कर सकते हैं। करोड़ों सनातनी और हिन्दुओं के साथ मुख्यमंत्री जी ने आहत किया है।

''- हरिभूषण ठाकुर बचौल, बीजेपी विधायक 'मुझे सौभाग्य प्राप्त हुआ' : सोमवार को सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री सह गया जिले के प्रभारी मंत्री मोहम्मद इसराइल मंसूरी ने कहा था कि सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ उन्हें विष्णुपद मंदिर में दर्शन करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। मंदिर में दर्शन की तस्वीर और वीडियो सूचना जनसंपर्क पदाधिकारी द्वारा जारी की गई है। 'कमेटी बैठक करके निर्णय लेगी' : वहीं, इस संबंध में विष्णुपद मंदिर प्रबंध कारिणी समिति के सचिव गजाधर लाल पाठक ने बताया कि आज तक ऐसा नहीं हुआ था। परंपरा चली आ रही है, कि अहिंदू प्रवेश मंदिर में वर्जित है। मंदिर की स्थापना इंदौर की महारानी अहिल्याबाई होलकर ने कराई थी। अगर हिंदू प्रवेश की परंपरा टूटी है तो कमेटी बैठक करके निर्णय लेगी।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने कैबिनेट सहयोगी इसराइल अहमद मंसूरी के एक मंदिर जाने को लेकर हुए विवाद पर बुधवार को नाराजगी जताई है। इस मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विधानसभा परिसर में अपने पूर्व सहयोगी भारतीय जनता पार्टी की ‘‘विभाजनकारी’’ राजनीति को इस विवाद के लिए जिम्मेदार ठहराया है।

उन्होंने कहा कि गैर हिन्दू प्रवेश से हिन्दुओं को भावनाएं आहत हुई हैं तथा तरह-तरह की बातें हो रही थीं। इसी को ध्यान में रखते हुए आज मंदिर परिसर के अंदर शुद्धीकरण पूजा की गई है। उन्होंने बताया कि विशेष उपचार पूजा व दुग्ध अभिषेक, पंचामृत स्नान और तुलसी अर्चना के साथ शुद्धिकरण किया गया है, साथ ही पूरे मंदिर को गंगा जल से धोया गया है। इस पूजा में करीब 21 पुरोहित और ब्राह्मण, आचार्य शामिल हुए। उन्होंने कहा कि भगवान से प्रार्थना की गई कि भूल से अगर हमारे या हमारे समाज के तरफ से कोई गलती हो गई हो तो उसे क्षमा करें और विश्व का कल्याण करें।

अध्यक्ष पद से इनकार, भारत जोड़ने में जुटे राहुल:7 सितंबर से यात्रा, राहुल गांधी अगुआई करेंगे; कॉस्टिट्यूशन क्लब में मीटिंग खत्म

23-Aug-2022

Congress Bharat Jodo Yatra: कांग्रेस पार्टी इस वक्त अपनी 'भारत जोड़ो यात्रा' की तैयारियों में जोर-शोर से जुट गई है। इस बीच कांग्रेस की इस यात्रा को अब 150 सिविल सोसायटी ऑर्गेनाइजेशन का साथ भी मिल गया है। समर्थन करने वाले लोगों में योगेंद्र यादव, अरुणा राय, सैयदा हमीद आदि शामिल हैं।

कन्याकुमारी से कश्मीर तक होने वाली कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा (Bharat Jodo Yatra) 7 सितंबर 2022 से शुरू होगी। 3500 किलोमीटर की यह यात्रा 12 राज्यों और 2 केंद्र शासित प्रदेशों तक जाएगी। पांच महीने की इस पदयात्रा का राहुल गांधी खुद तमिलनाडु से 7 सितंबर को आगाज करेंगे।  कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश मुताबिक यात्रा के जरिए कांग्रेस पार्टी देश के 12 राज्यों और 2 केंद्र शासित प्रदेशों को कवर करेगा।

 

  1. रायपुर-जगदलपुर हाईवे पर भीषण हादसा, बस-कार की टक्कर से 5 की मौत 

  2. कोई मंत्री गाड़ी नहीं खरीदेगा, किसी को पांव नहीं छूने देगा', तेजस्वी ने अपने नेताओं को दिए छह निर्देश 

  3. CBI Raid: मनीष सिसोदिया के घर सीबीआई छापा, जानिए क्या है पूरा मामला? 

  4. Wifi देगा धुआंधार इंटरनेट स्पीड, बस करना होगा ये डिवाइस इस्तेमाल

कोई मंत्री गाड़ी नहीं खरीदेगा, किसी को पांव नहीं छूने देगा', तेजस्वी ने अपने नेताओं को दिए छह निर्देश

20-Aug-2022

बिहार में डिप्टी सीएम की कुर्सी संभालने के बाद से तेजस्वी यादव लगातार एक्शन में हैं। बात चाहे विभिन्न विभागों के समीक्षा की हो या फिर अपने अधिकारियों को निर्देश देने की, तेजस्वी लगातार काम करते दिख रहे हैं। इस क्रम में तेजस्वी यादव ने अपनी पार्टी यानी राजद के कोटे से मंत्री बने विधायकों/विधान पार्षदों के लिए भी गाइडलाइन जारी किया है। इस गाइडलाइन में तेजस्वी ने सारी चीजों का उल्लेख किया है, जिससे किसी भी तरह से उनकी या फिर सरकार की आलोचना न हो।

1) सरकार में राष्ट्रीय जनता दल के कोटे से बने मंत्री विभाग में अपने लिए कोई नई गाड़ी नहीं खरीदेंगे।

2) राष्ट्रीय जनता दल के मंत्री उम्र में उनसे बड़े कार्यकर्ता, शुभचिंतक, समर्थक या किसी भी अन्य व्यक्ति को पांव नहीं छूने देंगे। शिष्टाचार और अभिवादन के लिए हाथ जोड़कर प्रणाम, नमस्ते व आदाब की परंपरा को ही बढ़ावा देंगे।

3) सभी मंत्रियों से आग्रह है कि उनका सभी के साथ सौम्य और शालीन व्यवहार हो तथा बातचीत सकारात्मक रहे। सादगी से पेश आते हुए सभी जाति/धर्म के गरीब एवं जरुरतमंद लोगों को अविलंब प्राथमिकता के आधार पर मदद करेंगे।

4) किसी से भेंट स्वरूप पुष्पगुच्छ/गुलदस्ता लेने-देने के स्थान पर किताब-कलम के आदान-प्रदान को बढ़ावा देंगे। और इस आशय का आग्रह लगातार करेंगे।

5) सभी विभागीय कार्यों में माननीय मुख्यमंत्री के नेतृत्व में ईमानदारी, पारदर्शिता, तत्परता और त्वरित क्रियान्वयन की कार्यशैली को बढ़ावा देंगे।

 

6) सभी माननीय मंत्रीगण आदरणीय मुख्यमंत्री जी, बिहार सरकार एवं अपने अधीनस्थ विभागों, कार्य योजनाओं और विकास कार्यों का सोशल मीडिया पर लगातार प्रचार-प्रसार करेंगे ताकि जनता को आपके हरेक पहलकदमी की सकारात्मक जानकारी प्राप्त हो सके।

तेजस्वी यादव की ये गाइडलाइन ऐसे वक्त आई है जब बिहार में महागठबंधन के मंत्री लगातार आपराधिक मामलों से लेकर मंत्री के प्रोटोकॉल को तोड़ने को लेकर विपक्ष के निशाने पर हैं। पिछले दिनों ही तेजस्वी के बड़े भाई और बिहार सरकार में मंत्री तेजप्रताप यादव विभाग की एक बैठक में अपने जीजा शैलेश कुमार के साथ दिखे थे, जिसके बाद से विपक्ष नीतीश सरकार पर लगातार हमलावर है।

पीएम नरेंद्र मोदी के पास कितनी संपत्ति है, प्रधानमंत्री कार्यालय ने दी जानकारी

10-Aug-2022

बता दें कि पिछले वित्त वर्ष में सभी 29 कैबिनेट मंत्रियों ने अपनी और अपने आश्रितों की संपत्ति घोषित की थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास 2.23 करोड़ रुपए करीब की प्रॉपर्टी है। इसमें से ज्यादातर संपत्ति बैंक डिपॉजिट के रूप में है। आपको हैरानी होगी कि  PM मोदी के पास कोई भी अचल संपत्ति नहीं है। यानी घर-जमीन आदि। उनके पास पहले गुजरात के गांधीनगर में जमीन थी। इस जमीन की कीमत 1.1 करोड़ रुपए आंकी गई है। लेकिन इसे वो दान कर चुके हैं। मोदी ने अक्टूबर 2002 में गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए यह जमीन खरीदी थी। इस जमीन के 3 और पार्टनर थे। इसमें PM की एक चौथाई ( 25%) हिस्सेदारी थी। 

प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) की वेबसाइट पर PM मोदी की संपत्ति के डिक्लेरेशन से पता चलता है कि 31 मार्च 2022 तक मोदी की कुल संपत्ति 2 करोड़ 23 लाख 82 हजार 504 रुपए थी। मोदी की चल संपत्ति में पिछले साल की तुलना में 26.13 लाख रुपए की बढ़ोतरी हुई है। आज के समय में फोर व्हीलर होनाआम बात है, लेकिन मोदी के पास कोई व्हीकल नहीं है। उनके पास सोने की 4 अंगूठियां हैं। इनकी कीमत 1.73 लाख रुपए बताई जाती है। 31 मार्च, 2021 तक प्रधानमंत्री के पास 1.1 करोड़ रुपए की अचल संपत्ति थी। 31 मार्च 2022 तक की जानकारी के अनुसार, प्रधानमंत्री के पास कुल 35,250 रुपए कैश थे। जबकि पोस्ट आफिस में उनके नाम पर 9 लाख 5 हजार 105 रुपए के नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट जमा हैं। मोदी के नाम 1 लाख 89 हजार 305 रुपए का लाइफ इंश्योरेंस भी बताए गए हैं।

पहली बार सिर्फ 7 दिन के लिए CM, कभी NDA तो कभी महागठबंधन, जानें 22 साल में नीतीश ने कितनी बार लिया यू-टर्न

10-Aug-2022

बिहार की राजनीतिक चौरस को नीतीश कुमार ने कुछ ऐसा साध रखा है कि पासा चाहे जो भी पड़े, दांव उन्हीं का लगता है। इस बार भी कुछ ऐसा ही होने जा रहा है। गठबंधन चाहे बीजेपी से हो या आरजेडी के साथ लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ही बने। ऐसा ही एक बार फिर होने जा रहा है। नीतीश कुमार बीजेपी से गठबंधन खत्म कर आरजेडी के साथ मिलकर बिहार में सरकार बनाने जा रहे हैं जिसमें वो मुख्यमंत्री बने रहेंगे।

पहले जानते हैं कैसे बढ़ी जदयू- भाजपा के बीच दूरी

भाजपा और जदयू के बीच दूरी बढ़ने की शुरुआत कुछ महीने पहले हुई थी। जाति आधारित जनगणना के मुद्दे पर नीतीश कुमार भाजपा से अलग-थलग नजर आए और उन्होंने विपक्षी दलों के साथ जाति आधारित जनगणना की मांग की। जानकारी के अनुसार सरकार चलाने में फ्री हैंड नहीं मिलने के अलावा नीतीश चिराग प्रकरण के बाद आरसीपी प्रकरण से भाजपा से खफा हैं। बीते कुछ महीने में नीतीश ने कई अहम बैठकों से दूरी बनाई है। कुछ महीने पूर्व नीतीश पीएम की कोरोना पर बुलाई गई बैठक से दूर रहे। हाल में पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के सम्मान में दिए गए भोज, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के शपथ ग्रहण समारोह से भी दूरी बनाई। इससे पहले गृह मंत्री अमित शाह की ओर से बुलाई गई मुख्यमंत्रियों की बैठक से दूरी बनाने के बाद अब नीति आयोग की बैठक से भी दूर रहे।

  • आइए जानते हैं कब-कब नीतीश कुमार (Nitish Kumar) बने सीएम-
  • 2000 में JDU-BJP गठबंधन था।बहुमत नहीं था इसलिए 10 दिनों में इस्तीफा देना पड़ा
  • 2005 में JDU-BJP गठबंधन था। ये कार्यकाल उन्होने पूरा किया और 5 साल सरकार चली
  • 2010 में नीतीश कुमार ने तीसरी बार सीएम पद की शपथ ली
  • 2014 में नीतीश कुमार ने फिर इस्तीफा दिया और जीतन राम मांझी को CM बनाया
  • 2015 में JDU-RJD के बीच महागठबंधन हुआ और नीतीश के नेतृत्व में सरकार बनी
  • 2017 में महागठबंधन से अलग हुए और BJP के साथ मिलकर फिर सरकार बनाई
  • 2020 में विधानसभा चुनाव हुए JDU-BJP गठबंधन को बहुमत मिला
  • 2020 में 45 सीट आने के बाद भी नीतीश ही सीएम बने

जनता दल (यूनाइटेड) बनाने से पहले, नीतीश कुमार जनता पार्टी, समता पार्टी और जनता दल का हिस्सा थे। मई 2014- फरवरी 2015 को छोड़कर, नीतीश कुमार नवंबर 2005 से बिहार के मुख्यमंत्री बने हुए हैं। हालांकि उनकी पार्टी ने कभी भी अपना बहुमत नहीं जीता है, यह रणनीतिक गठबंधनों के कारण सरकार का हिस्सा रही है। हालांकि इसने 2005 और 2010 में भाजपा के साथ गठबंधन में बिहार में सरकार बनाई, लेकिन जून 2013 में नरेंद्र मोदी को एनडीए के पीएम चेहरे के रूप में उभरने पर आपत्ति जताते हुए उसने भाजपा छोड़ दिया।

Nitish Kumar Resigns: नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद से दिया इस्तीफा, अब महागठबंधन के साथ बनाएंगे सरकार

09-Aug-2022

बिहार में जारी सियासी उठापटक के बीच नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा (Nitish Kumar Resigns) दे दिया है। नीतीश कुमार ने राजभवन पहुंचकर राज्यपाल फागू चौहान को इस्तीफा सौंपा। इससे पहले JDU विधायकों के साथ बैठक के बाद नीतीश कुमार ने BJP के साथ गठबंधन तोड़ने का फैसला लिया था। खबर है कि वह राजद के साथ मिलकर नई सरकार का गठन करेंगे।

राज्यपाल को इस्तीफा सौंपने के बाद नीतीश कुमार आरजेडी नेता तेजस्वी यादव से मिलने के लिए निकल गए। इससे पहले नीतीश कुमार ने जदयू (JDU) के सांसदों, विधायकों और वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की थी। इस बैठक में नीतीश कुमार ने कहा कि बीजेपी (BJP) ने हमेशा अपमानित किया और जेडीयू को खत्म करने की साजिश रची गई है। सीएम से कहा कि 2020 से ही उनका वर्तमान गठबंधन उन्हें कमजोर करने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने चिराग पासवान का नाम लिए बिना कहा कि वह एक ऐसा उदाहरण थे। सीएम ने कहा कि अगर वे अभी सतर्क नहीं हुए तो ये पार्टी के लिए अच्छा नहीं होगा।

जदयू के अलावा आज महागठबंधन की बैठक भी हुई है। इस बैठक में राजद विधायक, एमएलसी और राज्यसभा सांसदों ने पार्टी नेता तेजस्वी यादव को फैसला लेने के लिए अधिकृत किया और कहा कि वे उनके साथ हैं। कांग्रेस और वाम दलों के विधायक पहले ही कह चुके हैं कि वे तेजस्वी यादव के साथ हैं। राजद सूत्रों का कहना है कि पूर्व सीएम लालू प्रसाद यादव भी हर हलचल पर करीब से नजर रख रहे हैं, लेकिन सब कुछ तेजस्वी यादव कर रहे हैं। आरजेडी नीतीश कुमार को समर्थन दे सकती है।

 


Previous12345678Next